31 July 2014

एक सिगरेट-सी दिल में सुलगी कसक और ब्लौगिंग के छ साल

कैसे तो कैसे बीत जाता है ये कमबख़्त वक़्त और हम खर्च होते रहते हैं इसके इस बीतते जाने में...नामालूम से | पता भी नहीं चला और इस ब्लौग पर लिखते-लिखते छ साल हो गए | तो "पाल ले इक रोग नादां..." की छठी पर एक पुरानी ग़ज़ल :- 

उफ़ ये कैसी कशिश ! बेबसी ? हाँ वही !
बेख़ुदी ? बेक़सी ? हाँ वही ! हाँ वही !

करवटों ने सुनी फिर कहानी कोई
रतजगों से जो लिक्खी गई ? हाँ वही !

एक सिगरेट-सी दिल में सुलगी कसक
अधजली, अधबुझी, अधफुकी ? हाँ वही !

सुब्ह बेचैन है, दिन परेशान है
रात की हाय ये दिल्लगी ? हाँ वही !

फोन पर बात तो होती है खूब यूँ
तिश्नगी फोन से कब बुझी ? हाँ वही !

सैकड़ों ख़्वाहिशें सर पटकती हैं रोज़
देख कर जेब की मुफ़लिसी ? हाँ वही !

ज़िंदगी जैसे हो इक अधूरी ग़ज़ल
काफ़ियों में ही उलझी हुई ? हाँ वही !
('लफ़्ज़' , 'गुफ़्तगू' और 'अभिनव प्रयास' में प्रकाशित)


12 comments:

  1. लाजवाब !
    हमेशा की तरह उम्दा गजल.

    ReplyDelete
  2. सैकड़ों ख़्वाहिशें सर पटकती हैं रोज़
    देख कर जेब की मुफ़लिसी ? हाँ वही !
    बहुत खूब...
    ब्लॉग की छठी सालगिरह मुबारक हो

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत बेहतरीन !!!

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग की छठी सालगिरह मुबारक हो

    ReplyDelete
  5. ज़िंदगी जैसे हो इक अधूरी ग़ज़ल
    काफ़ियों में ही उलझी हुई ? हाँ वही !
    बहुत खू हमेशा की तरह लाजवाब्1 ब्लोग की छ ठी साल गिरह की बहुत बहुत बधाई शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. आप को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  7. दिल को छू जाने वाली है ये जिंदगी की गज़ल । स्वतंत्रता दिवस की बहुत शुभ कामनाएं।

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन प्यारेलाल! उम्दा और प्रयोगात्मक ग़ज़ल! दिल छू लेने वाले अशआर !

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !