18 January 2010

घर में सूबेदारनी के क्या दिवाली फाग क्या

कई दिनों से अपनी कोई ग़ज़ल नहीं लगायी थी मैंने ब्लौग पर, तो आज मूड-सा बना ग़ज़ल का। पुरानी ग़ज़ल है, जिसे शायद कुछ सुधि पाठकों ने कोलकाता से निकलने वाली मासिक पत्रिका वागर्थ के अक्टूबर 09 वाले अंक में पढ़ा होगा और कुछ पाठकों ने साहित्य-शिल्पी पर भी पढ़ा होगा। एक बचपन से मुझे हिंदी-साहित्य के कुछ कहानिकारों ने अजब मोह-पाश में बाँध रखा है। कुछ नाम जैसे कि गुलेरी, मोहन राकेश, कमलेश्रर, मंटो, मन्नु भंडारी, अमृता प्रीतम और प्रेमचंद...उनके रचे चरित्र अजीबो-गरीब ढ़ंग से जुड़ आते थे(हैं) मेरी रोजमर्रा की जिंदगी में। दो साल पहले इन्हीं कुछ चरित्रों को लेकर ग़ज़ल के कुछ अशआर बुनने शुरु किये, जो बाद में गुरुजी के आशिर्वाद से मुक्कमल हुई। पेश है वही ग़ज़ल:-

जल गई है फ़स्‍ल सारी पूछती अब आग क्या
राख पर पसरा है "होरी", सोचता निज भाग क्या

ड्योढ़ी पर बैठी निहारे शह्‍र से आती सड़क
"बन्तो" की आँखों में सब है, जोग क्या बैराग क्या

खेत सारे सूद में देकर "रघू" आया नगर
देखता है गाँव को मुड़-मुड़, लगी है लाग क्या

चांद को मुंडेर से "राधा" लगाये टकटकी
इश्क के बीमार को दिखता है कोई दाग क्या

क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

किरणों के रथ से उतर क्या आयेगा कोई कुँवर
सोचती है "निर्मला", देहरी पे कुचड़े काग क्या

जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

...कुछ गुरुजन लोग आपत्ति उठायेंगे ग़ज़ल के चौथे और पाँचवें शेर के काफ़ियों पर। कायदे से इन दोनों काफ़ियों को नुक्ते के साथ आने चाहिये और इस लिहाज से ये अशआर खारिज हो जाते हैं। गुरुजनों की तमाम आपत्तियाँ सर-आँखों पर, किंतु इन काफ़ियों को प्रचलित हिन्दुस्तानी उच्चारणों को ध्यान में रखकर अशआर बुने गये हैं।

इस बहरो-वजन पे खूब प्यारी ग़ज़लों और गीतों को लिखा गया है बड़े-बड़े शायरों और कवियों द्वारा। मेरे इस ब्लौग के नाम के लिये प्रयुक्त हुआ फ़िराक गोरखपुरी का ये शेर "पाल ले इक रोग नादां..." इसी बहर में है। इस बहर पे कुछ अन्य लोकप्रिय ग़ज़लें जो याद आ रही हैं "चुपके-चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है" और "होश वालों को खबर क्या जिंदगी क्या चीज है" या फिर "हमको किस के ग़म ने मारा ये कहानी फिर सही" और एक-दो फिल्मी गीत जो इसी बहरो-वजन पर लिखे गये हैं और जो मुझे इस वक्त याद आ रहे हैं...लता दी का गाया "आपकी नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे" और किशोर दा का युगल-गीत "आपकी आँखों में कुछ महके हुये से राज हैं" और फिर रफ़ी साब का गाया "दर्दे-दिल दर्दे ज़िगर दिल में जगाया आपने"...।

फिलहाल इतना ही...जल्द ही मिलता हूँ अपनी अगली पोस्ट के संग।

(हंस के मार्च २०१० अंक में भी प्रकाशित)

73 comments:

  1. जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

    बहुत बढ़िया समा बाँधा है जी!

    ReplyDelete
  2. कितना साहित्य समेट लिया !

    वाह !

    ReplyDelete
  3. पहला कमेन्ट..
    अपना जीमेल एकाउंट खोलने के लिए था मेजर साब.....

    ग़ज़ल....उस के बाद कई बार सुनी है....
    क्लास में हर साल जो आता था अव्वल मोहना...
    सभी तो फिदा हो गए थे इस शेर पर....रुक कर कहा था मुक़र्रर....
    एक इमेज बन गयी थी...दर्पण के मन में...


    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

    किसी विरहन के लिए त्यौहार पर ऐसा शेर पहले कभी नहीं सुना.....अर्श ने कहा था...


    खेत सारे सूद में देकर "रघू" आया नगर
    देखता है गाँव को मुड़-मुड़, लगी है लाग क्या

    चांद को मुंडेर से "राधा" लगाये टकटकी
    इश्क के बीमार को दिखता है कोई दाग क्या

    हम रघु पर कितने ठिठक गए थे....


    सभी ने तो इश्क के बीमार का दाग़ ...उस दिन ओके कर दिया था मेजर साब...
    अब काहे कि फ़िक्र....??

    और अंत में मुफलिस जी ने पूरी ग़ज़ल कि तारीफ़ हम सब से ज्यादा कि थी...
    ये बात आज भी जलाती है हमें..

    :(
    :(
    ..........................................
    ......................................................

    :)
    :::::::::)))))))))
    ::::::))))))))))))))))))))))

    ReplyDelete
  4. कितना दूर दूर तक निकले आप हर शेर के साथ...अद्भुत!!

    बस इतना कह सकते हैं-बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  5. क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना",
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’...

    मेजर साहब, अल्टीमेट...इसके आगे सुनने-कहने को कुछ रह जाता है क्या...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. अब आप के शैर बंदिश से ऊपर उठ रहे हैं।

    ReplyDelete
  7. गौतम जी आदाब
    ये तो अलग ही अंदाज देखने को मिला आपका
    हर किरदार की कहानी दो मिसरों में समेट दी
    वो भी इतनी खूबसूरती के साथ
    आपके फन को सलाम.!!
    और हां, आज 'जज्बात' पर 'आपका' ही ज़िक्र है
    तशरीफ लाईयेगा
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत ग़ज़ल
    शेर अपने सरोकारों से जुड़े हैं. जीवन के विविध रंगों का समावेश हैं, चिंता है, दुविधा है और प्रेम भी.

    ReplyDelete
  9. गौतम जी
    महान साहित्य शिल्पियों के महान पात्रों पर क्या ताना बना बुना है आपने.......चौथे पांचवें शेर में जो कमी है वो छुप जाती है वजह यह कि उच्चारण (फोनेटिक) के लिहाज़ से तो यह और भी फब रहा है.......हुज़ूर क्या खूब कलेजा पाया है आपने......इतने मुश्किल प्लाट पर क्या बेहतरीन लिखा है...........प्रोज को पढ़ कर पोएट्री में यह ख़ूबसूरत तब्दीली....यह आपकी ही कुव्वत है मेजर साब...... ........! एक बात खटकी है वोह फ़ोन पर करूंगा.......!
    होरी ,बन्तो, रघु, निर्मला.......सब के सब जेहन में बसे हुए है.........उसी शिद्दत से !

    ReplyDelete
  10. ग़ज़ल से संबंधित अन्य जो बातें जानने को मिलती हैं वो बहुत अच्छा लगता है

    ReplyDelete
  11. वाह हम भी पढ़ और सीख रहे हैं, गजल ।

    ReplyDelete
  12. gautam ji ,

    namaskar.. bahut der se aapki is gazal ko padhraha hoon aur un saare charitro ko yaad kar raha hoon jo ki hamaare amar sahityakaaro ne racha hai .. aapki is naayab koshish ko salaam, padhkar hi bahut kuch yaad ho aaya .. saari gazal ke kya kahne ..lekin ek sher man me jaakar baith gaya hai ...

    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

    main ab aur kuch na kah sakunga ji..

    aapka

    vijay

    ReplyDelete
  13. ये है हिंदी ग़ज़ल का नया अंदाज़ और क्या ख़ूब अंदाज़ है....गौतम प्यारे ! हिंदी कविता से चरित्रों के गायब होते जाने की टीस सी हमेशा मेरे मन में रहती है...तुमने तो एक पूरा ताना बाना बुन दिया...उन चरित्रों का जो अब अपने वर्ग के स्थायी प्रतिनिधि बन चुके हैं.

    ReplyDelete
  14. गौतम जी जब साहित्य शिल्पी पर ये ग़ज़ल पढ़ी थी तो पढ़ कर अवाक रह गया था...आपकी इस सोच को सलाम...साहित्य में हमेशा जिन्दा रहने वाले इन किरदारों को आपने बहुत ख़ूबसूरती से पिरोया है अपनी ग़ज़ल में...इसकी जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है...
    नीरज

    ReplyDelete
  15. क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    विडम्बना नहीं तो और क्या है ये है ओह !!!!!!!!!!!!!!!

    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

    पति में ही अपनी दुनिया बसाती है हमारे देश की हर स्त्री
    "तुम प्रेम गीत मैं एक कविता
    तुम निर्बाध संगीत मैं सुर सरिता
    तुम निर्भीक व्योम मैं ध्रुव तारा
    तुम चंचल चपला मैं अम्बर सारा
    तुम पुण्य प्रसून मैं वरमाला
    तुम गीत विरह का मैं पांव का छाला
    तुम मदिरा मैं मय का प्याला
    तुम जीवन संध्या मैं सानिध्य तुम्हारा
    तुम अंतिम साँसें मैं तुलसी दल बेचारा
    तुम सात जनम मैं साथ तुम्हारा"


    बहुत कुछ कह गए आप अपनी इस कविता में हर शब्द हमेशा की तरह बोलता हुआ और दिल को गहराई तक छूता हुआ. जानकारी तो उससे भी अच्छी है

    ReplyDelete
  16. खेत सारे सूद में देकर "रघू" आया नगर
    देखता है गाँव को मुड़-मुड़, लगी है लाग क्या

    kahaniyon ke naykon ke aadhar par gazal ke she'r ......touba .....kuch chodenge ya नहीं आप .....??

    ReplyDelete
  17. "क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’"
    पढ़ने आया हूँ और पढ़ लिया.

    ReplyDelete
  18. ग़ज़ल के व्याकरण ज्ञान में तो हम डब्बा हैं ,पर भाव और रवानगी स्वतः ही ह्रदय भूमि का स्पर्श कर मन आह्लादित कर , झूम कर ...वाह !!!...कहने को विवश कर देता है... !!!
    सचमुच लाजवाब रचना है !!! हर शेर झूमने को मजबूर करता हुआ....

    ReplyDelete
  19. क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’


    ये शेर तो जैसे मोहना की एक तस्वीर सी भी दिखा गया

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब गौतम जी
    अपने तो कहर ही ढा दिया
    बेहतरीन ग़ज़ल का खुबसूरत शेर
    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या
    बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  21. कितने सारे किरदारों को समेट लिया इस ग़ज़ल में....और सभी किरदारों की आत्मा भी जीवित रखी...बहुत खूब
    फिर से एक बार इन सारे चरित्रों से इतनी खूबसूरती से रु-ब-रु कराने का शुक्रिया...

    ReplyDelete
  22. चांद को मुंडेर से "राधा" लगाये टकटकी
    इश्क के बीमार को दिखता है कोई दाग क्या
    .............
    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या
    .........bahut kuch samet liya hai isme

    ReplyDelete
  23. आज आपने दिल को गमजदा कर दिया ...
    मीत

    ReplyDelete
  24. जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या ...

    बहुत ही खूब मेजर साहब ........ दिलकश ग़ज़ल है ... किताबों में बिखरे पात्र जैसे बोलने लगे हैं ....... इस बाहर में इतने सारे गीत हैं ये जान कर और भी अच्छा लगता है ..... आपकी ग़ज़ल भी गीत के बोलों पर गाने का मान करता है .......

    ReplyDelete
  25. लाजवाब ,कमाल का हर लफ्ज़ है सब चरित्र जैसे सामने घुमने लग गए ...बहुत खूब ..आपकी कलम को सलाम ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  26. कविता बनते बनते गजब बन जाती है ,,,
    सहज और प्रभावोत्पादक ...
    यहाँ तो यह बात बखूबी दिखती है ---
    '' क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’ ''
    .......... आभार साहब

    ReplyDelete
  27. गौतम जी.... आप अद्भुत हैं सच में.....

    क्या मुझे चेला बनाना पसंद करेंगे? मैंने तो गुरु मान लिया है.....

    ReplyDelete
  28. बहुत भावपूर्ण -शुक्रिया !

    ReplyDelete
  29. होरी, बंतो, रघू, राधा, निर्मला जैसे कालजयी पात्रों का संदर्भ न भी लिया जाय तो भी प्रत्येक शेर अपनी कहानी स्वयं कहने में पूरी तरह समर्थ है. यदि पात्रों को ध्यान में रखा जाय तो इसे गजल में नया प्रयोग समझा जाना चाहिए.

    इस शेर को पढकर तो अवाक हुए बिना नहीं रहा जाता..

    -क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    ...आपका आभारी हूँ ..इस गजल को पढाने के लिए.

    ReplyDelete
  30. इस गज़ल को जितनी बार पढ़ा है, उतनी बार कायल हुआ हूं आपका। इस शेर की सहजता और मार्मिकता दोनों अंदर तक बेधती है-

    क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    आह! वैसे आया तो था मैं पिछली पोस्ट पर कमेंट करने, बोनस में ये गज़ल मिल गई।

    ReplyDelete
  31. गौतम ,
    मैं बस इतना कहूँगी लाजवाब !!
    तुमको दीदी का ढेर सारा आशीर्वाद . तुम सदा ऐसे ही लिखते रहो !!

    ReplyDelete
  32. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  33. मैने जब पिछली बार सुनी थी, तभी अद्भुत लगी थी। चूँकि मैं खुद भी पात्रों को जब पढ़ती हूँ तो डूब जाती हूँ। उन्हे फील कर के फिर इस तरह उनके भावों को शेर का रूप देना...... मुझे तो चमत्कृत ही करता है....!!

    ReplyDelete
  34. घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

    वाह वाह गौतम जी मजा आगया बहुत सुन्दर और मेह्नत से लिखी गई गजल है

    रही बात बहर की तो ये मेरी प्रिय बहर है और इस बहर की सभी उपबहर पर लिखना मुझे बहुत भाता है

    वीनस

    ReplyDelete
  35. बहरो-वजन तो हमारे लिए काले अक्षर भैंस बराबर है :) पर इस गजल के साथ आपने जितने भी गजलों का नाम लिया है वो खूब पसंद है. और इस गजल में छुपी भावनाओं पर मुग्ध हूँ.

    ReplyDelete
  36. इस लाजवाब ग़ज़ल का हर शेर अपने आप में एक कहानी कह रहा है.
    किस एक शेर के बारे में कहूँ..सभी खुद में पूरे और शब्द चित्र की भाँति लगे.
    बहुत उम्दा!

    ReplyDelete
  37. राजऋषिजी,
    'कोई बांधना चाहे, बांध ले आकाश सारा,
    हमें तो बस परवाज़ से मतलब रहा है !'
    ग़ज़ल के गणित से बेफिक्र होकर लिखते रहिये ऐसी ही नायाब गज़लें ! साहित्य के अमर पत्रों को बड़ी खूबी और सूझ-बूझ से पिरोया है आपने ग़ज़ल में ! अनूठी ग़ज़ल है--प्रयोगधर्मी भी! बधाई !!
    जब से पटना छूटा, 'वागर्थ' देखना भी छूट गया !
    सप्रीत--आ.

    ReplyDelete
  38. क्या बात है! एक -एक शेर आस-पास गुजरी
    कहानी सुना रहा है ..पन्ने और अध्याय बिना ..

    ReplyDelete
  39. बिलकुल ! कई बार पढ़ी गयी गज़ल !

    अपनी गजल के बहर से जुड़ती दूसरी गजलों के उदाहरण हम जैसे अज्ञानियों के लिये जरूरी हैं । यही कारण है कि हम यहाँ गज़ल पढ़ते हुए आश्वस्त रहते हैं ।

    ReplyDelete
  40. बनतो, रघु , राधा , मोहना , निर्मला और सूबेदारनी के माध्यम से अकुलाहट और वेदना को प्रकट कर दिया है ...बहुत खूब ...!!

    साहित्य शिल्पी वाली टिप्पणी यहाँ भी पेस्ट कर दी है

    ReplyDelete
  41. Awessome attempt ! Too good !!
    this one was "zara hatke" and I love such Poetry !

    God bless!
    RC

    ReplyDelete
  42. Bahut badhiya. Keep it up.

    ReplyDelete
  43. नमस्ते भैय्या,
    मज़ा आ गया.............
    हर शेर एक कहानी कह रहा है, एक अद्भुत प्रयोग और सफल प्रयोग.
    जितनी बार ये ग़ज़ल पढ़ रहा हूँ सारी कहानियां आँखों के सामने से गुज़र रही है.

    ReplyDelete
  44. पहले भी इस अनूठी गज़ल को पढा था लेकिन आज गुरुआना अन्दाज़ मे चौथे और पाँचवें पहरे को समझाने का जो प्रयास किया है वो हम जैसे अनजानों के लिये बहुत अच्छा है। आपकी गज़लें हमेशा चकित कर देती हैं लाजवाब प्रस्तुति मोहने को। बधाई और आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  45. एक दम टकाटक, धडाधड पोस्ट ....

    क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    किरदार सारे अच्छे हैं... कहीं सुधा भी होती तो...

    ReplyDelete
  46. adbhut.\// lajvaab.
    chakit hu goutamji..., aapke is hunar par..kamaal he aap.

    ReplyDelete
  47. एक उपन्यास और एक कहानी ,समेट ली हर इक शेर में। पुराना पढना अच्छा लगता है,कभी कभी तो बरसों पुरानी कहानी के वाक्य याद आजाते है ,जैसे ही सूवेदारनी शब्द पढा "तेरी कुड्माई होगई-धत्त...........हां होगई देखते नही ये रेशम से कढा हुआ शालू याद आया । आपने भी कितना अध्ययन किया हुआ है,आश्चर्य होता है ।शास्त्र और शस्त्र का संगम है आप

    ReplyDelete
  48. जल गई है फ़स्‍ल सारी पूछती अब आग क्या
    राख पर पसरा है "होरी", सोचता निज भाग क्या

    ड्योढ़ी पर बैठी निहारे शह्‍र से आती सड़क
    "बन्तो" की आँखों में सब है, जोग क्या बैराग क्या

    खेत सारे सूद में देकर "रघू" आया नगर
    देखता है गाँव को मुड़-मुड़, लगी है लाग क्या

    चांद को मुंडेर से "राधा" लगाये टकटकी
    इश्क के बीमार को दिखता है कोई दाग क्या

    क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    किरणों के रथ से उतर क्या आयेगा कोई कुँवर
    सोचती है "निर्मला", देहरी पे कुचड़े काग क्या

    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या

    waah kis sher ki tarif karun
    padh kar stabdh hun
    aapki kalam ko salaam

    ReplyDelete
  49. क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या
    मैं भी सूबेदारनी के साथ हूँ. काफिये के नीचे नुक्ता तलाशने वालों के नहीं.
    जय हो....
    यही अगर यही अपना खास रंग न हो तो फिर लिखने से क्या फायदा.
    बहुत अच्छी गजल है....

    ReplyDelete
  50. Waah is terah ka prayog kisi ghazal mein pehli baar dekha. In patron ko charitrik jhanki is ghazal ke madhyam se dikhane ka shukriya...

    ReplyDelete
  51. lajawab... specially
    क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’

    ReplyDelete
  52. क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना"
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’
    ...कुदरत के आगे किसी की नहीं चलती, हुनर-तो-बस-हुनर है.... वो कहते हैं खुदा ने बहुत सारे गधों को पहलवान बना रखा है और बिचारा 'मोहना' रिक्शा लेकर ...... बहुत ही सुन्दर शेर !!!!
    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या
    .....इस मर्म की कोई दवा नही.... बेहतरीन शेर, बधाईंया !!!!!

    ReplyDelete
  53. gautam ji,namaskar ,

    खेत सारे सूद में देकर "रघू" आया नगर
    देखता है गाँव को मुड़-मुड़, लगी है लाग क्या
    bahut sundar ,apni mitti ki ahmiyat aap se zyada kaun samajh sakta hai...

    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या
    is sher ko bhi itne bhav pporn tareeqe se aap hi likh sakte hain ,kyonki shayeri ehsas mangti hai ,sachche jazbat mangti hai .bahut bahut badhai
    salam hai aik veer ki shayerana salahiyat ko .

    ReplyDelete
  54. वाह वाह, बिलकुल एक नंबर की ग़ज़ल.. बहुत अच्छी लगी. :)

    ReplyDelete
  55. इस ग़ज़ल को जीतनी बार भी पढता हूँ नयी सी लगती है... अगर आपको ..
    मैं ग़ज़ल के दूसरी तरफ से देखता हूँ तो मोहना पर बात अटकती है... बधाई .. और
    बसंत पंचमी की ढेरो शुभकामनाएं...


    अर्श

    ReplyDelete
  56. हाँ जी तो गेस्ट इंट्री होती है हमारी अब..अपने चीफ़-गेस्ट वाले टाइम पर ;-)
    पिछले दो दिनों मे कई बार पढ़ी थी यह ग़ज़ल..और कहूँगा कि एक जो नयी और ज्यादा जरूरी जमीन देखने को मिलती है आपकी गज़लों मे और कुछ समकालीन गज़लकारों मे..वो इसे ज्यादा जमीनी और सामयिक बनाती है..रवायती गज़लों के शराब-शबाब, शम्‍अ-परवानों मे रचे-पगे हमारे सौन्दर्यबोध को थोड़ा असहज लग सकता है..मगर इस सौन्दर्यबोध का परिष्कृत होना जरूरी है..और बकौल पाश साहित्य का यह फ़ूल राजा के बाग के बजाय गाँव की चौपाल के पेड़ या किसी छप्पर पर खिलना ज्यादा समीचीन होता है..
    आपकी गज़ल पे कुछ कहना मेरे सामर्थ्य मे नही रहा है..न आपके नुक्तों पे नुक्ताचीनी करने की हिम्मत ;-)
    ..मगर इस शेर पर अटका रहा बार-बार

    खेत सारे सूद में देकर "रघू" आया नगर
    देखता है गाँव को मुड़-मुड़, लगी है लाग क्या

    लगता नही कि हम सबमे भी कुछ हिस्सा है रघु का?..एक हवा-पानी-मिट्टी के कर्जदार पेड़ के तरह अपने तने, पत्तियाँ, फल-फूल सूद सहित अपने अतीत को दे देते हैं..बस अदृश्य जड़ें छूटे जाती हैं..दूर किसी जमीन मे..और जिन्हे खोजने-संजोने की कवायद शेष जिंदगी खा लेती है.....कुछ तो होता है कहीं..जिसे मुड़-मुड़ के देखना होता है..सब कुछ लुटा देने के बाद भी!!
    ..काश बाकी शेरों पर भी बात कर पाता..

    ReplyDelete
  57. आपकी कल्पना की उडान के कायल हैं हम.. लफ़्जों शेरों और गजलों में जो कशिश आप भर देते हैं... वो काविले तारीफ़ है... लिखते रहिये

    ReplyDelete
  58. वागर्थ मे यह गज़ल पढ़ी थी अच्छी गज़ल है ।

    ReplyDelete
  59. वाह गौतम जी क्या बात है। एक नया ही लेखन जिसमें पात्रों का जिक्र कितनी सुन्दरता से किया है। ऐसा वही लिख सकता जिसने पढते वक्त उन पात्रों के साथ खुद भी जीया हो। हर शेर पर मुँह से वाह निकल रही है। और अपन इसे अपनी डायरी में उतार रहे है आपकी बगैर अनुमति के जी। वैसे हम भी इन कहानीकारों के बडे फेन है।

    ReplyDelete
  60. आपकी इस गजल को पहले भी पढ़ चुका हूँ....साहित्य के अमर होचुके पात्रों से एक दुर्लभ बिम्ब का सृजन यहाँ दिखाई देता है...खासियत यह है कि अभिव्यंजना किसी कालविशेष की सीमा से प्रतिबंधित नहीं होती है वरन सार्वकालिक सार्वदेशिक सन्देश देती सी लगती है.

    ReplyDelete
  61. बहुत देर से प्रतिक्रिया देना चाह रहा था पर नामुमकिन हीं रहा मेरे लिए तो...

    ReplyDelete
  62. कई कई बार आ चुका हूँ. इस विधा में किसी भी रचना पर कुछ लिखना मेरे लिए कभी आसान नहीं रहा है.अपने ज्ञान की सीमाओं के कारण.पर इतना ज़रूर कहूँगा कि बिलकुल नए तेवर में हिंदी ग़ज़ल आ रही है जिसके आप प्रमुख हस्ताक्षर है.हिंदी साहित्य के कुछ अमर और कालजयी पात्रों के माध्यम से आपने अपनी बात को अनंत अर्थ-विस्तार दे दिया है.
    टिप्पणियों ने इस रचना के भाष्य में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है.गदगद हूँ.

    ReplyDelete
  63. Wish you a very Happy Republic day!

    ReplyDelete
  64. क्लास में हर साल जो आता था अव्वल "मोहना",
    पूछता रिक्शा लिये, ’चलना है मोतीबाग क्या’
    ये शेर नहीं हक़ीकत है...!!
    ग़ज़ब बात करते हैं आप..!!

    ReplyDelete
  65. मेजर साहब क्या लिखा है ।
    जब से सीमा पर हरी वर्दी पहन कर वो गये
    घर में "सूबेदारनी" के क्या दिवाली फाग क्या
    बहुत ही बढिया ।

    ReplyDelete
  66. इतनी शानदार-जानदार गजल के बाद ये सफाई देना कुछ समझ में नहीं घुसा. गाँव की भाषा में गजल है, अब गाँव वाले अपना 'शीन-क़ाफ़' दुरुस्त करने के लिए किस मौलवी या उस्ताद शायर की खिदमात हासिल करें.
    मैं जरा काम के सिलसिले में एक से दूसरे शहर भटकता रहता हूँ. ये गजल छूट गयी.
    अब तो नहीं छूटी रह गयी ना!

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !