17 August 2009

शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से...

उधर आपलोगों की तरफ, सुना है, "कमीने" ने खूब धूम मचा रखी है? सच है क्या? ...तो मुझे भी ख्याल आया कि अपनी गुल्लक तोड़ूँ, कोई गुडलक निकालूँ और ढ़ेनटरेनssss करके अपनी एक फड़कती हुई ग़ज़ल ठेलूँ !!!...तो पेश है अभी-अभी अशोक अंजुम द्वारा संपादित अभिनव प्रयास के जुलाई-सितंबर वाले अंक में छपी मेरी एक ग़ज़ल जो श्रद्धेय मुफ़लिस जी की नवाज़िश के बगैर कहने लायक बन नहीं पाती:-


पूछे तो कोई जाकर ये कुनबों के सरदारों से
हासिल क्या होता है आखिर जलसों से या नारों से

रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से

पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

जब परबत के ऊपर बादल-पुरवाई में होड़ लगी
मौसम की इक बारिश ने फिर जोंती झील फुहारों से

उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से


ऊधो से क्या लेना ’गौतम’ माधो को क्या देना है
अपनी डफली, सुर अपना, सीखो जग के व्यवहारों से


....इस बहरो-वजन पर शायद सबसे ज्यादा ग़ज़ल कही गयी है। दो ग़ज़लें इस मीटर पर जो अभी फिलहाल ध्यान में आ रही हैं उनमे से एक तो मेरे प्रिय शायर क़तिल शिफ़ाई साब की लिखी चित्रा सिंह की गायी मेरी पसंदीदा ग़ज़ल अँगड़ाई पे अँगड़ाई लेती है रात जुदाई की है और...और...और दूजी जगजीत सिंह की गायी वो दिलकश ग़ज़ल तो आप सब ने सुनी ही होगी देर लगी आने में तुमको, शुक्र है फिर भी आये तो

इति ! अगली पेशकश के साथ जल्द हाजिर होता हूँ...

69 comments:

  1. क्या बतायें कि लुटे किस पर ,
    उनकी सूरत पे या पायल की झंकारों पे ...

    कहाँ पता जमाने को , वो निकले हैं घर से,
    जिसने भी दोष मढा , मढ़ दिया बहारों पे

    गौतम भाई ....अब तो हमने भी ये रोग पाल ही लिया है ..सच कहें तो बड़ा सुकून मिलता है आपको पढने के बाद...

    ReplyDelete
  2. पुरुषोत्तम 'यक़ीन' का कहना है। जब बहर पर काफ़िया और रदीफ़ पर अधिकार हो जाए तब वास्तविक ग़ज़लें होने लगती हैं। तब बात पानी पर कश्ती की तरह निकलती है।

    ReplyDelete
  3. हासिल क्या होता है....गर ये समझ आ जाए....तो इतनी आवाज़ें ही क्यों.....!!

    ReplyDelete
  4. apnigullak torun, koi goodluck nikaloon,aur dhenterein.......ha ..ha..ab tak hans rahi hoon.
    ye line sabse achhi lagi :)
    naina

    ReplyDelete
  5. apnigullak torun, koi goodluck nikaloon,aur dhenterein.......ha ..ha..ab tak hans rahi hoon.
    ye line sabse achhi lagi :)
    naina

    ReplyDelete
  6. जब परबत के ऊपर बादल-पुरवाई में होड़ लगी
    मौसम की इक बारिश ने फिर जोंती झील फुहारों से
    " बहतरीन ग़ज़ल..."

    regards

    ReplyDelete
  7. aapke gajalon ki kya tareef karoon mein ? na hi itni samajh hai aur na hi likhna aata.
    Hur poonam ki rat..... bhale chanda na chhoo paya ho sagar ko per is line ne mujhe chhoo liya hai

    naina

    ReplyDelete
  8. क्या बात है हुजूर..वाह और हाँ ये कमीने ने कुछ खास ही धूम मचा दी है इधर.. क्युनके हर तरफ अलग अलग दिन ये मक्त में आयी थी ... हमारी कंपनी ने भी सभी लोगों को दिखाने ले गयी थी ये फिल्म और मेल में लिखा भी हुआ था जितनी सीटियाँ पेल सकते हो और हुटिंग करना... जहां लोग फोर्मल के अलावा कुछ पहन के बगैर शेविंग के एक दिन और बगैर दिसिप्लिने में नहीं रह सकते जब मेरे पास ये मेल आयी अपने बन्दों के लिए मेरे इ.वि . पि से तो मुझे तो झटका ही लग गया मगर क्या करता वेसे मुझे फिल्म देखना पसंद नहीं मगर फिर भी जानी पड़ी ... और हंगामा हुआ वो तो पूछो मत...
    अब बात करते है ग़ज़ल की..श्रधेय श्री मुफलिस जी के बारे में क्या कहने ... आपकी ग़ज़ल का मतला कुर्सी हिलाने के लिए काफी है ... यह शे'र याद रह जाने वाला है ... वेसे तो पूरी ग़ज़ल ही हमेशा की तरह बेहद उम्दा कही है आपने पूरी चुस्त और दुरुस्त मगर यह एक शे'र मुझे हिला के रख दिया जो आपको भी भीड़ से अलग करती है ...
    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से..
    इस एक शे'र के बारे में क्या कहूँ... निशंब्द कर दिया है मियाँ आपने... आपकी मेल मिली है गुरु जी वाली बहोत कुछ सिखने को मिला है उससे... अगर उसका कोई और किश्त हो तो जरुर भेजें... आपकी कुशलता की कामना....

    और हाँ मक्ता अलग से दाद मांग रहा है ... खूब बिलेलान खड़े होकर ...


    आपका
    अर्श

    ReplyDelete
  9. ग़ज़ल बहुत बेहतरीन है...पढ़कर मजा आया
    मुझे जो शे'र बहुत बेहतरीन लगा वो

    "पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से"

    बस सीटी बजाने का मन कर रहा है

    ReplyDelete
  10. fir se ek lajawab kar dene wali gazal...jiska ek ek sher khushboo me paga hua hai...wahi khushboo jo kumharon mo geeli mitti se aati hai...
    ye sher to bilkul meri kahani bayan kar raha hai...

    रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से

    ReplyDelete
  11. जब परबत के ऊपर बादल-पुरवाई में होड़ लगी
    मौसम की इक बारिश ने फिर जोंती झील फुहारों से

    बहुत सुन्दर गजल का हर एक शेर लगा ...गुडलक जरुर निकालें :)

    ReplyDelete
  12. वाह..वाह.वाह..वाह..x10 to the power 10 (sumbol लगा नही पा रही कंप्यूटर से)

    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से।


    क्या बात है....!
    हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से


    लाजवाब.....!!!!!

    उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से


    सही कहा और ऐसे ही फनकार ने लिखी है ये गज़ल...! क्या बताऊँ और कैसे बताऊँ..! ये गज़ल कितनी अच्छी लगी...!

    सुना है कि ये गज़ल हमारे प्रिय गीतकार नीरज के गीत के साथ ही पन्ने पर छपी है....! नीरज जी से मिलने की बड़ी तमन्ना है अपनी....! आप को उनके बगल में देख लगा..! शायद अब पहुँच बन रही है...! :)

    ReplyDelete
  13. वल्लाह क्या बात है गौतम...इस बार की छुट्टियों ने जादुई असर किया है आप पर...क्या एक से बढ़ कर एक शेर कहें हैं आपने इस ग़ज़ल में...कहते तो भाई पहले भी बहुत खूब थे लेकिन अब तो बात ही निराली सी होती जा रही है...."जैसी अब है तेरी महफिल कभी ऐसी तो न थी...."सुभान अल्लाह...मुफलिस साहिब को अलग से दाद देता हूँ...
    नीरज

    ReplyDelete
  14. पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    जब परबत के ऊपर बादल-पुरवाई में होड़ लगी
    मौसम की इक बारिश ने फिर जोंती झील फुहारों से

    खूबसूरत ........क्या बात है गौतम जी............... बहुत ही लाजवाब, उम्दा, मन को गुदगुदाने वाली ग़ज़ल है आपकी........ हर शेर पर सुभान अल्ला की आकाज़ निकल रही है......... दिल को छू लेने वाले शेर हैं .............

    ReplyDelete
  15. पूछे तो कोई जाकर ये कुनबों के सरदारों से
    हासिल क्या होता है आखिर जलसों से या नारों से
    bhut hi samyik prshan ,manveey svednao aur unke ahsas ko pavitr karta ye sher lajvab hai
    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से
    is man ko chu lene vali gjal ke liye
    bdhai .shubhkamnaye

    ReplyDelete
  16. गौतम जी हम तो शनिवार को अपनी गुल्लक फोड़ेगे और शंकुतलम पर जाकर इस कमीने से मिलेंग़े जिसने हमें रात दिन परेशान कर रखा है। खैर आपकी ग़ज़ल हमेशा की तरह बहुत ही बेहतरीन है। और हर शेर अपनी एक अलग कहानी कहता है। वैसे मुझे इस शेर पर कुछ ज्यादा ही प्यार आया।
    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से
    वाह।

    ReplyDelete
  17. वाह क्या खूबसूरत गजल है..बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  18. "उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से ।"

    गजल की व्याकरणिक प्रतीतियों से अनजान हूँ, पर न जाने क्यों गजल पढ़ने का रोग लग गया है मुझे । लगता है इस चिट्ठे का शीर्षक मुझे ही कह रहा है - "पाल ले एक रोग नादां" ।
    कितना सच है, "शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से ।"

    ReplyDelete
  19. क्या बात है. बेहतरीन ग़ज़ल. हर शेर लाजवाब. किस किस की तारीफ़ हो !!

    ReplyDelete
  20. सच्ची, देर लगी आने में हमको....

    !!! शुकर है फिर भी आये तो... आस ने दिल का साथ न छोड़ा...

    शफक, धनुक, महताब, घटायें, तारे, नगमें, बिजली फूल,
    इस ग़ज़ल में क्या-क्या कुछ है... बस ये जुबां पर आये तो......

    ReplyDelete
  21. देर लगी आने में तुमको, शुक्र है फिर भी आये तो।


    ...office main hoon wapis aata hoon...

    ReplyDelete
  22. जितनी भी तारिफ की जाये आपकी रचना की वह कम पड जायेगी .......बहुत ही खुब्सूरत है .....बिल्कुल जिन्दगी की तरह......बधाई

    ReplyDelete
  23. pahle- 'sou dard he, sou raahte..'
    sach he ki jindagi isi ka naam he/ dard ke baad milti raahato ka sukh azeeb si param shaanti pradaan kar deta he/ esi jise shbdo se vyakt nahi kar paate/ aapka mahal, samrazy, sahchar, dhadkan, duniya aour vazood... sach yahi he ki aapne apane jeevan ko uker diya/
    ab- "shbdo ki dunia sajati he, albelo fankaaro se"-
    laazavaab../ kalam ko bhi rahta intjaar goutam jese sardaro se"
    bahut khoob ji/

    ReplyDelete
  24. लेकिन वो तो यही भ्रम पाले हुए हैं कि जलसों और नारों से ही सब होगा ,नारे ,बंद ,हड़ताल ,तालाबंदी ,चक्काजाम |यह भी सही है कि सुबह का अखवार उठाते ही इन्ही समाचारों से साक्षात्कार होता है |कुछ लोग तो चाहते है पूनम कभी आये ही नहीं (पूनम मतलब पूर्णिमा लोग न जाने क्या क्या तो अर्थ लगा लेते है )सदा अमावास ही रहे |कहने का अंदाज़ नया तो होना ही चाहिए (वैसे तो है दुनिया ............अंदाजे बयां और )ऊधो से लोगे वो देगा नहीं और माधो को दोगे वो लेगा नहीं इसलिए यही बहतर है अपनी अपनी ढपली अपना अपना राग

    ReplyDelete
  25. पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    वाह!! वाह!! फड़कता हुआ जानदार शेर!! मक्ता भी गज़ब ढा रहा है!! बहुत-बहुत उम्दा गज़ल है साहिब!!

    ReplyDelete
  26. सारे अशाअर एक से बढकर एक. अच्छी चीज़ दिखते ही नस नस को पकड लेती है. आपने फोन पर ये तो बताया कि मेरी ग़ज़ल चापी है लेकिन ये नहीं बताया कि मेरी भी छपी हैं वाह क्या बात है. जब पत्रिका हाथ में आयी तो जानकारी हुई. अपने मित्र ललित को पत्रिका दी तो तुरंत बोले ये ही गौतम भाई हैं इनकी ग़ज़ल बहुत शानदार है. गर्व से सीना फूल गया. अच्चा इसका मतला हुआ ही ऐसा है कि तुरंत असर करता है. और हां अशोक अंजुम जी ने मूंछें हटा दी हैं. शादी की है अभी-अभी. आगरा आये थे आकाशवाणी पर रिकार्डिंग के लिये.

    ReplyDelete
  27. देर लगी आने में तुमको शुक्र है फिर भी आये तो ...मेरी पसंदीदा गज़लों में से एक है ....आपकी ग़ज़लें बहुत मन से पढ़ती हूँ ...और पसंद भी करती हूँ ...इसके नियमों से नावाकिफ पर इसकी खूबसूरती को पहचानती हूँ ...बहुत अच्छा कहते हैं आप ...

    ReplyDelete
  28. रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से
    vaah bahut sundar.....

    ReplyDelete
  29. रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से
    vaah bahut sundar.....

    ReplyDelete
  30. behatareen gazal, sabhi sher ek se ek badhkar. gautamji badhai sweekaren.

    ReplyDelete
  31. रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से....

    agar mere ashar suran ki chot hain to aapke aur arsh ji ke lohaar ke...

    khat ! khat !! khat !!!

    BANG.... !!!

    HAR SHER KO ALAG DAAD CHAHIYE SIR...
    WAPIS AATA HOON.

    DHANTANAN......

    YA

    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से


    ...GULZAAR YA AAP .
    M NOT CONFUSED !!

    :)

    ReplyDelete
  32. पूछे तो कोई जाकर ये कुनबों के सरदारों से
    हासिल क्या होता है आखिर जलसों से या नारों से

    हर शे'र लाजवाब .......किसकी तारीफ करूँ और किसकी नहीं ......

    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    ये तो लाजवाब कर गया ......सुभानाल्लाह ......!!

    हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

    हम तो पूनम पूनम से खिल गए .....!!

    ReplyDelete
  33. ये तो मेरी भी फेवरेट बहर है


    उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से

    ऊधो से क्या लेना ’गौतम’ माधो को क्या देना है
    अपनी डफली, सुर अपना, सीखो जग के व्यवहारों से

    गौतम जी आख़री के दो शेर तो बहुत लाजवाब कहे है दिल खुश हो गया
    बाकी इतने लोगों ने इतनी अच्छी अच्छी बातें कह दी है हमारी बधाई भी कबूल फरमाएं

    आप गजल के हर शेर में जो अलग अंदाज का कहन प्रस्तुत करते है वो मुझे बहुत पसंद है

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  34. अरे वाह! आपने तो बड़ी खतरनाक उपमायें दे डालीं। आप तो अपनी पाल्टी के आदमी लगने लगे। झकास!

    ReplyDelete
  35. तारीफों से बहुत ऊपर के शे'र हैं ...


    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

    मन से कभी भी नहीं निकलेंगे....

    पूनम की रात ..............हाय...................................

    कुछ नहीं कहा जौएगा..बस ऊँगली ऐसे ही चलती रहेगी एक ही बटन पर................................

    जैसे दिल धड़कता है हौले हौले

    ReplyDelete
  36. .....मगर मैं वो नहीं लाया जो सारे लोग लाये हैं

    बस इतना ही कहता हूँ

    भावों की अनमोल विविधता,शब्दों का भण्डार नया
    भाषा कल-कल बहती है मिल कर वाणी के धारों से
    सबके मन की बात कही है,सबके मनतक जा पहुंची
    गूँज रहा है ब्लॉगजगत अब'गौतम'की जयकारों से

    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  37. पूछे तो कोई जाकर ये उन कुनबों के सरदारों से
    हासिल क्या होता आखिर जलसों से या नारों से

    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें यह पूछो कुम्हारों से

    हर पूनम की रात यही सोचता रहता बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

    bahut sundar ghazal lagi apki.badhai!!

    ReplyDelete
  38. गौतम जी, कमीने की रिपोर्ट दोस्तों ने कमजोर बताई है.
    पोस्ट आने के चार घंटे बाद से ही ग़ज़ल को देख रहा हूँ, कई बार उलट पुलट कर देखा है फिर हर बार कमेन्ट का इंतजार किया है कि ग़ज़ल के उस्ताद क्या कहते हैं . इसी बीच एक छोटी सी कहानी को अंतिम रूप देना चाह रहा था "उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से" आपके इस शेर ने मेरा हौसला इस कदर बढाया कि मैंने एक मित्र विशेष से कहानी की हर पंक्ति पढ़वाई. आपसे कुछ नए अंदाज सीख रहा हूँ. ग़ज़ल बहुत उम्दा है आप तो सच में बड़े शायर हो गए हैं. चलो बड़े उचित न होगा सच्चे शायर हो गए हैं. किसी शेर को सुन कर नहीं लगता कि कुछ छूट रहा है.
    बहुत बधाइयां !

    ReplyDelete
  39. गौतम जी, कमीने की रिपोर्ट दोस्तों ने कमजोर बताई है.
    पोस्ट आने के चार घंटे बाद से ही ग़ज़ल को देख रहा हूँ, कई बार उलट पुलट कर देखा है फिर हर बार कमेन्ट का इंतजार किया है कि ग़ज़ल के उस्ताद क्या कहते हैं . इसी बीच एक छोटी सी कहानी को अंतिम रूप देना चाह रहा था "उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से" आपके इस शेर ने मेरा हौसला इस कदर बढाया कि मैंने एक मित्र विशेष से कहानी की हर पंक्ति पढ़वाई. आपसे कुछ नए अंदाज सीख रहा हूँ. ग़ज़ल बहुत उम्दा है आप तो सच में बड़े शायर हो गए हैं. चलो बड़े उचित न होगा सच्चे शायर हो गए हैं. किसी शेर को सुन कर नहीं लगता कि कुछ छूट रहा है.
    बहुत बधाइयां !

    ReplyDelete
  40. उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से..bahut acchey...khuub

    ReplyDelete
  41. रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से

    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

    जब परबत के ऊपर बादल-पुरवाई में होड़ लगी
    मौसम की इक बारिश ने फिर जोंती झील फुहारों से

    ......

    उफ़.....क्या लिखा है आपने.....लाजवाब !!! एकदम लाजवाब !!!

    भाव जितने गहरे उतर मुग्ध करतीं हैं,बिम्ब और उपमाएं उतनी ही चकित करती हैं.....

    लाजवाब लेखन !!! वाह !!!!

    ReplyDelete
  42. डॉ.(मेजर) प्रवीण शाहAugust 18, 2009 at 8:50 PM

    प्रिय गौतम,
    बेहद खूबसूरत गज़ल....



    तेरी दुनिया की तस्वी़र रब,'गौतम'जैसे ही बदलेंगे,
    बिल्कुल मत उम्मीद लगाना, हम बूढे़ थके-हारों से...

    ReplyDelete
  43. sabse acchi panktiyaan lagi "Upmayein bhi hat kar hon,kahne ka andaz naya\
    shabdon ki duniya sajti hai albele fankaron se"

    bahut hi sundar Maj Gautam..har shabd sarlata liye hue par saar gehrai tak baitha hua..badhai sweekar karen..

    ReplyDelete
  44. बिखरे सितारे ! ७) तानाशाह ज़माने !
    पूजा की माँ, मासूमा भी, कैसी क़िस्मत लेके इस दुनियामे आयी थी? जब,जब उस औरत की बयानी सुनती हूँ, तो कराह उठती हूँ...

    लाख ज़हमतें , हज़ार तोहमतें,
    चलती रही,काँधों पे ढ़ोते हुए,
    रातों की बारातें, दिनों के काफ़िले,
    छत पर से गुज़रते रहे.....
    वो अनारकली तो नही थी,
    ना वो उसका सलीम ही,
    तानाशाह रहे ज़माने,
    रौशनी गुज़रती कहाँसे?
    बंद झरोखे,बंद दरवाज़े,
    क़िस्मत में लिखे थे तहखाने...

    Itne comments ke baad mai,ek adnaa-see wyakti kya kah sakti hun?
    Nimantran de rahee hun..'kuchh bikhare' sitare sametnekaa..

    ReplyDelete
  45. पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से।

    हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

    उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से

    आपके हर शेर पर सर झुक रहा है....और मैं वही कर रही हूँ.....

    ReplyDelete
  46. kyaa baat hai mezar parween....!!!!!!!!!

    bas kyaa kahoon.....?

    ReplyDelete
  47. पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से
    ये शेर बहुत पसंद आया .......
    देरी के लिए मुआफी...वो अर्श कहते है न बेवजह की मसरूफियत...कम्बखत अक्सर दरवाजे पे खड़ी होती है....देर लगी आने में तुझको ..मेरी भी पसंदीदा है....खींचकर सीधा फ्लेश्बेक में ले जाती है....जगजीत जी के शुरूआती ओर पीक टाइम की गजल है

    ReplyDelete
  48. उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से


    ye to aapki taarif karta hua sher lagta hai sa'ab !!
    yaad hai mujhe aaj bhi wo ghazal:


    चुराकर कौन सूरज से
    ये चंदा को नजर दे है

    है मेरी प्यास का रूतबा
    जो दरिया में लहर दे है

    रदीफ़ों-काफ़िया निखरे
    गजल जब से बहर दे है

    ....

    is maun ko jo aap samjho sa'ab !!

    ReplyDelete
  49. मुझे भी देर जरूर लगी आने मे मगर आ गयी ये मेरी खुश्किस्मती है नही तो इस नायाब गज़ल को पढने से रह जाती। मुझे तो ये सम्झ नहीं आ रही कि किस अशआर की तारीफ करूँ किसे छोडूँ। लाजावाब गज़ल है आपको तो सलाम करती ही हूँ मगर आपकी कलम को भी सलाम है।अपके ब्लोग पर आ कर एक सुखद अनुभूति सी होती है बहुत बहुत आशीर्वाद

    ReplyDelete
  50. बहुत खूबसूरत मतला है:
    पूछे तो कोई जाकर ये कुनबों के सरदारों से
    हासिल क्या होता है आखिर जलसों से या नारों से
    सारी ही ग़ज़ल अच्छी है. ये शेर बहुत पसंद आया :
    रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से
    महावीर शर्मा

    ReplyDelete
  51. हम क्यों नहीं कह पाते ऐसी ग़ज़ल पता नहीं। ज़माने के दर्द का और आज की सच्चाई का अच्छा बयां किया है गौतम।

    ReplyDelete
  52. बहुत सुंदर... लाजवाब ग़ज़ल... वाह..

    ReplyDelete
  53. नमस्कार भैय्या,
    क्या कहूं, अंदाज़-ए-बयान उम्दा है.................
    हर शेर ख़ुद कह रहा है मैं ख़ुद बोल रहा हूँ तुम्हे ज्यादा कहने की ज़रुरत नहीं है.मक्ता तो वाह क्या लिख दिया है, एक विनती है इस बहर का नाम क्या है कृपया बताने की कृपा करें.

    ReplyDelete
  54. हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से
    waah!
    Gautam ji,bahut hi khoobsurat khyal hain.
    sabhi sher ek se ek hain..badhaayee...

    ReplyDelete
  55. हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से


    ?????
    ?????

    kahaan ho ji....?

    ReplyDelete
  56. गौतम जी,

    आपका अंदाज वैसे ही निराला है और अब तो आदरणीय मुफ्लिस साहब का आशीर्वाद क्यूँ कर ना हो कोई भी कदम नायाब आपका।

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  57. रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से
    बहुत खूब
    बढ़िया ग़ज़ल



    ********************************
    C.M. को प्रतीक्षा है - चैम्पियन की

    प्रत्येक बुधवार
    सुबह 9.00 बजे C.M. Quiz
    ********************************
    क्रियेटिव मंच

    ReplyDelete
  58. रोजाना ही खून-खराबा पढ़ कर ऐसा हाल हुआ
    सहमी रहती मेरी बस्ती सुबहों के अखबारों से

    hmmm aajkal yahi halat hai

    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    ahahhhhhh bahut hi shaandaar sher

    हर पूनम की रात यही सोचे है बेचारा चंदा
    सागर कब छूयेगा उसको अपने उन्नत ज्वारों से

    wah wah khoob soch ke gode doraye hain

    जब परबत के ऊपर बादल-पुरवाई में होड़ लगी
    मौसम की इक बारिश ने फिर जोंती झील फुहारों से

    उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से

    bilkul sach bahut sach

    ऊधो से क्या लेना ’गौतम’ माधो को क्या देना है
    अपनी डफली, सुर अपना, सीखो जग के व्यवहारों से

    kamaal ki gazal hui hai goutam ji aap waqayi kamaal kahte hain

    ReplyDelete
  59. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  60. गौतम जी , किस शेर का उल्लेख करूँ और किसे छोडूँ समझ नहीं पा रहा हूँ ,हाँ मुफलिस जी की टिप्पणी से मैं पूर्ण सहमत हूँ ! बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है आपने ! ईश्वर आपको बहुत ऊँचाई दे , आपका लेखन और मन दौनों ही बेहतरीन हैं !

    ReplyDelete
  61. उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से
    बेहतरीन गजल

    ReplyDelete
  62. एक खूबसूरत ग़ज़ल है.
    ये शेर बहुत पसंद आये.
    पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से
    उपमायें भी हटकर हों, कहने का हो अंदाज नया
    शब्दों की दुनिया सजती है अलबेले फनकारों से
    महावीर
    मंथन

    ReplyDelete
  63. पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    वल्लाह, क्या शेर है.
    बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  64. गौतम भाई,
    सलाम कबूल करें...आज कई दिनों बाद नेट पर आया हूँ और सबसे पहले आपके ब्लॉग पर आया हूँ..और कसम से बिलकुल मनवांछित रचना पढने को मिली ..बधाई स्वीकारें...!आपकी गजल की इतनी तारीफ़ कर दी है..कि नया शब्द नहीं मिल रहा आपकी तारीफ़ में...इसको पढ़ कर आनंदित हो रहा हूँ...बहर भाव कहन शब्द...सभी परफेक्ट है...
    पाखी

    ReplyDelete
  65. भाईसाहब, ये ग़ज़ल तो खूब पसंद आई. अनेक शेर अच्चे लगे.

    ReplyDelete
  66. पैर बचाये चलते हो जिस गीली मिट्टी से साहिब
    कितनी खुश्बू होती है इसमें पूछो कुम्हारों से

    bahut khoobsurat.....gazab ki soch hai....badhai

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !