31 August 2009

ये तेरा यूं मचलना क्या...

इधर वादी में सर्दी की सुगबुगाहट शुरू हो गयी है और साथ ही बढ़ गयी है हमारी व्यस्तता। एक बार बर्फ गिरनी शुरू हो जाने पर, एक तो मेहमानों का आना कम हो जायेगा और दूसरे जो रहे-सहे आयेंगे भी तो उनकी आव-भगत में तनिक परेशानी होगी।...तो इसलिये इन दिनों ब्लौग-जगत को कम समय दे पा रहे हैं।

फिलहाल जल्दबाजी में फिर से अपनी एक हल्की-सी ग़ज़ल ठेल रहे हैं। अपनी रचनाओं को अच्छी पत्रिका में छपे देखने पर जो सुख रचनाकार को मिलता है, वो अवर्णनीय है। प्रस्तुत है ये एक छोटी बहर की मेरी ग़ज़ल जो वर्तमान साहित्य के अभी अगस्त वाले अंक में मेरी तीन अन्य ग़ज़लों के संग छपी है:-

ये तेरा यूँ मचलना क्या
मेरे दिल का तड़पना क्या

निगाहें फेर ली तू ने
दिवानों का भटकना क्या

सुबह उतरी है गलियों में
हर इक आहट सहमना क्या

हैं राहें धूप से लथ-पथ
कदम का अब बहकना क्या

दिवारें गिर गयीं सारी
अभी ईटें परखना क्या

हुआ मैला ये आईना
यूँ अब सजना-सँवरना क्या

है तेरी रूठना आदत
मनाना क्या बहलना क्या
{मासिक पत्रिका ’वर्तमान साहित्य’ के अगस्त 09 अंक में प्रकाशित}

...बहरे हज़ज की ये मुरब्बा सालिम ग़ज़ल 1222-1222 के वजन पर है। हमेशा की तरह इस बार इस रुक्न पर कोई ग़ज़ल या गीत याद नहीं आ रहा। आप में से किसी को कुछ याद आता है तो अवश्य बतायें| ग़ज़ल में जो कुछ अच्छा है, गुरूजी का स्नेहाशिर्वाद है और त्रुटियाँ सब की सब मेरी।

60 comments:

  1. इस व्यस्तता में भी साहित्य को समय देना अत्यंत जीवटता का काम है। पहले तो ’वर्तमान साहित्य’ में छपने के लिये ढेरों बधाई!!

    हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या

    अहा!! सुबह का सुंदर आगाज़ हो गया इसे पढ़कर आज तो, तालियां...और हां अगली पोस्ट वाली रोचक घटना का इंतज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  2. सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या

    -जबरदस्त!! वाह भाई, बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  3. गुड है जी। सुबहै-सुबह सुना दिये गजल।
    हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या

    पढ़कर अपने वासिफ़ मियां की गजल याद आ गयी:

    साफ़ आइनों में चेहरे भी नजर आते हैं साफ़।
    धुंधला चेहरा हो तो धुंधला आइना चाहिये॥


    बाकी दो गजलें भी पढ़वाओ भाई!

    ReplyDelete
  4. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    BAHUT KHOOB GAUTAM JI, LAJAWAAB. BADHAI.

    ReplyDelete
  5. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    बहुत खूब गौतम जी। मजा आ गया पढ़कर। व्यस्तता के बाध भी साहित्य सृजन - क्या कहने। एक तुकबंदी मेरी ओर से भी-

    गमों से सामना जब हो
    चिड़ियों का चहकना क्या

    ReplyDelete
  6. सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या.....
    ...................................
    इतना खूबसूरत लिखते हैं आप कि समझ नहीं आता कमेंट क्या करुं..एक शब्द है लाजवाब...जो आपके लिए परफेक्ट है...
    ब्लॉग की ये दुनिया बड़ी अजीब है....एक फौजी(आप),एक डॉक्टर(डॉ.अनुराग) और अलग अलग लोगों की अलग अलग किस्म की संवेदनाओं से भरी रचनाएं और उन्हीं में बसता ये संसार....
    बड़ा अच्छा लगता है इसमें डूबना....!!

    ReplyDelete
  7. हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या
    में गहराई है।

    ReplyDelete
  8. इक प्यारी सी गजल -शुक्रिया !

    ReplyDelete
  9. gazal achchi thi..
    lekin ye 1222-1222 ka funda meri samjh se bahar hai..

    ReplyDelete
  10. सच कहा आप ने ..अच्छी पत्रिका में छपना ख़ुशी देता है.ग़ज़ल छपने की बधाई.
    आशा है दूर वादियों में तनहा कुछ नयी ग़ज़लों का सृजन अधिक हो पायेगा..:)
    -ग़ज़ल पूरी की पूरी ही अच्छी लगी एक या दो शेर क्या बताऊँ?
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  11. गज़ल बहुत शानदार है।अगली पोस्ट का इंतज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  12. सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या

    बहुत लाजवाब जी, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या

    हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या
    waah lajawab, har sher jabardast.

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब ! ऐसी रचनाएँ लिखने वाले भी क्या तनहाई में जीते हैं ?!

    ReplyDelete
  15. आपके इस जज़्वे को सलाम है कि इन विपरीत परिस्थितिओं मे भी आपकी ज़िन्दादिली कायम रहती है । बहुत सुन्दर गज़ल है
    हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या
    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या
    सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या
    लाजवाब । आपने अब अगली पोस्ट के लिये उत्सुकता बढा दी है । बहुत बौत शुभकामनायें और आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  16. है तेरी रूठना आदत
    मनाना क्या बहलना क्या
    bahut khub ..bahut pasand aayi yah gajal shukriya

    ReplyDelete
  17. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या
    हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या
    बस हाज़िर होते रहिएगा...
    अच्छा लगता है...
    मीत

    ReplyDelete
  18. ताबड़तोड़ ग़ज़ल के बाद आप कौनसी घटना लाने वाले है.. आपने तो दिल की धधकने बढा दी है

    ReplyDelete
  19. एक एक लफ्ज़, एक एक शेर लाजवाब....तारीफ़ किस किस की करूँ. उफ्फ्फ्फ्फ्फ!!!!

    ReplyDelete
  20. सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या


    खूब..जिस दिन की शुरुआत इस शेर से हो वो खुद ब खूद खूबसूरत हो जाता है।

    हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या


    क्या बात है....! क्या खूब कहन है...! विचारो ने क्या उड़ान भरी

    है तेरी रूठना आदत
    मनाना क्या बहलना क्या...!


    बहुत खूब....! बहत खूब....! इस शेर के लिये तो बहुत कुछ कहना चाह रही हूँ.. मगर शब्द धोखा दे रहे हैं...।!

    और सुनिये ये मेहमानों का आना और मेहमाननवाज़ी..सब ठीक है मगर घर वालों का भी खयाल रखियेगा और उनका खयाल रखने के लिये अपना खयाल रखियेगा...!

    ईश्वर आपको बहुत लंबी उमर दें...!

    आपकी
    अनुजा

    ReplyDelete
  21. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    बहुत स्क्रॉल करना पड़ता है भाई कुछ ब्लोग्गेर्स को कमेन्ट करने के लिए... हैरत यह है की सभी एक स्तर पर व्यतिगत नेटवर्क से भी जुड़े हैं, शायद येही वज़ह है की आप सभी लगातार अच्छा करते रहते हैं... बहरहाल बहुत दिनों बाद छोटे-छोटे प्रशन अच्छे लगे...

    ReplyDelete
  22. ये तेरा यूँ मचलना क्या
    मेरे दिल का तड़पना क्या

    बहुत ही खुब भाई......आपका भी जवाब नही!

    ReplyDelete
  23. भाई मजा आ गया....ग़ज़ल पढ़कर
    हम तो डूब ही जाते हैं

    ReplyDelete
  24. patrika me khud ko dekhkar kaisa laga hoga,main mahsoos kar sakti hun.....mera aashirwaad
    aur itni pyaari rachna ke liye badhaayi

    ReplyDelete
  25. हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या

    bahut ki sudar kaha hai

    -Sheena

    ReplyDelete
  26. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    हासिले ग़ज़ल शेर है ये...लाजवाब....बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है आपने गौतम जी...वाह.
    नीरज

    ReplyDelete
  27. हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या

    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    आपकी व्यवस्तता समझ में आती है गौतम जी .............. उस दिन आपसे बात कर के बहूत ही मज़ा आया, दिल को सुकून आ गया ..... आपका हँसता हुवा चेहरा सामने आ गया ............ आपकी ग़ज़ल पढ़ कर लग रहा है मैं आपके करीब ही बैठा हुवा आपसे सुन रहा हूँ ...........

    लाजवाब है हर शेर इस ग़ज़ल का ........

    ReplyDelete
  28. hain राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या

    wow !!
    captivating couplet
    this is right from 'cafe'
    atmosphere...not favorable
    jarring music and all that..??
    filhaal CONGRATS
    phir aata hooN
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  29. बह'रे हजाज मेरे सबसे चाहिती बह'रों में है .. खुद इसके बारे में कुछ नहीं कह सकता जीस तरह से इसने अपने मोह पास में मुझे जकड रखा है ... वेसे सच कहूँ तो मुझे भी बहुत आनंद आता है इसके साथ... वर्त्तमान साहित्य के लिए बधाई मेरे तरफ से भी वेसे आपकी गज़लें सारी छोटी की पत्र पत्रिकाओं में छपती रहती है ... और हो भी भला क्यूँ नहीं जिस तरह से आप साहित्य सृजन कर रहे है ... मैं अगर कहूँ के आप दो चीजो की रक्षा कर रहे हैं तो गलत ना होगा एक तो हिंद और दूसरी हिंदी की ...
    ग़ज़ल के सरे ही शे'र बेहद खुबसूरत भावः के साथ है हर शे'र आपने आप में स्थान रखता है ... एक खुबसूरत ग़ज़ल के लिए दिल से ढेरो बधाई...

    और हाँ अपना ख़याल हमारे लिए जरुर रक्खें,....

    आपका
    अर्श

    ReplyDelete
  30. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या..
    goutamji...isame bahut kuchh chhipaa he aour mahaz do pankti me aapne poora vistaar de diya..aapki is khoobi me mujh jesa to deevana rahtaa hi he/ lazavaab/

    ReplyDelete
  31. दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    भाई जवाब नहीं आपकी इस ग़ज़ल का. हर शेर बेहतरीन है.

    ReplyDelete
  32. इस प्यारी सी कविता के लिये दिल से आभार

    ReplyDelete
  33. itni viprit pristhiyo me ati sundar
    sahity srjan .savednao ko nya aayam deti pyari si gjal .
    badhai aur shubhkamnaye

    ReplyDelete
  34. हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या

    क्या बात कही है..वैसे दोपहर मे बहकने वालॊं की तादात भी कम नही है..
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  35. गजल तीन बार पढी
    पहली बार पढने के लिए
    दूसरी बार फिर से आनंद प्राप्ति के लिए
    और तीसरी बार रदीफ़ बदल कर "क्या" की जगह "उफ़" रदीफ़ का इस्तेमाल करके

    आप भी पढियेगा :)

    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    इस शेर ने बहुत प्रभावित किया

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  36. Gautam sir aap vishwaas karein na kare par ye sacha hai ki apke blog main comment karne ka man nahi karta....

    ...Baat itni si hai, ki wo nostalgia ka deja vu sa reh jaata hai.

    :)

    aur jab sochta hoon ki aaj kuch likhoon apki post ke baare main to itna kuch, bahut kuch likh deta hoon , bus post ki samiksha ke siwa.
    aap nahi jaante saheb aap log mere jivan main kya mahatva rakhte hain...

    ....abhi to bus itna hi post pad chuka hoon, ghazal khod chuka hoon...

    ...par uske baare main comment karta hoon...

    ...baad main shayad 1/2 ghante baad.

    aapka sadev.

    ReplyDelete
  37. log post ke bhaag copy paste karte hai par main aapke comment padh ke unhein paste kar raha hoon...

    arsh bhai ne kya khoob kaha hai...
    मैं अगर कहूँ के आप दो चीजो की रक्षा कर रहे हैं तो गलत ना होगा एक तो हिंद और दूसरी हिंदी की ...

    mufils sir:

    "captivating couplet
    this is right from 'cafe'
    atmosphere...not favorable...."

    Can really understand sir,one can not always get THAT "atmosphere"
    HAHA...

    amtaabh ji.yoon (plural) ko apka same sher pasand aaya...
    ...and what a co incidet dono ke comment bhi ek saath.

    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या..

    jeet hamesha Extrovert hoti hai saab, haar introvert !!

    dig said...
    "आपकी व्यवस्तता समझ में आती है गौतम जी .............. उस दिन आपसे बात कर के बहूत ही मज़ा आया, दिल को सुकून आ गया ..... आपका हँसता हुवा चेहरा सामने आ गया ............ आपकी ग़ज़ल पढ़ कर लग रहा है मैं आपके करीब ही बैठा हुवा आपसे सुन रहा हूँ ..........."
    bold wali baat mujhe bhi lagti hai...

    "बहुत स्क्रॉल करना पड़ता है भाई कुछ ब्लोग्गेर्स को कमेन्ट करने के लिए..."

    sahi kaha sagar ji...

    ..But it's worthwhile.


    "ईश्वर आपको बहुत लंबी उमर दें...!"
    kancha di ke saath saaht meri bhi yahi dua....

    saab nirmala ji ne baat to sahi kahi:
    "आपने अब अगली पोस्ट के लिये उत्सुकता बढा दी है"


    comment post se zayada bada na ho jaiye isliye chalta hoon...
    waise bhi ye sher muh chida raha hai:

    "हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या"

    ReplyDelete
  38. ग़ज़ल बहुत उम्दा है
    वर्तमान साहित्य तक मेरी पहुँच जोधपुर जाने से ही बनती है, कोई जुगाड़ बिठाता हूँ ताकि बाकी दोनों गज़लें पढ़ी जा सके आपको बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  39. "सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या"

    मैं ठहरा हूँ यहीं अभी तक । खूबसूरत पंक्तियाँ । आभार ।

    ReplyDelete
  40. सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या

    हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या

    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    ..........

    वाह गौतम भाई वाह !! लाजवाब !! एकदम लाजवाब !!

    है राहें धुप से लथ पथ.....यह बिम्ब कमाल का लगा....

    ReplyDelete
  41. ये तेरा यूँ मचलना क्या
    मेरे दिल का तड़पना क्या

    निगाहें फेर ली तू ने
    दिवानों का भटकना क्या

    सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या

    हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या

    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या

    है तेरी रूठना आदत
    मनाना क्या बहलना क्या

    ऐसी ग़ज़ल की तारीफ कैसे की जाती हैं !!!!
    हम नहीं जानते हैं .....

    ReplyDelete
  42. phone hi kareinge kabhi sahub

    aapne kamal kiya hai..

    badaa kamaal..

    ReplyDelete
  43. दीवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या

    हुआ मैला ये आइना
    यूँ अब सजना संवारना क्या

    क्या खूब कहते हैं आप ....एक एक बात पढना अच्छा लगता है ...'वर्तमान साहित्य ' में छपने के लिए बधाई स्वीकार करें ....साथ ही ' मौन' को पसंद करने का आभार ...आपकी टिप्पणी से लगा सच कुछ अच्छा लिख पाई हूँ .....

    ReplyDelete
  44. ab jaldi se agli post chhaap maaro saahib...

    uski jyaadaa be-chaini uth rahi hai..
    :)

    ReplyDelete
  45. नमस्कार गौतम जी,
    छोटे बहर में हमेशा ही कमाल होता है, अच्छी ग़ज़ल है.
    बधाई आपको, इसके "वर्तमान साहित्य" में छपने के लिए.
    कुछ शेर जो दिल को छु गए................
    "है तेरी रूठना आदत
    मनाना क्या बहलना क्या"
    और .....
    "हैं राहें धूप से लथ-पथ
    कदम का अब बहकना क्या"

    ReplyDelete
  46. देर से आने के लिए मुआफी ...इधर भी जिंदगी कभी कभी घडी की सुइयों सरीखी हो जाती है ओर आदमी २४#७ में उलझा हुआ .पिछले दिनों हमारी भी ब्लॉग जगत से दूरी बनी रही ....

    आपका ये शेर दिलचस्प है..

    सुबह उतरी है गलियों में
    हर इक आहट सहमना क्या


    देखे कौन सी दिलचस्प दास्ताँ लेके उतरते है आप वादी से .ओर हाँ ओक्टोबर में हमारा आना तय है ....

    ReplyDelete
  47. भाईसाहब, आपकी ग़ज़ल पसंद आई.

    ReplyDelete
  48. भाईसाहब, आपकी ग़ज़ल पसंद आई.

    ReplyDelete
  49. taazaa post kaa badi besabri se intezaar hai..
    huzoooooooooooor.......!!!!
    :)

    bahut besabri se...

    ReplyDelete
  50. एक शानदार ग़ज़ल को पढकर जी खुश हो गया।

    है तेरी रूठना आदत
    मनाना क्या बहलना क्या

    वाह जी वाह क्या बात है। आने वाली पोस्ट का इंतजार।

    ReplyDelete
  51. भाई तुम्हें तो रोज सुबह प्रणाम करने को मन करता है.
    अच्छी ग़ज़ल है. खासकर ईंटों को परखने वाला शेर तो गज़ब का है.

    ReplyDelete
  52. वो नयी पोस्ट कहाँ रह गयी मेजर साहिब..?
    :)

    ReplyDelete
  53. AAne mein der hui .....sabse pahle Vartmaan Sahitya mein chapne ki bdhai ....Madam bhejtin hi nahin varna jarur dekhte ....!

    Gazal ke jankaron ne itani tarif kar di ki ab meri tarif bemani si hokar rah jayegi ....aapka to har she'r lajwaab hota hai ....!!

    Aur idhar Dr. Sahib bhi kuch old monk ka program bnate dikh rahe hain ...chliye ek aur hansin sham ka intjaar rahega ....!!

    ReplyDelete
  54. दर्पण भाई,
    मैंने आपका फोन नम्बर गलती से कई ऊट-पटांग लोगों को दे दिया है

    मेरी बेवकूफी थी,
    आज के बाद मैं किसी को भी किसी का फोन नंबर नहीं दूंगा....

    देना भी नहीं चाहिए...
    बहुत बेकार बात होती है ये....

    हमें कोई हक़ नहीं के किसी को भी किसी का भी फोन नंबर दे डालें...!!

    आप इस पोस्ट पे जरूर आओगे..
    इस लिए यहाँ पे लिखा है..

    आय एम सॉरी अगेन....!!!

    ReplyDelete
  55. बहुत देर से टिप्पणी कर पा रहा हूँ गौतम जी , आलसी हूँ निभा लीजियेगा ! पूरी की पूरी ग़ज़ल ही बहुत खूबसूरत बन पड़ी है
    दिवारें गिर गयीं सारी
    अभी ईटें परखना क्या
    हुआ मैला ये आईना
    यूँ अब सजना-सँवरना क्या
    ये अशआर सोच की उन गहराइयों तक जाते है जहाँ से उबरने को भी जी नहीं चाहता ! बहुत खूब !

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !