05 April 2010

जुगलबंदी - दर्पण और अर्श की

कुछ अनूठे और आधुनिक बिम्बों का अपनी कविता, त्रिवेणी, क्षणिका और इन दिनों अपनी कहानी में भी इस्तेमाल कर, दर्पण ने कम समय में ही अपना एक बहुत ही खास स्थान बना लिया है हिंदी ब्लौग-जगत में। वहीं दूसरी तरफ अपने इश्किया शेरों और नाज़ुक ग़ज़लों को लेकर अर्श की पहचान किसी परिचय की मोहताज नहीं रह गयी है। आज प्रस्तुत है दोनों की जुगलबंदी- जहाँ दर्पण की एक प्यारी-सी ग़ज़ल को एक बहुत ही खूबसूरत धुन और अपनी दिलकश आवाज़ से सँवारा है अर्श ने।

दिल्ली में हाल ही में संपन्न हुये विश्व पुस्तक मेला के एक भ्रमण के बाद जमी बैठकी में ये जुगलबंदी साकार हुई, जहाँ सम्मोहित-सा बैठा मैं कुछ यादें चुराता रहा अपने कैमरे में और अपनी एक छोटे से आडियो-रिकार्डर में। पेश है ये खास जुगलबंदी:-






मुस्कुराते रहे दिल लुभाते रहे
बात कुछ और थी, तुम छुपाते रहे

दर्द जैसा मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
लोग सदियों इसे गुनगुनाते रहे

इस कदर मुफ़लिसी का चढ़ा है जुनूं
अपने अहसास भी हम लुटाते रहे

एक शोखी नयी, इक नया-सा सुकूं
इस भरम में ही पीते-पिलाते रहे

खैर दुनिया तो हमने भी देखी नहीं
हाँ, मगर एक दुनिया बनाते रहे

जिंदगी रूठ जाने की हद हो गयी
जिंदगी भर तुझे हम मनाते रहे

तुम चले भी गये औ’ गये भी नहीं
होंठ में स्वाद से याद आते रहे

आज जाकर मुकम्मल हुई इक ग़ज़ल
आज अपना ही लिक्खा मिटाते रहे


...ग़ज़ल तो खैर खूबसूरत है ही, इस लाजवाब धुन ने और मोहक आवाज ने इसकी खूबसूरती और बढ़ा दी है। कहीं-कहीं जो अर्श गाते हुये अटक रहे हैं, तो दोष दर्पण की लिखावट का है। बहरो-वजन को तौलते हुये तुरत-फुरत धुन बना कर गा देना, अर्श के ही सामर्थ्य की बात थी। इस बहरो-वजन का जिक्र पहले ही कर चुका हूँ मैं, इसी जमीन पर लिखी मेरी एक ग़ज़ल को जब आप सब के साथ साझा किया था।

फिलहाल इतना ही। अगली पोस्ट पर मिलता हूँ जल्द ही...

66 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति। सादर अभिवादन।

    ReplyDelete
  2. आनन्द आ गया सुन पढ़ कर...उम्दा प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  3. जबरदस्त जुगलबंदी.. अर्श मियां की आवाज़ तो कमाल है.. शोखी नयी पर हमारी भी दाद शामिल कर लीजियेगा.. आयर तुम चले भी गए और गए भी नहीं पर दर्पण को शाबाशी की डाल पकड़ा दीजियेगा.. और तकनीक के सही इस्तेमाल के लिए आपको १०० नंबर..

    वैसे दर्पण के लिखे को गाने में मज़ा ही अलग है.. हम तो ये काम पहले ही कर चुके है.. उनकी 'अब मुसाफिर थक गया तो सो रही है मंजिले.. ' को रिकोर्ड करके...

    आपने तो मंडे फंडे बना दिया... आई होप कोई इसे नापसंद नहीं करेगा.. :) (इमेजिन कीजिये मुस्कुराते हुए आँख मार रहा हूँ..)

    ReplyDelete
  4. हमजोलियों की यह गजल संध्या तो बहुत जोरदार रही

    ReplyDelete
  5. दर्द , जैसे मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
    लोग सदियों इसे गुनगुनाते रहे .....

    जी हाँ ,,, याद है आज भी,, अभी भी
    उस दिन वहाँ ना होते हुए भी
    मैं वहाँ ही तो था आप सब के पास
    और फोन पर लगातार आप सुनवा भी रहे थे
    वो आवाजें,,,वो स्वर,,,,वो आलाप,,,,
    और वो सब वाह-वाही ...
    सभी महफूज़ हैं जेहन में
    और मेरे एस एम् एस भी आपने संजो के रक्खे या नहीं
    दुबारा आना होगा.....
    बधाई .

    ReplyDelete
  6. गजल सुनने के बाद गजल और अच्छी लगी। सुन्दर! बेहतरीन!

    ReplyDelete
  7. वो कितनी हसीं शाम रही होगी..जिसकी आहट ने इस सुबह को चौंका दिया , सबका आभार

    ReplyDelete
  8. वाह । अपना ही लिखा मिटाते रहे । यह सृजन की आवश्कता भी, आनन्द भी ।

    ReplyDelete
  9. वाकई अच्छी गज़ल है. अभी सुन नहीं सका.. फिर प्रयास करूंगा फुर्सत में।
    --आभार।

    ReplyDelete
  10. kaid lamhe , khyaal aur swar bahut achhe lage....

    ReplyDelete
  11. राजरिशी जी...........
    दर्पण और अर्श की यह जुगलबंदी वाकई खूब जँची........किशोर कुमार स्टाइल में ( ..........वो शाम कुछ अजीब थी वाले अंदाज़ में ) अर्श ने जिस तरह गाया .....वो बड़ा सुखद रहा........... ग़ज़ल तो खैर अच्छी थी ही....अच्छी प्रस्तुति.....!

    ReplyDelete
  12. bahut khoob....Arsh gaate bhi achcha hai...iska pata aaj hi chala :-)

    ReplyDelete
  13. दोनों अद्भुत इंसान हैं, तारीफ करने को इनके लिए शब्द जुटाने पड़ेंगे.

    ReplyDelete
  14. ७ फरवरी २०१० की शुरुआत जब जब रात १२.०० बजे हुई तब हम भी शामिल हुए थे लखनऊ से डायरेक्ट इस सम्मेलन में। संयोग से अर्श मियाँ यही गज़ल गुनगुना रहे थे उस समय।

    आवाज़ और शब्द दोनो का धनी बनाया है ईश्वर ने अर्श को।

    और ये दर्पण.. ये तो हम सब बुजुर्गों की वाट लगाये पड़ा है। समझ नही आ रहा कितनी समझ डेवलप कर ली है इसने, जो हमारी खोपड़ी के ऊपर से गुजर जा रही है।

    दोनो अनुजों पर नाज़ है और हमेशा आशीष इनके उत्तरोत्तर प्रगति हेतु।

    ReplyDelete
  15. bahut hi sundar prastuti.........do sitaron ka hai zameen par milan aaj ki raat..........adbhut.

    ReplyDelete
  16. वाह .. ग़ज़ब की ग़ज़ल और उतनी ही खूबसूरत आवाज़ ... अर्श ने तो कमाल कर दिया ...
    आपने तो यादें समेट लीं अब धीरे धीरे बाँटने का भी शुक्रिया गौतम जी ...

    ReplyDelete
  17. अब मुझे लगता है काश मैंने थोड़ी और कोशिश की होती .. कोई बहाना ही बना दिया होता !!!!!!

    OMG! I am still missing.

    बीच में आपकी जिंदादिल आवाज़ "क्या मिसरा है" सुनाई दी, लगा आपसे बात हो गयी.

    ReplyDelete
  18. जोशीले जवानों की त्रिवेणी को दाद देता हूं ।
    अर्शजी की धुन और आवाज़ सुनने के लिए इस ओर आकृष्ट हुआ। बढ़िया है …
    लेकिन
    अर्शजी का भी यहां ध्यान कैसे नहीं गया ?

    दर्द ' जैसा 'मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
    लोग सदियों इसे गुनगुनाते रहे सदियों

    दर्द जैसा नहीं, दर्द ; जैसे मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
    होना चाहिए था ।
    फ़िर …
    'होंठ में ' स्वाद से याद आते रहे
    जमा नहीं !
    हासिले-ग़ज़ल शे'र है तो यह …
    आज जाकर मुकम्मल हुई इक ग़ज़ल
    आज अपना ही लिक्खा मिटाते रहे
    लेकिन सृजनशील रचनाकारों से बहुत उम्मीदें हैं ।
    शुभकामनाएं !
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  19. दर्पण और अर्श की जुगलबंदी...एक ने लेखन से और दूसरे ने गायन से चमत्कृत कर दिया है...वाह और क्या चाहिए...हम तो सुनते रहे गुनगुनाते रहे...आपका शुक्रिया कैसे अदा करूँ इस सोच में हूँ...लाजवाब प्रस्तुति...
    नीरज

    ReplyDelete
  20. बहुत इत्मीनान से सुना आज. लगा महफ़िल में शामिल हूँ. पहली बार सुना अर्श जी को.

    दर्पण जी का ग़ज़ल ह्म्म्म आगे और सुनना पड़ेगा.

    एक यादगार सूटिंग आपका. यहाँ बांटने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  21. @ स्वर्णकार जी ग़ज़ल का शे'र :
    दर्द जैसा मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
    लोग सदियों इसे गुनगुनाते रहे

    वाकई में
    दर्द जैसे मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
    लोग सदियों इसे गुनगुनाते रहे

    ही है.

    जैसा की गौतम दाज्यू ने कहा...
    ...दोष दर्पण की लिखावट का है।
    BTW: आपकी टिप्पणी भाई.

    @ गौतम दाज्यू मुझे अब भी याद है आपका इस शे'र में कमेन्ट कि लोग सदियों कि वजह से ये generlised हो गया है. और कुछ कुछ यही feeling मेरी भी थी इस शे'र को लेकर.

    वापिस आता हूँ (सच में ! ). फुरसतें किश्तों में मिलती हैं आजकल. एक एस. ऍम. एस. किया था आपको, कॉल करने के बाद. उस वक्त नहीं मिला आपको, अच्छा ही हुआ.

    ReplyDelete
  22. इस जुगलबंदी का भरपुर आनंद लिया जी। दर्पण जी के लेखन के हम पहले से कायल है और अर्श जी आज हम भी फैन हो गए।

    ReplyDelete
  23. jugalbandi ka apnaa alag aanand he, shaastriya sangeet aour nrutyo ki jugalbandi bahut dekhi..aur jugalbandi ka aashiq ho gaya..idhar darpanji-arshji ki jugalbandi ko aapne saheja to yah tibalbandi ho gai., behatreen

    ReplyDelete
  24. अच्छी रही ये जुगलबंदी ! हम तक पहुँचाने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  25. आनन्द आ गया . अर्श की आवाज कमाल दर्पण क कलाम व्ह भी कमाल

    ReplyDelete
  26. तुम चले भी गये औ’ गये भी नहीं
    होंठ में स्वाद से याद आते रहे

    दर्पण और अर्श की यह जुगलबंदी, अच्छी रही प्रस्तुति

    ReplyDelete
  27. फुर्सत किश्तों में मिलती है आजकल...


    सही कहा jhon .....

    कल मिली भी थी.....
    और सोच भी आप ही दोनों महानुभावों से मिलने की रहे थे.....
    थे भी आधे रास्ते पर...
    पर आखिर सोचते ही रह गए...फुर्सत वापस चली गयी...

    रात में लौटे तो ये पोस्ट देखी...और पहला कमेन्ट बड़े फुर्सत में किया...
    अभी हालांकि जाना है..इसीलिए ये दूसरा कमेन्ट ज़रा जल्दी में....

    अब सुनिए उस ख़ास शे'र में क्या लुत्फ़ है......
    असल में सब लोग सुनकर कमेन्ट दे रहे हैं....और हम सुन पाने से मरहूम...नहीं ....
    महरूम हैं..
    :)
    अपना प्यारा मोबाइल जो पटक कर तोड़ दिया है....अब जाने कब सुन सकेंगे.....
    मगर क्यूंकि हमने लाइव सुना है....वो धुन अभी भी यूं की यूं ज़हन में बसी हुई है...
    सो ..हम समझ सकते हैं..कि.........

    तुम चले भी गये औ’ गये भी नहीं
    होंठ में स्वाद से याद आते रहे

    ReplyDelete
  28. अपने इधर जम रहा है ये शे'र...

    ReplyDelete
  29. simply amazing ...fantastic words wd melodious voice !

    Thankx gautam ji for sharing

    Cheers !!

    ReplyDelete
  30. बहुत सुंदर प्रयोग ....और आपका चुराना भी सार्थक .बहुत बहुत बधाई .

    ReplyDelete
  31. आप अगर अर्श से मेरी भी सिफारिश कर देज़ं तो अपनी भी कोई गज़ल संवर जाये। जितनी खूबसूरत गज़ल है उतनी ही आवाज़ पता नही क्यों आपनी इस खूबी को अर्श अपने पास लिये बैठा है क्यों उसे सब के सामने नही लाता ये तो वही जाने। ये जोडी यूँ ही बनी रहे दोनो को बहुत बहुत आशीर्वाद । और इस पोस्ट के लिये धन्यवाद आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  32. समझ नहीं पा रहा हूं कि "शिवा को बखानौं या बखानौं छत्रसाल को"। इस सम्म्होहन से उबरूं तो टिप्पणी करूं!!!

    औडियो फाइल मिल जायेगी क्या?

    ReplyDelete
  33. दो बिगड़े हुए लोगो के मिलने के बाद मौसम में सडन क्लाइमेटिक चेंज होते है .......ओर तीन के बाद तो शर्तिया ....अर्श ओर दर्शन दो हीरे है...आपकी संगत में शायद ओर तरश जायेगे ....

    अगली महफ़िल की कोई डेट?

    ReplyDelete
  34. मेरा कुछ किया धरा नहीं है ये सब दर्पण और गौतम भाई का है !
    और उसके मास्टर हैं मनु भाई उनकी तो पूछो मत बिच बिच में ठहाके और वाह उफ्फ्फ मेरी आवाज़ से कहीं बेहतर कशिश लिए हुए है , और मेजर साब का अहा वाला ठहाका ये दोनों शादी -शुदा लोग हमें अकेले छोड़ते ही नहीं अपनी हुनर से छा जाते हैं ... उफ्फ्फफ्फ्फ्फ़
    राजेंद्र स्वर्णकार जी की बात को सर आँखों पर ... वेसे भी बच्चे गलतियां तो करते ही हैं ना ...
    बहन जी मेरी बात ना करो मेरे से कहीं खुबसूरत आवाज़ आपको अलाह मियाँ :) ने आपको बख्शी है ... पर दर्पण के बारे में ये सही है के कभी कभी हैरत में हो जाता हूँ उसकी बातों पर के आखिर ये अपने उम्र से बड़ा कैसे हो गया कहता तो है २५ या २६ या २...... का है मगर बातें तो ...
    वो शाम वाकई हसीं थीं मगर हमारे एक उस्ताद जनाब मुफलिस जी नहीं रहे थे इसलिए कमी खल रही थी , मगर इन डैरेक्ट रूप से खलल :) :) मन को सुकून पहुंचा रहा था ...
    और रवि भाई के टिपण्णी के तरीके का भी हम कायल है या खुदा इस इंसान को इतनी शुद्ध हिंदी क्यूँ देदी ...
    और डाक्टर साहिब अगली तारीख आपको बता दी जाएगी मगर शर्त ये है के आप मौजूद होंगे जरुर... :)
    और माँ आपकी ग़ज़ल सुनील डोगरा जी बढ़िया गाते हैं :)
    आप सभी गुनी जनों का दिल से ढेरो आभार पसंद करने के लिए......

    आप सभी का
    अर्श

    ReplyDelete
  35. Filhaal sirf Ghazal padh payi hoon ... waqt kam tha to pehle Ghazal padhee ...

    Yah ashaar bahut pasand aaye ..

    इस कदर मुफ़लिसी का चढ़ा है जुनूं
    अपने अहसास भी हम लुटाते रहे

    खैर दुनिया तो हमने भी देखी नहीं
    हाँ, मगर एक दुनिया बनाते रहे

    आज जाकर मुकम्मल हुई इक ग़ज़ल
    आज अपना ही लिक्खा मिटाते रहे

    God bless
    RC

    ReplyDelete
  36. दो बिगड़े हुए लोगो के मिलने के बाद मौसम में सडन क्लाइमेटिक चेंज होते है .......ओर तीन के बाद तो शर्तिया ....अर्श ओर दर्शन दो हीरे है...आपकी संगत में शायद ओर तरश जायेगे ....
    anuraag ki tippni se behtar to kch ho hi nahi sakti .

    gazal suni

    जिंदगी रूठ जाने की हद हो गयी
    जिंदगी भर तुझे हम मनाते रहे.

    hmne khaas apne iye rkh liya hai .

    bs aise hi khushnuma shaamen aap ki jindgi me baar -baar aayen is shbhkaamnaayon ke saath

    ReplyDelete
  37. गौतम जी कल से भटक रहे है
    कल कई बार आये गजल सुनाने का लिंक दिखा ही नही सोचा नेट स्पीड स्लो होगी आज भी नहीं मिला :(

    अगर मुनासिब समझें तो क्लिप मेल कर दे
    एक साथ गजल और आवाज की तारीफ़ करेंगे

    और हाँ वो पुराणी वाली फाईल भी भेज दें
    अरे वही अर्श भाई की "इश्क मुहब्बत आवारापन"
    उनसे माँगी तो कहा मेरे पास नहीं है गौतम जी से मांगो :)

    भेज देंगे ना प्लीज़ :)

    ReplyDelete
  38. वाह! क्या जुगलबंदी है ...दर्पण की ग़ज़ल बहुत अच्छी लगी.और अर्श की प्रस्तुति भी.

    [@अर्श ,शब्द 'शोखी' को बहुत उछाला है आप ने!:)
    'छुपाते'[२:५३ पर]-[४.००].[४:२८ ].बेचारे इस शब्द को भी नहीं बख्शा!]
    :D बहुत आनंद आया सुनने में.

    ReplyDelete
  39. अर्श भाई और दर्पण जी ने तो समां बांध दिया है,
    मुस्कुराते रहे दिल लुभाते रहे
    बात कुछ और थी, तुम छुपाते रहे
    अर्श आपकी मखमली आवाज़ ने घायल कर दिया और बीच-बीच में आपका वो "और" को खींचना तो जान ले गया.
    दर्पण जी ये मिसरा "तुम चले भी गये औ’ गये भी नहीं" बहुत खूबसूरत निकला है, वाह वाह वाह
    आप दोनों ने दिल जीत लिया, बहुत बहुत बधाई
    गौतम भैय्या आप ने इस बेहतरीन प्रस्तुति को यहाँ पे लाकर सभी को कृतार्थ कर दिया.

    ReplyDelete
  40. shukriya share karne ke liye...

    ReplyDelete
  41. डायल अप कनेक्शन ने सुनने का सुअवसर तो अभी नहीं दिया है,पर पढ़कर जो आनंद आया क्या कहूँ....लाजवाब...सिम्पली ग्रेट !!!

    जल्दी ही सुनने की जुगत लगती हूँ...

    ReplyDelete
  42. दर्पणजी और अर्शजी ,
    सकारात्मक दृष्टिकोण आपका अतिरिक्त गुण है । मुझे ख़ुशी है कि मैंने अपनत्व भाव से बात समझने वालों के साथ मन की बात की । … नहीं नहीं , ग़लती जैसी कोई बात नहीं अर्श भाई !
    आप सबके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूं ।

    मेरा ब्लॉग भी शीघ्रातिशीघ्र लॉंच हो रहा है !

    शायद कल या परसों तक ही ! आप सभी "पाल ले इक रोग नादां..." से जुड़े मित्रों को आमंत्रण है …अवश्य ही पधारिएगा !
    लिंक यह है
    -http://shabdswarrang.blogspot.com

    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  43. पहाड़ और बिहार, दोनों पूरे देश पर भारी हैं. अर्श, दर्पण और राजरिशी, तीनों का कमाल देखा, सुना, सराहा. दर्पण को जब से जाना, उसका प्रशंसक हूँ. अर्श बहुत प्यारा बच्चा है. और बचे मेजर साब, "पाते हैं कुछ गुलाब पहाड़ों में परवरिश, आती है पत्थरों से भी खुशबू कभी कभी". सिर्फ दूसरों की प्रशंसा और अपनों का प्रचार कब तक? कभी अपने बारे में भी कुछ लिख मारा करो भाई.
    मैं तुमसे नाराज़ होने की कल्पना शायद सपने में भी नहीं कर सकता. और फिर एक सवाल भी उठता है -क्यों? क्या किया है आपने मेरे खिलाफ? खेत-मेंड़- नाली-पानी, पट्टीदारी, वगैरह जैसा कौन सा लफड़ा हमारे बीच है?
    यार, मैं किसी से नाराज़ होना जानता ही नहीं. कान पकड़ कर बोलता हूँ, मैं नाराज़ नहीं. अब मुर्गा बन कर विश्वास नहीं दिलाऊँगा.

    ReplyDelete
  44. एक अजीब ख़ूबसूरती का अहसास है इस सुन्दर जुगलबन्दी में, गौतम भाई। बहुत आनंद दिला दिया आपने। दर्पण जी ने तो बेहतरीन ग़ज़ल रची और अर्श। अहा क्या कहना है हमारे इस प्यारे भाई का! बहुत ख़ूब।

    ReplyDelete
  45. http://shabdswarrang.blogspot.com/
    कृपया ,शस्वरं पर पधारें,
    और टिप्पणी दें !
    ..ब्लॉग मित्र मंडली में शामिल हों !!
    साभार : राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  46. दर्पण चमक रहा है हर ओर..पर रोशनी तो सूरज की है..अर्श पर!..मजा आया सुन कर..गज़ल तो पहले पढ़ी ही थी..हम तो वैसे भी पढ़ने वालों मे हैं..कि फ़िल्मी लिरिक्स भी पढ़ कर आइडिया ले लेते हैं बस गाने का..मगर अर्श साहब की आवाज ऐसी जैसे गोरी को मखमल का पैरहन पहना दिया हो..शब-ए-महशर रही होगी वह तो.. जिसे बहुत बारीकी से मिस किया मैने..
    ..और अब तो ’आपको’ भी पढ़ने का इंतजार लंबा हो चला है..

    तुम चले भी गये औ’ गये भी नहीं
    होंठ में स्वाद से याद आते रहे

    ReplyDelete
  47. दर्द , जैसे मुसलसल ग़ज़ल हो कोई
    लोग सदियों इसे गुनगुनाते रहे .....

    bahut shaandaar sher hai ....

    kamaal ki jugalbandi

    meri to badi khwahish hai ki kabhi Sakha meri bhi gazal gunguna den
    magar kaha aise naseeb hamare ...... :-(


    Goutam ji shukriya itni achchi gazal padhwane aur sunane ke liye

    ReplyDelete
  48. खैर दुनिया तो हमने भी देखी नहीं
    हाँ, मगर एक दुनिया बनाते रहे

    जिंदगी रूठ जाने की हद हो गयी
    जिंदगी भर तुझे हम मनाते रहे

    मैयारी शायरी पेश की है गौतम जी....
    दर्पण जी और प्रकाश अर्श जी को बधाई.

    ReplyDelete
  49. बहुत ही खूबसूरत रचना की है हरबार की तरह
    आभार ...........

    ReplyDelete
  50. जिंदगी रूठ जाने की हद हो गयी
    जिंदगी भर तुझे हम मनाते रहे
    Aah! Bas itnahi kah sakti hun..

    ReplyDelete
  51. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  52. wow kya baat hai.. jaane kab se downloaded thi, aaj sunne ka samay nikaal paya.. sachmuch shaandaar

    ReplyDelete
  53. गज़ल भी सुंदर और गायकी भी ।
    अंतिम शेर तो कमाल का है ।
    आज जाकर मुकम्मल हुई इक ग़ज़ल
    आज अपना ही लिक्खा मिटाते रहे ।

    ReplyDelete
  54. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  55. monday night...


    ''paaal le ik rog naadaan'' ko dekhne aaye the mezar saahib.....


    dekhnaa jaroori lagaa...

    mon day thaa naa...!

    :)

    ReplyDelete
  56. दर्पण भाई की प्रतिभा का कायल हूँ ! दर्पण हम नौजवानों की रचना-शक्ति के सहज दर्पण हैं ! हम अकेले दर्पण को खड़ा कर आश्वस्त हो सकने की स्थिति में युवाओं की ओर से !
    गज़ल और उसकी गायकी- दोनों ने मन मोहा !
    दर्पण और अर्श-दोनों भाईयों का आभार !

    ReplyDelete
  57. उस हसीं शाम से हमारी सुबह खूबसूरत हो गयी ... जितनी अच्छी ग़ज़ल उतना अच्छा प्रस्तुत किया अर्श ने ...

    ReplyDelete
  58. Sab kuchh theek thaak to haina? Aapko pichhali 3 kadiyonme 'Bikhare sitarepe' nahi dekha!Warna aap chookte nahi the..is malika ka 3ra aur antim adhyay bas shuruhi honewala hai...
    Aakhari kadime synopsis likh diya hai..Aapka hamesha intezaar rahta hai..

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !