15 March 2010

त्रासदी प्रेम की...कविता की

पुरानी डायरी के पुराने पन्नों को पलटना एच० जी० वेल्स के टाइम-मशीन सा ही चमत्कार दिखाता है...पीछे छूट गयी दुनिया में ले जाते हुये। कहीं रेनोल्ड, तो कहीं एड जेल, तो कहीं फाउंटेन पेन की बेतरतीब अटपटी लेखनी में तन्हा रातों को उकेरे गये शब्द कभी खुद को चमत्कृत करते हैं और कभी एक झेंप-सी पैदा करते हैं। ऐसे ही एक दिन किसी पुरानी डायरी के एक अटपटे-से झेंपे पन्ने को उठा कर शरद कोकास जी को भेज दिया एक सकुचाये हुये प्रश्न के साथ कि ये डायरी है या कविता(?)। कविता- उनका जवाब आया। ...तो उनके जवाब से संबल लेते हुये आपलोगों के समक्ष प्रस्तुत है डायरी का वही अटपटा-सा झेंपा हुआ पन्ना :-

नहीं देखा है मैंने कभी
फूल अमलतास का
जो कभी दिख भी जाये
तो शायद पहचानूँ ना,
जिक्र करता हूँ इसका फिर भी
अपनी कविता में-
तुम्हारे लिये

गौर नहीं किया कभी सुबह-सुबह
शबनम की बूँदों पर
झूलती रहती हैं जो दूब की नोक संग,
बुनता हूं लेकिन कविता इनसे-
तुम्हें सुनाने के लिये

सच कहूं तो
ये चाँद भी
तुम्हारी याद नहीं दिलाता
फुरसत ही कहाँ जो देखूँ इसे,
सजता है ये मगर मेरी कविता में अक्सर-
तुम्हारी खिलखिलाहट के लिये

ये अमलताश के फूल
ये शबनम की बूँदें
ये चाँद की चमक
और
तुम

प्रेम की अपनी त्रासदी है
और कविता की अपनी...



डायरी पर खुदा हुआ वर्ष और पन्ने पर छपी हुई तारीख ले जाती है तकरीबन तेरह साल पहले पुणे, खड़गवासला की घाटियों में किसी कार्पा डोंगर और राला रासी नामक पहाड़ियों पर। लथ-पथ पसीने में डूबा जिस्म, टूटते कंधों और चुभते तलवों के साथ खत्म होता हुआ दिन लेकर आता है चाँद अपने संग और उपजती है ये अटपटी पंक्तियाँ लगभग पंद्रह सौ किलोमीटर दूर बैठी एक बड़े-से शहर की एक छोटी-सी लड़की के लिये। कितना अद्‍भुत टाइम-मशीन है ये सच...! जिन कार्पा डोंगर और राला रासी की चढ़ाईयाँ चढ़ने में कभी पिट्ठु और राइफल लिये कंधे टूट जाते थे, तलवे छिल जाते थे...ये मशीन मुझे एक झटके में वहाँ ले जाता है अब। बस एक पन्ना ही तो पलटना होता है- झेंपा हुआ अटपटा-सा पन्ना :-)


67 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति। यह प्रस्तुत करने का अलग और नया अंदाज है।

    ReplyDelete
  2. sunder prastuti ke sath achcha laga aapka ye jhempa hua panna. bahut sunder.

    ReplyDelete
  3. प्रेम की अपनी त्रासदी
    और कविता की अपनी ...
    चाँद ...अमलतास देखे बिना कविताओं में उतारना ...
    क्या बात है ...!!
    " तुम्हे देखकर ह्रदय में एक भी बुलबुला नहीं फूटा मगर
    कि अपना सबकुछ दिया तुम्हे की कही तुम्हारी आँखों को उदासियों के बादल ना घेर ले ..."
    डायरी में संकलित कविता का अंश ...

    ReplyDelete
  4. ये अमलताश के फूल
    ये शबनम की बूँदें
    ये चाँद की चमक
    और
    तुम

    प्रेम की अपनी त्रासदी है
    और कविता की अपनी.

    Ateet ke panno se khoobsoorat andaaz aur waqt dono hi badiya hain

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी पोस्ट.
    काव्य मंच पर काव्य पाठ करने वाले किसी कवि की कविता अच्छी होती है किसी की प्रस्तुति अच्छी होती है मगर किसी-किसी की कविता और प्रस्तुति दोनों लाजवाब होती...और वही मंच लूट लेता है.
    ..आप भी सभी ब्लागरों की प्रशंसा लूटने वाले हैं...!

    प्रेम की अपनी त्रासदी है
    और कविता की अपनी...
    ..दरअसल सीधी सच्ची-बात ज्यादे असरदार होती है अमलतास के फूल से भी अधिक..शबनम की बूदों से भी अधिक..चंदा की चांदनी से भी अधिक प्यारी होती है और मुझे लगता है कि यही कविता है.
    ..बधाई.

    ReplyDelete
  6. कभी एक झेंप-सी पैदा करते हैं-इस में तो हम ढीठ हो चुके हैं हा हा!!


    बेहतरीन कविता है..पूरे स्पष्ट भाव...गहराई से उँचाई तक आते दिखते हैं..सफल प्रयोजन है.

    ReplyDelete
  7. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. अटपटा सा झेंपा हुआ पन्ना - काव्यमय ।
    लेकिन झेंपना क्यों ?
    अटपटा क्यों?
    भैया कविता मन का राग है उमंग है, उसे किसी बन्धन में क्यों बाँधें ?
    उमंग भी कैसी अमलतास नहीं देखा पहचाना लेकिन खिल उठा कविता में !

    ReplyDelete
  9. निर्मल!
    पहली प्रतिक्रिया यही एक शब्द है...

    अपने आप में से निकलती हुई...झरने की तरह...

    ReplyDelete
  10. ये अमलताश के फूल
    ये शबनम की बूँदें
    ये चाँद की चमक
    और
    तुम

    यही तो वो खूबसूरत पल होंगे जो उन जंगलों और पहाड़ों के बीच एक सुखद प्रेममय वातावरण का रेखाचित्र खींच देते होंगे...उन मुश्किल हालत में यह यह रचना एक खूबसूरत व्यक्तित्व का परिचय देती है..

    बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना...धन्यवाद गौतम जी

    ReplyDelete
  11. आपको पढो तो कुछ न कुछ् सीखने को मिलता है,वैसे आपकी टाईम मशीन तो हमको सालो पीछे ले जा रही है।बहुत खूब गौतम साब,बहुत खूब्।

    ReplyDelete
  12. सच कहूँ कविता से ज्यादा मुझे इसका कन्फेशन प्रभावित कर गया .......

    ReplyDelete
  13. Aapka aalekh aur kavita, dono, mujhe bhee door,bahut door ateet ke safar me le gaye...

    ReplyDelete
  14. ये अमलताश के फूल
    ये शबनम की बूँदें
    ये चाँद की चमक
    और
    तुम

    प्रेम की अपनी त्रासदी है
    और कविता की अपनी...

    bahut hi sundar bhavmayi kavita.

    ReplyDelete
  15. nahin dekha phul amaltaas ka phir bhi ek soch tumhare liye ....waah

    ReplyDelete
  16. वाह बहुत सही है यह डायरी के पुराने पन्ने भी गजब कर जाते हैं ..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  17. imandari se apni bhavnao ko ukerto ak imandar rachna aur utni hi imandari se rachi hui prstuti .
    trasdiyo ke aage ham natmastak ho jate hai .

    ReplyDelete
  18. बड़ी प्यारी सी कविता है....जैसे झिझकती हुई सी पन्नों से निकल हम तक पहुंची...ये अमलतास,ओस, चाँद..सब किसी को याद करने के बहाने हैं....क्या बात है..

    ReplyDelete
  19. प्रेम की अपनी त्रासदी
    और कविता की अपनी
    और पाठकों की अपनी ...
    थोड़ी अब्स्ट्रेक्ट है न !
    बाकी गिरिजेश जी कह ही दिए हैं झेंप काहें

    ReplyDelete
  20. डायरी के पन्ने और कुछ लम्हें कहाँ-कहाँ ले जाते हैं... टाइम मशीन वाली बात और फिर...

    "फुरसत ही कहाँ जो देखूँ इसे,
    सजता है ये मगर मेरी कविता में अक्सर-
    तुम्हारी खिलखिलाहट के लिये"
    सोच रहा हूँ किसी को ईमेल कर दी जाय ये कविता !

    ReplyDelete
  21. खूब श्रृंगार किया है कविता का अमलतास शबनम और चाँद से, मनमोहिनी सी लगी ये प्रस्तुती
    और उसकी भूमिका वाह!!!!!! जिसके लिए लिखी थी उस तक पहुंची क्या ??? आगे भी उस डायरी के पन्ने पढ़ना चाहूंगी.

    ReplyDelete
  22. गौर नहीं किया कभी सुबह-सुबह
    शबनम की बूँदों पर
    झूलती रहती हैं जो दूब की नोक संग,
    बुनता हूं लेकिन कविता इनसे-
    तुम्हें सुनाने के लिये

    एकदम नए तरह का ख्याल..लाजबाब..बेहद सुन्दर बन पड़ा है..

    ReplyDelete
  23. आपकी डायरी के क्या सभी पन्ने ऐसे ही हैं...अटपटे और झेंपे से! उनकी झेंप मिटाइये और सभी पन्नो को अपने ब्लोंग पर सजा दीजिये! एक भी छूट गया तो नुकसान हमारा ही होगा!

    ReplyDelete
  24. किसी ने कहा था की हम ब्लॉग्गिंग में अलग होते हैं, और वास्तविकता मैं अलग, आज ये भी जाना कि कविता और वास्तविकता में भी बहुत difference है, पर कविता भी वास्तविक जीवन का एक अंग है, ब्लॉग्गिंग कि तरह, और वैसे वास्तविकता ही कितनी वास्तविक होती है? (am i sounding too philosophical ?)
    और सच है कि कई जगह 'उपमाएं' परम अपरिहार्य हो जाती हैं,आवश्यक नहीं बेशक !! उपमाओं और defination में अमलतास के फूल (जो मैंने भी नहीं देखा) और सपनों की अमूर्तता (जो देखी हैं, पर सूरदास के undefined 'गुड' की तरह) सी समानता हैं, उन देखे सपनों को communicate करने के लिए ना देखा हुआ अमलतास ज़रूरी है.

    ReplyDelete
  25. वाह गौतम जी क्या बात है। गजब के सुर और ताल बने है इस कविता में। कुछ एक पन्ने और पल्टो जी इस डायरी के। मैं तो बस बार बार पढकर आनंद ले रहा हूँ आपकी इस रचना का।

    ReplyDelete
  26. क्या को-इंसीडेंस है मेजर.......आपने भी कुछ पुराने पन्ने खोले और इधर मैंने भी अपनी पुरानी डायरियां टटोली........कुछ सूखी सी नज्में मुझे उन डायरियों में मिल गयीं.......उन्हें ब्लॉग पर लिख डाली! जब आपके ब्लॉग दरवाजे पर आया तो पता चला कि यही कारनामा आप भी कर रहे हैं......इत्तेफाक ही सही.....मज़ा आ गया.....!
    अमलताश के बहाने पुरानी जिंदगी में लौटने का भरपूर आनंद उठाने का एहसास .....समझ सकता हूँ...!

    ReplyDelete
  27. शबनम की बूँदों पर
    झूलती रहती हैं जो दूब की नोक संग,
    बुनता हूं लेकिन कविता इनसे..तुम्हें सुनाने के लिये.
    गौतम जी....
    अनमोल है ये डायरी का पन्ना.

    ReplyDelete
  28. बहुत अच्छे मेजर .. बस इसी तरह टाइम मशीन पर सवार होकर अतीत में जाते रहिये । यह अतीत मुग्ध भी करता है लेकिन यही भविष्य में जाने की प्रेरणा भी देता है । यह अतीत इतिहास बोध से लैस भी करता है और यही भविष्य के लिये प्रवेश द्वार भी खोलता है । शेष चिंता न करें , हम हैं ना !!! धन्यवाद सहित - शरद कोकास

    ReplyDelete
  29. त्रासदी प्रेम की या कविता की? वैसे मैं जहां तक समझ पाया हूं प्रेम खुद मे एक बहुत बडी त्रासदी है। दर्शन में प्रेम वही जिसमे त्याग हो। त्याग में त्रासदी का आभास हो जाता है। फिर कविता...यह क्या कम त्रासद है। दुख से उपजी हो या सुख से..उपजना ही या पैदा होना ही पीडा का भाव है, जो अज्ञात भी हो सकता है। जो बाद में सुख भी दे सकता है। खैर..। डायरी के पन्ने जब भी खुलते हैं बीता हुआ पल याद दिलाते हैं, क्या कम त्रासद है यह कि हम अपने ही पलों को याद करते हैं। या याद करना पडता है। मीठी मीठी त्रासदी।
    सजता है ये मगर मेरी कविता में अक्सर-
    तुम्हारी खिलखिलाहट के लिये...



    बस यही कविता है..शानदार।

    ReplyDelete
  30. अटपटा-सा झेंपा हुआ पन्ना :-???
    \

    ये अमलताश के फूल
    ये शबनम की बूँदें
    ये चाँद की चमक
    और
    तुम
    ???

    वाह वाह !! बेहतरीन....!!
    अरे साहब !! इसे झेंपा हुआ पाना क्यों कहना..प्रेम की त्रासदी के सभी रंगों के दर्शन कराती है यह कविता....शानदार प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  31. अमलतास कभी मेरा फेवरेट शब्द हुआ करता था.. इस पर काफी कुछ लिखा है.. कविता तो उम्दा है ही.. झेंपा हुआ पन्ना भी पसंद आया..
    और हाँ आपकी फटकार का कुछ असर तो हुआ है. देखते है अगली पिक्चर कब रिलीज होती है..

    ReplyDelete
  32. diary sach me kavita kahane layak hi hai.

    sundar lag rahi hain panktiyan...

    dusari baat ye achchhi hai ki mujhe samajh me aa rahi hai, varna apni chhoti si buddhi ke upar se gujar jaati hain adhiktar is prakaar ki kavitaen....!

    teesari aur sab se important baat ki Dr saab ne sahi kaha kavita ka confession kavita se adhik khubsurat hai.

    ReplyDelete
  33. ओह्ह्ह...क्या कहूँ...
    पांच मिनट से बैठी हूँ...एक भी शब्द पकड़ में नहीं आ रहा !!!!

    ReplyDelete
  34. जब कविता के पीछे की कहानी मालूम है तो उसे समझने और पढ़ने का आनंद दूना हो जाता है। बहरहाल अगर ना भी जानता तो भी जीवन की सच्चाइयों को छूती इन पंक्तियों के लिए दाद जरूर देता..

    ये अमलताश के फूल
    ये शबनम की बूँदें
    ये चाँद की चमक
    और
    तुम

    प्रेम की अपनी त्रासदी है
    और कविता की अपनी...


    बहुत खूब दिल की बात कह गए आप !

    ReplyDelete
  35. अनूठी कविता है और आपका अंदाज़ भी अनूठा है.इस कविता की महक में हम खो से गए ! बधाई

    ReplyDelete
  36. राजऋषिजी,
    कविता तो कविता, प्रारंभ और अंत का इंट्रो भी बा-कमाल ! आप बहुत संवेदनशील मन के जागरूक कवि हैं, तभी तो ये शिफत है ! कविता पुरानी चाहे जितने हो गई हो, उसकी तार्किकता तत्वपूर्ण है--इसलिए आज भी उसकी ताजगी और सुगंध में कोई कमी नहीं आयी है !
    पुरानी डायरी के पन्ने सर्वजनीन हुए, हम खुश हुए !!
    सप्रीत--आ.

    ReplyDelete
  37. इस कविता को कभी दर्पण के मुंह से सुनना चाहेंगे....

    ये ना पूछिएगा के उसी के मुंह से क्यूँ....?
    बस..दिल किया है..

    कविता पहले शब्द से लेकर अंतिम शब्द तक...रुक रुक कर हर शब्द को दोबारा पढने पर मजबूर करती है...
    इस पर ooooofffff कहना भी आसान नहीं...


    जो कभी दिख भी जाये
    तो शायद पहचानूँ ना,
    जिक्र करता हूँ इसका फिर भी
    अपनी कविता में-
    तुम्हारे लिये.....
    पढ़ते हैं और हैरान होते हैं..


    ज़िक्र करता हूँ फिर भी इसका...तुम्हारे लिए...

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सुंदर भाव ...
    प्रेम एक त्रासदी ही तो है!
    [झेंपा हुआ पन्ना ...अच्छा लगा यह वाक्य ख़ास कर.
    आगे व्याख्या की आवश्यकता ही नहीं !]

    ReplyDelete
  39. वक्त ज़रूर पुराना हुआ है पर उसे भी सलीके से आपने अपनी डायरी के पन्नों में टांक दिया है.और प्रेम कवितायेँ तो हमेशा नई ही रहती हैं.

    पन्नों को थोडा और फडफडाने दीजिए.जानता हूँ हमेशा ऐसा करने का मूड नहीं होगा.

    ReplyDelete
  40. आपके शब्द कौशल से हमेशा प्रभावित हुआ हूँ...इस बार भी...आप और अनुराग जी एक ही सिक्के के दो पहलू हैं...दोनों को पढ़ कर जो आनंद आता है वो शब्दों में नहीं बताया जा सकता...बेहतरीन पोस्ट और हाँ इतने साल पहले लेखन में इतनी परिपक्वता...किसी के प्यार का ही असर है...रचना भीतर तक छूती है..
    नीरज

    ReplyDelete
  41. ह्रदय के किसी नाज़ुक -से कोने में
    कभी खिलीं मखमली पंखुड़ियों को
    बड़ी मासूमियत से कविता का
    अनुपम, अभिनव और प्रफुल्लित आकार
    मिल गया है ,,,,
    अमलताश, चाँद , शबनम
    सभी खुद पर इतराए होंगे .
    यक़ीनन....

    ReplyDelete
  42. काफी दिनों बाद आया मगर बहुत अच्छा लगा|
    अच्छी प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  43. केवल कविता ही नहीं... उसके आस-पास का वातावरण खुशबू संग समेट लेते हैं और फिर विंटेज वाइन कि तरह पाठकों को पिलाते हैं...

    ReplyDelete
  44. कविता में 'अमलतास' दो बार आया है ! पहले ’अमलतास’ का ’स’ बदलकर ’श’ हो गया है दूसरे ’अमलतास’ में ! कविता को समझने का एक रास्ता यहाँ से भी तो नहीं !

    ReplyDelete
  45. गौतम भैय्या,
    ये तेरह साल पहले की कविता, उस वक़्त की मनोदशा को आँखों के सामने खींच ला रही है.
    अब जल्दी से ताज़ा लिखी ग़ज़ल से मिलवा दीजिये.

    ReplyDelete
  46. झेंपा हुआ अटपटा-सा पन्ना

    पन्ने की इस सकुचाहट के बीच एक कविता के कविता होने की दु्विधा भी इस कविता की त्रासदी तो नही?..या उस पन्ने मे छिपे उस उम्र के आस्माँ के उफ़्क पर अटकी किसी पीली पड़ी पतंग के लिये तो नही..जिसकी डोर खड़कवासला से होते हुए पंद्रह सौ किलोमीटर दूर किसी बड़े से शहर मे उलझी हो..मगर चर्खी अभी भी धुंध भरी वादियों मे कहीं चश्मे के पीछे छुपी फ़िक्रमंद आँखों के मजबूत हाथ मे है..और यह तेरह साल का पीलापन और उधड़ापन ही डायरी के उन पन्नो को इतना अजीजतर बना देता है...बचपन की शर्ट या पहली साइकिल की तरह...और इस तेरह सालों के सफ़र के बावजूद अमलतास के रंग, शबनम की पाकीजगी या चांद की खिलखिलाहट वैसी की वैसी ही है!..मगर प्रेम कितना बदल जाता है इस बीच..उम्र की सलवटों जिसकी शक्ल बदल डालती हैं!..और कविता?..इन्ही दो किनारों के बीच कहीं ठिठकी हुई..सकुचाई..शायद यह भी कविता की त्रासदी है..!!
    खैर कयामत के बीज तेरह साल या उससे भी कई साल पहले ही बोये जा चुके थे..सो अब अगर हम हाय-हाय करते हैं तो हमारा क्या कुसूर!! ;-)

    ReplyDelete
  47. जब कोइ पुरानी डायरी मिलती है तो उसे पढ़ते वक्त मन पुरानी यादों में खो जाता है और दिल चाहता है कि किसी मित्र या चहेते को यह पेज (लेख ,कविता. संस्मरण ,) किसी को बताया जाय

    ReplyDelete
  48. प्रतीकों के यथार्थ को रेखांकित कर रही है आपकी यह कविता। इस दृष्टि से कितनी खोखली हैं बातें कविता के नाम पर। किसी अन्य सन्दर्भों मे कही गई उक्ति यहाँ भी लागू होती है। जिन देखा तिन कहा नहिं, कहा जे देखा नाहिं।

    ReplyDelete
  49. एक बार फिर आये इस बावरी कविता को पढने....


    नहीं देखा है मैंने कभी
    फूल अमलतास का
    जो कभी दिख भी जाये
    तो शायद पहचानूँ ना,

    आज जब इसे पढ़ रहे हैं पांचवे नवरात्र पर सवेरे सवेरे...

    जाने कितने ही माता के भजन.. कितने भक्ति गीत....चंचल...महेंद्र कपूर कि आवाजों में...जोर शोर से पूरे वातावरण में गूँज रहे हैं...



    लेकिन मन में कहीं लता गूँज रही है....
    तेरा दिल तो है सनम-आशना, तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में..?

    ReplyDelete
  50. नहीं देखा है मैंने कभी
    फूल अमलतास का
    जो कभी दिख भी जाये
    तो शायद पहचानूँ ना,
    जिक्र करता हूँ इसका फिर भी
    अपनी कविता में-
    तुम्हारे लिये

    Speechless !!

    ReplyDelete
  51. हेह हे !

    ऐसे झिझक के कविता दिखियेगा तो कैसे चलेगा... अब आ गए हैं तो स्वागत है :)

    ReplyDelete
  52. Kuchh bhool to nahi hui hamse? Aapko "Bikhare Sitare'pe dekha nahi!Aap to sitaon ko raushan kar jate hain!

    ReplyDelete
  53. नहीं देखा है मैंने कभी
    फूल अमलतास का
    जो कभी दिख भी जाये
    तो शायद पहचानूँ ना,
    जिक्र करता हूँ इसका फिर भी
    अपनी कविता में-
    तुम्हारे लिये

    :) ismein ek cute sa acceptance hai..bahut achhe bhai ji..

    waise janmdin ki shubhkaamnayen kahne aaya tha..ise as a cake lekar ja raha hoon :P

    Many many happy returns of the day...

    ReplyDelete
  54. क्या खूब है ब्रदर........संगीनो के तले भी ज्जबात कायम रहे ....

    ReplyDelete
  55. Beautiful composition. The last verse and the end, especially.

    ReplyDelete
  56. जनाब
    चाँद तो मुझे आज भी दीखता है आपके इन कवितायों के सहारे
    क्या खूब लिखा है
    ये अमलताश के फूल
    ये शबनम की बूँदें
    ये चाँद की चमक
    और
    तुम
    बधाई

    ReplyDelete
  57. 'saathiyon ka shaheed hona' sunke bada afsos hua...seema pe aur antargat aatank ka silsila na jane kabhi rukega bhi ya nahi?

    ReplyDelete
  58. प्रेम की अपनी त्रासदी है
    और कविता की अपनी...

    sach bilkul sach. yeh panktiya dil ko chhoo gayi

    -Shruti

    ReplyDelete
  59. मैं भी यदा कदा अपनी डायरी के पन्नो के सहारे अतीत में बहुत दूर दूर तक घूमने चली जाती हूँ..........कमाल की बात है न इसमें पल भर भी नहीं लगता। मेरे दिल के करीब है यह रचना।

    ReplyDelete
  60. ये टाइम मशीन ही है.
    हैं तो ये डायरी के पन्ने में कैद हैं, लेकिन आपके रथ के सारथी है. जो चाहे पूछ लीजये खुले मन से जवाब दे देता है.

    बहुत अच्छा लगा क्यूंकि गुजरे जमाने के स्याही से लिखे ऐसे बहुत से झेपते पन्ने मेरे पास भी कैद में हैं.

    ReplyDelete
  61. माफ़ी चाहते हैं..
    हाथ जोड़ कर माफ़ी...
    गलत पोस्ट पर गलत कमेन्ट कि....

    मगर आपको कमेट करना आदत हो चुका है...
    आपको मेल या चैट करना आदत नहीं है...कमेन्ट करना आदत है...


    पिछले सोमवार को से कई बार आ आ कर जा चुके हैं...पिछले सोमवार को ही खटका लग गया था किसी अनहोनी का...

    ये पहली बार जाना के जिस सामान जो अपने जिस्म का हिस्सा माना गया हो......
    यस सब कुछ उसी से.....!!!!!

    कुछ समझ नहीं आ रहा है क्या कहें....

    ReplyDelete
  62. मेज़र जोगी के बाद उनके परिजनों को ईश्वर साहस दे....
    हौसला दे..इस हादिसे से उबरने का...

    एक बार फिर माफ़ी चाहते हैं कमेन्ट के लिए.

    ReplyDelete
  63. aapki taarif bahut hi aur aksar sunati rahi aur patrika me bhi aapki rachna padhi ,wakai aap behad sundar likhte hai ,padhkar santosh mila ,utsukta itne dino ki aaj yahan khinch laai .

    ReplyDelete
  64. Aapne wastav me achha kiya jo, shaheed Jogi ke post pe tippaneeka pravdhan nahi rakha...shradhanjali arpan karneke alawa kya kah sakti hun?

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !