02 March 2010

कुछ रंग अनदेखे-से...

होली की खुमारी चेहरे पे लगे रंगों के गीलेपन के साथ ही धीरे-धीरे सूखती हुई...उतरती हुई। रंगों की ये धमाचौकड़ी पूरे मौसम को ताजगी देती हुई-सी, जिसकी आगे आने वाले पतझड़ के वास्ते डटे रहने के लिये दरकार है। हर रंग अपनी कहानी कहता हुआ...और ऐसे में अचानक से मुझे कुछ ऐसे रंगों की याद आती है जिन्हें सिर्फ कविताओं में, ग़ज़ल के शेरों में, कहानियों में , गीतों में...अपने प्रिय साहित्यकारों द्वारा बिम्बों, प्रतिकों के तौर पे इस्तेमाल करते हुये पढ़ा जाता है। ये रंग जिन्हें हम सिर्फ पढ़ते हैं शब्दों में, देख कभी नहीं पाते हैं हकीकतन। कम-से-कम मैं तो नहीं ही देख पाया हूँ अब तलक। किंतु इन रंगों की खुमारी कम नहीं है कहीं से भी, अभी-अभी चेहरे पे पुते इन गीले रंगों के मुकाबले। आइये देखते हैं शब्दों वाले ये अजीब नशीले रंग जो आपलोगों की निगाहों के समक्ष से भी गुजरते होंगे यदा-कदा :-

नीला चाँद

कत्थई आँखें

हरी तबीयत

पीली बारिश

बैंगनी अँधेरा

सब्ज़ रूहें

इंद्रनुषी ने

मटमैले हर्फ
लाल प्रश्न

सुर्ख हवा

चितकबरी यादें


रंगों का ये नशा हमपे, आपसब पे सर्वदा-सर्वदा छाया रहे...!

58 comments:

  1. ये ऐसा नशा है... जो अब उम्र भर (अंतिम सांस तक) के लिए चढ़ चूका है...

    लागी छूटे न :)
    इंतज़ार है अगली पोस्ट का.

    ReplyDelete
  2. नीला चाँद
    कत्थई आँखें
    पीली बारिश
    बैंगनी अँधेरा
    सब्ज़ रूहें
    इंद्रधनुषी सपने
    मटमैले हर्फ लाल प्रश्न
    सुर्ख हवा
    चितकबरी यादें

    वाह,गौतम भाई.. क्या रंगीन लेख है!होली का आनंद शब्दों में उतर आया है..
    होली की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  3. वैसे रंग़ो का नशा गजब का होता है। इंद्रधनुषी सपने, चितकबरी यादों के रंग हमें अपने रंग़ में डुबोये रहते है जी। हमेशा की तरह एक अलग सी पोस्ट।

    ReplyDelete
  4. मुझे पसंद आया

    चितकबरी यादें...

    ReplyDelete
  5. एक नए अंदाज़ की पोस्ट
    बहुत खूब हा हा हा ................
    आपको व आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. शब्दों का रंग और नशा वास्तव में अनुभूति की चीज है!

    ReplyDelete
  7. kya baat hai naya andaaj ,behtareen khayal.

    ReplyDelete
  8. रंग तो अभी तक उतरे नहीं है, आपकी इस रंग-बिरंगी प्रस्तुति का जवाब नहीं.

    ReplyDelete
  9. लाजवाब विशेषण...एक दम नए और अछूते...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete
  10. शतरंगी शब्दों को पढ़कर तबियत 'हरी' हो गई.

    ReplyDelete
  11. आपने लिखा है... "ये रंग जिन्हें हम सिर्फ पढ़ते हैं शब्दों में, देख कभी नहीं पाते हैं हकीकतन।"....आपको कैसे पता.."कत्थई आँखें नहीं होतीं??.....कितनी लड़कियों की आँखों में झाँक कर देखा है??.हा हा हा

    ReplyDelete
  12. गौतम जी आदाब
    जिनका जिक्र आपने किया......
    इन सभी रंगीनियों से सजे होली के पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  13. लाल प्रश्न
    चितकबरी याद -
    पर अटका मन ।
    पोस्ट अच्छी लगी । आभार ।

    ReplyDelete
  14. Interestingly intelligent!
    and
    Intelligently interesting!

    :-)

    ReplyDelete
  15. चितकबरी यादें
    जरूर "उसी" का असर है .....


    वैसे बड़ा हसीं असर है ...

    ReplyDelete
  16. होली पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. ज़िन्दगी का कारवां गुजरता है और चितकबरी यादें उडती रहती है देर तक दूर तक..

    ReplyDelete
  18. खुशबू और पहचान वाले..सारे रंग एक साथ!

    ReplyDelete
  19. नीला चाँद , कतई आँखें ,पीली बारिश , बैगनी अँधेरा , सब्ज रूहें , इन्द्रधनुषी सपने और बाकी सारे रंग ये तो आपकी और हमारी कल्पनाओं को हकीकत की जमीन देने वाले रंग हैं ... शायद इन रंगों का भी कोई सपना होगा ,,,, मसलन नीले रंग की तमन्ना होगी चाँद को अपने रंग में रंगने की या पीले रंग का ख्वाब होगा बारिश को अपने रंग में रंगने का ,,, और सपने तो फिर .... सपने हैं .....
    यूँ तो आपने सही कहा ...पर इन रंगों में नशा कहाँ से आया ये भी कोई बताये

    ReplyDelete
  20. नीला चाँद
    कत्थई आँखें
    पीली बारिश
    बैंगनी अँधेरा
    सब्ज़ रूहें
    इंद्रधनुषी सपने
    मटमैले हर्फ लाल प्रश्न
    सुर्ख हवा
    चितकबरी यादें
    अगर जीवन मे इन शब्दों का तिल्लिसम न छाया रहे तो शायद कोई कवि, शायर न बने। शब्दों के साथ जीने की कला एक नशा है, जिसे अकसर लोग पी कर जीवन गुजार देते हैं। क्या फर्क पडता है-- अब हमने होली नही खेली मगर ब्लाग जगत की खुशियों मे रंगे रहे शायद ऐसे ही बहुत से लोग भी। ये कलपनायें हमे जीने का सन्देश देती हैं बस शायद इन्ही के सहारे आप जैसे लोग बीहडों मे भी एक जिन्दगी तलाश लेते हैं। बहुत बहुत शुभकामनायें और आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  21. वाह यूं भी सोचा जा सकता है मैंने कभी सोचा न था
    :)

    ReplyDelete
  22. क्या रंग जमाया है आज ! मामला riot of colours का हो गया है.
    रंग हर अमूर्त को चाक्षुष संवेदना के दायरे में ले आते है.

    ReplyDelete
  23. Arre waah alag lekindilkash andaaz.....pad kar accha laga!!
    Dhanywaad
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. आपकी रचनाओं से कुछ अलग सा रंग है ये.....!

    ReplyDelete
  25. आपने अंधेरे को खूब जोड़ा बैंगनी से,इस समय बी टी ब्रिन्‍जल का हल्‍ला है और सब अंधेरे में हैं कि भाई ये क्‍या बला है। न मानो तो सर्वेक्षण करालो, इसपर लंबे-लंबे वक्‍तव्‍य देने वाले भी अंधेरे में हैं।

    ReplyDelete
  26. वाह!!..और मुझे लगा कि होली पर कलरफ़ुल गुझिया बनाने के सामान की कोई लिस्ट है ;-)
    खैर सारी चीजें नोट कर ली गयी हैं..और उनको खोज कर इकट्ठा करने का काम जारी किया जायेगा..कुछ नशीली सी डिश तैयार करने के लिये..बाकी तो ठीक है लाइब्रेरीज्‌ मे मिल जायेगा हाँ सब्ज रूहें और चितकबरी यादें थोड़ा खोजनी पड़ेगी..’ई-बे’ वाले शायद डिस्काउंट भी दे दें..;-)
    होली के बाद की ( i.e. चिरस्थाई) मुबारकबाद!!

    ReplyDelete
  27. आमीन. अगली पोस्ट का इन्तज़ार कर रहे हैं.

    ReplyDelete
  28. नीला चाँद

    कत्थई आँखें

    पीली बारिश

    बैंगनी अँधेरा

    सब्ज़ रूहें

    इंद्रधनुषी सपने

    मटमैले हर्फ
    लाल प्रश्न

    सुर्ख हवा

    चितकबरी यादें


    इनमे किसी गजल से ज्यादा नशा भरा हुआ है

    ReplyDelete
  29. अटकी हूँ रंगों की इस घालमेल में ...
    ये उपमा अलंकार है या अतिश्योक्ति ....
    मगर सच ...अनुभूतियों के रंग ऐसे ही होते हैं ....
    खड़े रहे ....हाथ बान्धे ....सर झुकाए ....कतारबद्ध
    रंग सारे आबनूसी ...दुआओं में उसकी असर तो है ....!!

    ReplyDelete
  30. रंग में डूबी हुई एक सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  31. रंग अच्छे हैं

    ReplyDelete
  32. डरा दिया आपने ईश्वर न करे कभी पीली वारिश देखने को मिले ! अच्छा है पीली के बाद वारिश को देखना आसान नहीं नहीं तो कमज़ोर दिल के लोग घबरा जाते ...!
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  33. गौतम ,
    तुम्हारे जीवन में सदा सभी रंग खुशियाँ ही खुशियाँ दें . बहुत बहुत आशीर्वाद !!
    - दीदी -

    ReplyDelete
  34. rang aur bhi hain..
    ज़र्द चेहरा ,gulabi aankhen ,sunhari zulfen,chandi sa rang ,surmayee shaam.....etc etc...

    होली की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  35. मेजर......
    हजारों मर्तबा सोच है कि रंगों की कोई दुनिया है, जहाँ वे हम सबसे खेलते हैं.........रंगों से खूबसूरत कोई चीज होती ही नहीं.......चाहे वो कत्थई आँखें हों.......या नीला चाँद.........एक पाकीज़ा एहसास की तरह सब्ज़ रूहें हों या इंद्रधनुषी सपने...........वाकई ये रंग ही तो हैं जो जीने की वजहों को खूबसूरत और बदसूरत बनाते हैं.........इस पोस्ट को पढने के बाद लगा कि कायनात को देखने का जो चश्मा आपने लगा रखा है उसका नंबर मुझसे भी मुतास्सिर है...........क्या कहूं ...................बस इतना समझ लीजे कि काईया आँखों से दुनिया देखने का जो हुनर आपमें है वो लाजवाब है..........आमीन.......फिर जा रहा हूँ आपकी पोस्ट को दुबारा पढने...........!

    ReplyDelete
  36. very differnt..very honest.liked the style very much sir

    ReplyDelete
  37. साहित्य मे रंगों को लेकर बहुत सारे बिम्ब रचे गये हैं । कुछ कुछ मुझे भी याद आ रहे हैं ---
    केदारनाथ सिंह - सबसे सरल शब्द वे होते हैं / जो होते हैं सबसे काले और कत्थई /सबसे जोखिम भरे वे जो हल्के पीले/और गुलाबी होते हैं (शब्द)

    ReplyDelete
  38. ये कविओं की आँखें हीं कुछ अलग होती है, पता नहीं कहाँ-कहाँ क्या रंग देख लेती हैं..

    ReplyDelete
  39. नीला चाँद
    कत्थई आँखें
    पीली बारिश
    बैंगनी अँधेरा
    .........
    .........
    सुर्ख हवा
    चितकबरी यादें

    वाह वाह गौतम जी !!एकदम नए अंदाज़ की रचना ...होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  40. शब्दों में रंगों का सैलाब मिला ! क्या बात हैं ! और चितकबरी यादें तो मन की हरी दरी पर उछलने लगीं !! ये अलग कमाल हुआ आपकी कलाम का !!
    ज़रा देर से आया, चाहता हूँ क्षमार्घ माना जाऊं !
    सप्रीत--आ.

    ReplyDelete
  41. Oho kam shabdon main rache satrangi bhav!ahaa!

    ReplyDelete
  42. waah kya upma di hai
    har shabad sateek

    Holi par shubhkamnaayen

    deri ke liye kashma parrthi hun

    ReplyDelete
  43. aap khud is post ma ajib rang me range dikhe

    beshak pasand aayaa.

    arsh

    ReplyDelete
  44. Wah! Kya khoob rang yaad dila diye!
    Jinhen bhool chale the ham,dikha diye!

    ReplyDelete
  45. socha padh to liya hai .....chalo laut chalu...par shabdo ke rang ne jaane hi na diya....Der se hi sahi...baigni andhera, matmaile harf aur chitkabri yaadein mubarak!

    ReplyDelete
  46. दो को छोड़कर मेरे लिए तो सभी शब्द नए और अनोखे हैं - धन्यवाद् - होली की (belated) हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  47. अब इन सब रंगों से भरी एक ग़ज़ल कह दीजिये भैय्या..............
    इंतज़ार रहेगा उस ग़ज़ल का

    ReplyDelete
  48. कल आफिस में लंच करते समय उन्होंने कहा था....
    "मनु यार कम से कम हाथ तो धो ले।"
    "धुले तो हैं " मैंने कहा पर उँगलियों पर हल्का गुलाबी रंग, और कहीं एक शोख आसमानी रंग नज़र आ रहा था
    "तो ये क्या है....?"
    "ये तो रंग हैं ,हाथ तो धो चुका हूँ पर ये नहीं छूट रहे.....आप ही बताओ क्या करुँ "
    "दुबारा हाथ गीले कर के स्लैब के उलटी तरफ़ खुरदरी जगह पर जोर से रगड़ ले, सब छूट जाएगा "
    मैंने उनके कहे पर अमल करना शुरू किया........पर जाने क्यूं इन शोख रंगों को जोर से रगड़ने की हिम्मत हाथों को ना हुई, कुछ देर वो मेरा इंतज़ार देख के बोले " एक मिनट का काम है, बस,, पर तू ही नहीं चाहता...."

    ""जी शायद मैं ही नहीं चाहता, आप चाहें तो मेरे बिना अकेले लंच कर सकते हैं ......."

    ReplyDelete
  49. अब रंगों का नशा उतरने भी दीजिये मेजर साहब...

    ReplyDelete
  50. यह रंगीन पोस्ट दिल को रंग गई...
    मीत

    ReplyDelete
  51. सही पकड़ा आपने बिम्ब में घुले रंगों को.......

    ReplyDelete
  52. चितकबरी यादें! मतलब यादें भी फ़ौजी हैं।डिस्रप्टिव ड्रेस में? जय हो!

    ReplyDelete
  53. बेसन की सोंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ ,
    याद आता है चौका-बासन, चिमटा फुँकनी जैसी माँ ।
    बीवी, बेटी, बहन, पड़ोसन थोड़ी-थोड़ी सी सब में ,
    दिन भर इक रस्सी के ऊपर चलती नटनी जैसी मां

    ReplyDelete
  54. बेसन की सोंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ ,
    याद आता है चौका-बासन, चिमटा फुँकनी जैसी माँ ।
    बीवी, बेटी, बहन, पड़ोसन थोड़ी-थोड़ी सी सब में ,
    दिन भर इक रस्सी के ऊपर चलती नटनी जैसी मां

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !