21 December 2009

हाकिम का किस्सा...

उधर कई दिनों से >संजीव गौतम जी की ब्लौग पर अनुपस्थिति और फोन पर बात किये हुये एक लंबा अर्सा बीत जाना एकदम से चिंतित कर गया था कि जनाब ठीक तो हैं। फोन लगाया तो उनके कहकहों ने आश्वस्त किया और पता चला कि छुट्टी मनायी जा रही है। बातों ही बातों में वो लगे मेरी एक अदनी-सी ग़ज़ल की तारीफ़ करने जो अभी हाल ही में मुंबई से निकलने वाली त्रैमासिक युगीन काव्या के जुलाई-सितंबर वाले अंक में छपी थी। अब तारीफ़ सुन कर मेरा फुल कर कुप्पा हो जाना तो लाजिमी था...तारीफ़ अपने ग़ज़ल की और वो भी ग़ज़ल-गाँव के एक श्रेष्ठ शायर से। आहहाsssss!!!

...तो सोचा आपलोगों को वही ग़ज़ल सुनाऊँ आज। तकरीबन दो साल पहले लिखी थी। तब शेर कहना सीख ही रहा था। नोयेडा में एक अकेले वृद्ध की हत्या उन्हीं के नौकर द्वारा किये जाने की खबर थी अखबारों में तो यूं ही दो पंक्तियाँ बन गयी{वो "खादिम का किस्सा" वाला} और फिर जिसे बढ़ा कर पूरी ग़ज़ल की शक्ल देने की कोशिश की। ग़ज़ल को सँवारने की जोहमत विख्यात शायर >हस्ती मल हस्ती साब ने की है जो युगीन काव्या के संपादक भी हैं। पेश है:-

जब छेड़ा मुजरिम का किस्सा
चर्चित था हाकिम का किस्सा

जलती शब भर आँधी में जो
लिख उस लौ मद्‍धिम का किस्सा

सुन लो सुन लो पूरब वालों
सूरज से पश्‍चिम का किस्सा

छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
गायेगा जालिम का किस्सा

जलती बस्ती की गलियों से
सुन हिंदू-मुस्लिम का किस्सा

बूढ़े मालिक का शव बोले
दुनिया से खादिम का किस्सा

कहती हैं बारिश की बूंदें
सुन लो तुम रिमझिम का किस्सा

...इस बहरो-वजन पर >नासिर काज़मी साब ने कुछ बेहरतीन ग़ज़लें कही हैं। अभी वर्तमान में >विज्ञान व्रत और >डा० श्याम सखा ने भी धूम मचा रखी हैं इस बहर की अपनी ग़ज़लों से।

चलते-चलते संजीव गौतम जी की दो बेमिसाल ग़ज़लें पढ़िये >यहाँ

53 comments:

  1. बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा
    ग़ज़ल के कई शे’र दिल में घर कर गए।

    ReplyDelete
  2. ज़ल-गाँव के एक श्रेष्ठ शायर तारीफ कर ही चुके हैं तो हमारी कौन औकात....


    गजब लिखे हो भाई... :)

    ReplyDelete
  3. जलती बस्ती की गलियों से
    सुन हिंदू-मुस्लिम का किस्सा

    अच्छा है गौतम जी। बहुत खूब लिखा है आपने।

    शुभकामना।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. ज़ल-गाँव = गज़ल-गाँव

    ReplyDelete
  5. "जब छेड़ा मुजरिम का किस्सा
    चर्चित था हाकिम का किस्सा"

    मुझे तो शुरुआत ने ही मुग्ध कर दिया ! गजब का विधान ! शानदार ।
    संजीव जी की प्रशंसा के बाद हम क्या कहें !

    ReplyDelete
  6. मेजर साहब,

    किसी ने सही कहा है...शब्दों में बारूद से भी ज़्यादा मार होती है...बारूद का असर थोड़ी देर ही रहता है लेकिन शब्द ताउम्र भेदते रहते हैं...अच्छा पढ़वाने के लिए आभार

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. दुश्मन को मारने लिए गजले ही होनी चहिये... बड़े कातिल शेर है..

    ReplyDelete
  8. युगीन काव्य छाप दिहिस अब काव्य मंजूषा का बोले....
    खुशदीप साहब भी ग़ज़ल के बारूदी धमाके को जिकिरिया दियें हैं...
    कुश बाबू भी कहिये दिए कि ग़ज़ल में एतना पावरफुल है कि दो-चार दुश्मन तो धहिए देगा...
    हमहूँ कहना चाहते हैं कि बउवाल लिख दिए हैं...
    सैलूट....!!!

    ReplyDelete
  9. छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा

    bahut khuub..

    ReplyDelete
  10. बहर को साधने की कोशिश तो की ही गयी है ..
    भाव भी अच्छे हैं ..
    सुन्दर ..

    ReplyDelete
  11. बढ़िया रहा तराना!
    शब्दों का है खज़ाना!!

    ReplyDelete
  12. saare hi sher achchhe ban pade hain...!

    alag se kuchh nahi kahane ko

    ReplyDelete
  13. क्या कमाल ग़ज़ल कही है गौतम जी आपने...और वो भी दो साल पहले जब आपने लिखना शुरू ही किया था वाह...याने पूत के पाँव पालने में ही नज़र आ गए थे...सारे के सारे शेर बब्बर हैं...छोटी बहर में ग़ज़ल कहना आसान अन्हीं होता और आपमें तो ये हुनर जैसे कूट कूट कर भरा हुआ है...
    जलती शब भर आँधी में जो
    लिख उस लौ मद्‍धिम का किस्सा

    छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा

    बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा

    आपके ये शेर देर साथ रहने वाले हैं...बेहतरीन...जलती शब् भर आंधी में जो...से मुझे एक बेहद पुराना लेकिन मेरी पसंद का शेर याद आ गया...सुनिए...शायर का नाम अभी याद नहीं आ रहा:
    ऐ शमः तुझ पे रात ये भारी है जिस तरह
    हमने तमाम उम्र गुजारी है इस तरह

    नीरज

    ReplyDelete
  14. गौतम साब
    जब छेड़ा मुजरिम का किस्सा
    चर्चित था हाकिम का किस्सा

    जलती शब भर आँधी में जो
    लिख उस लौ मद्‍धिम का किस्सा

    कहती हैं बारिश की बूंदें
    सुन लो तुम रिमझिम का किस्सा
    बेहतरीन मतला और उस पर पूरी ग़ज़ल को क्या खूब सूरती से निभा गए आप!
    .........................मज़ा आ गया पहले तो आपकी ग़ज़ल के जादू से ही नहीं बाहर आ पाए थे ..............इसी बीच आपने संजीव गौतम से भी तआर्रुफ़ करा दिया.....!

    ReplyDelete
  15. जलती बस्ती की गलियों से
    सुन हिंदू-मुस्लिम का किस्सा ...

    गौतम साहब ......... धूम तो आपने भी मचा दी आज ........... बेहतरीन ग़ज़ल वो भी २ साल पहले लिखी ......... आपके फ़ौजी तेवर का कमाल है ये .......... बहुत मज़ा आया पढ़ कर .........

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया गजल है।बधाई।

    ReplyDelete
  17. हम आपके फैन ऐसे ही थोड़े हैं :)

    ReplyDelete
  18. दूर किसी शहर में हुए हादसे से यूं दुःख का इस तरह जुड़ना .इस समाज में आदमी होने की कड़ी को माजबूत करता है ....ओर ये शेर शायद उसकी हलफबयानी करता है

    "बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा"

    ReplyDelete
  19. बहुत खूब दर्द को कैसे महसूस किया जा सकता है आपकी लिखी पंक्तियाँ यां ब्यान करती है .शुक्रिया

    ReplyDelete
  20. जब छेड़ा मुजरिम का किस्सा
    चर्चित था हाकिम का किस्सा


    बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा


    -सुन्दर.

    ReplyDelete
  21. आभार जोरदार कविता और कड़ियों के लिए

    ReplyDelete
  22. छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा
    --वाह मेजर साहब, पूरी गज़ल बेहतरीन है! यह शेर तो याद करनी है इसलिए उतार दी।
    कहती हैं बारिश की बूंदें
    सुन लो तुम रिमझिम का किस्सा
    --हमेशा जवान रहने वाले शेर हैं!
    आनंद आ गया पढ़कर
    आभार।

    ReplyDelete
  23. सर जी, आधा खजाना तो आपने इतना दिलकश काफ़िया ले कर लूट लिया..कि एक ही सांस मे पूरी ग़ज़ल गटक जाये आदमी..और बाकी का आधा आपके सारे शेर मिल कर लूट ले गये..सारे ही शेर इतने बेजोड़ हैं कि एक की ज्यादा तारीफ़ करना दूसरे के साथ नाइंसाफ़ी होगी..सो मैं यहां अपनी व्यक्तिगत पसंद की बात करूंगा..
    जलती शब भर आँधी में जो
    लिख उस लौ मद्‍धिम का किस्सा

    यह शेर साहित्य की सार्थकता और उसके उद्देश्य का बखान करता है..नेपथ्य के लोग जो अपनी तमाम कमजोरियों और सीमाओं के बावजूद उम्मीद का दामन नही छोड़ते और न संघर्ष का..उसी मद्धिम लौ की जिंदादिली का कहानी है यह शेर..
    यह बहर भी मेरी फ़ेवरिट बहर है और नासिर साहब मेरे पसंदीदा शायर..सो उनके शेर का जिक्र भी रवायतन..आपकी ग़ज़ल की स्पिरिट से सुर मिलाता

    इमारतें तो जल के राख हो गयीं
    इमारतें बनाने वाले क्या हुए
    ये आप हम तो बोझ हैं जमीं का
    जमीं का बोझ उठाने वाले क्या हुए

    ReplyDelete
  24. छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा

    बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा

    गहरी चोट करते शेर.
    उम्दा!
    बेहद प्रभावी ग़ज़ल.
    पत्रिका में छपने पर बधाई.
    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  25. मेजर साब, संजीव जी की चिंता और फिर शेर पढ़ कर एक धूसर सा मौसम उग आया है मेरे आस पास.

    ReplyDelete
  26. हमारे यहां बहुत सर्दी शुरू हो गयी है और आपके उम्दा शेर पढ़ कर कुछ राहत मिली -- बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  27. जलती बस्ती की गलियों से सुन हिंदू-मुस्लिम का किस्सा
    बूढ़े मालिक का शव बोले दुनिया से खादिम का किस्सा...

    संवेदनाओं से भरपूर कविता ...एक काम्प्लेक्स सा आ जाता है ...कहाँ हम वही काल्पनिक प्रेम वीथियों में अटके रहते हैं और आप लोग जमीनी हकीकत से जुड़े रहते हैं .....!!

    ReplyDelete
  28. बधाई ...युगीन काब्य में छपने के लिए ...मुझे अभी तक मिली नहीं आज ही pn करती हूँ हस्तीमल जी को .....!!

    जलती बस्ती की गलियों से
    सुन हिंदू-मुस्लिम का किस्सा

    वाह .....इसी हिंदू-मुस्लिम पर मेरी भी एक क्षणिका है ....!!

    बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा

    सोचती हूँ ये इंसान ही इंसान की हत्या करते वक़्त डरता क्यों नहीं है .....??

    ReplyDelete
  29. बहुत खूब अच्छी रचना
    बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  30. कमाल है किस्से - किस्सों में हाले जहां बयान हो गया ...

    ReplyDelete
  31. वाह भाई बहुत खूब रचना से आपने परिचय करवाया है... बहुत शुक्रिया इतनी बेहतरीन नज़्म के लिए...
    और हाँ भाई मैं स्केच तो बनता हूँ लेकिन वो जो मैंने पोस्ट पर लगाया है वो नेट से लिया है... कोशिश करूँगा कभी आपको कुछ बना कर भेजूं... वैसे आप मेरी अगली पोस्ट जरुर पढना उसमें मेरे भाई की स्कूल की एक किताब में छापी हुई रचना आपको पढने मिलेगी... उम्मीद है पसंद भी आयेगी...
    मीत

    ReplyDelete
  32. पूरी ग़ज़ल बहुत अच्छी है गौतम जी,
    खास तौर से ये दो शेर दिल को छूने वाले हैं-
    छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा

    जलती बस्ती की गलियों से
    सुन हिंदू-मुस्लिम का किस्सा

    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  33. http://meenukhare.blogspot.com/2009/12/blog-post_23.html

    ReplyDelete
  34. "बूढ़े मालिक का शव बोले
    दुनिया से खादिम का किस्सा"

    आप इस अंदाज में शे'र कहेंगे पता नहीं था...
    वैसे ये बहर मुझे बहुत पसंद है.. जल्द ही कुछ ऐसी पोस्ट करूँगा..(दुरुस्त बहर में कहना मुश्किल होगा.)

    सुलभ

    ReplyDelete
  35. hasti malji apni patrika me koshish karte he behatreen rachnaaye lene ki, aapki rachnaa ko unhone prakashit kiya...yah udaharan bhi saamne aa gayaa/
    vese itani taareef pahle hi tippanikaar kar chuke he so taareef to nahi karunga..hnaa yah jaroor kahungaa ki-
    "ab jab bhi padhhta hu koi gazal
    yaad aataa he goutamji ka kissa"

    ReplyDelete
  36. छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा
    पूरी की पूरी गज़ल ही बढिया है पर ये शेर खास मन को भाया ।

    ReplyDelete
  37. Gautam ji,

    Main bhi yugeen kaavya ke is ank ko dekhna chahta tha, par Hasti saab ke do baar bhejne pe bhi main yah ank dekh nahi paya hoon.

    par aapne ye gajal yahan pesh karke achchha kiya...

    ReplyDelete
  38. छोड़ो तो पिंजरे का पंछी
    गायेगा जालिम का किस्सा
    ... अतिसुन्दर !!!

    ReplyDelete
  39. kyaa baat hai mezar saab.........

    computer band kiyaa to aapka comment box najar aayaa hai....
    ha ha ha ha ha ha ha ha......

    ab ..ghazal...
    blog...
    mail ..
    sab kuchh band hai....
    hindi mein likhne ki suvidhaa bhi....
    :(

    Email follow-up comments to manu2367@gmail.com
    OpenID
    Name/URL
    Anonymous

    shukra hai...
    kam se kam anaam comment to nahi jaayegaa.......

    bahut haulnaak she'r lagaa..

    boodhe maalik kaa shav bole...
    duniyaa se khaadim kaa kissaa....

    saath saath NOIDA kaa nithaari kaand bhi yaad ho aayaa....

    ReplyDelete
  40. हस्तीमल हस्ती साहब के साथ काव्या का ज़िक्र एक पुराने मित्र की याद दिला गया जो उन दिनों मुंबई में ही रहता था और इस बेहद खूबसूरत प्रयास की अक्सर तारीफ़ करता था.
    ग़ज़ल यूँ सामने आती है जैसे शाम को बैठे-ठाले दिन भर के रंग याद से गुज़रते हैं.

    ReplyDelete
  41. जलती शब भर आँधी में जो
    लिख उस लौ मद्‍धिम का किस्सा
    कवि का संवेदनशील मन हर घटना पर उद्वेलित हो उठता है...साक्ष्य है ये ग़ज़ल..सारे शेर एक से बढ़कर एक...
    ये पत्रिका मुंबई में बुक स्टाल पर उपलब्ध है क्या?

    ReplyDelete
  42. मैं तो हैरान हूँ कि मैने इस पोस्ट पर कमेन्ट दिया था मगर शायद लिख कर पोस्ट करना भूल गयी होऊँगी आज कल बच्चे आये हैं बीच मे से आवाज़ लगा लेते हैं। आपकी गज़ल उस दिन भी कई बार पढी थी। पढ कर सीखती रहती हूँ। अब तारीफ क्या करूँ सभी ने बता ही दिया है। संजीव जी की गज़ल भी बहुत अच्छी लगी। बहुत दिनों बाद उन्हें पढा । आपलो और संजीव जी को नये साल की शुभकामनायें आशीर्वाद

    ReplyDelete
  43. yun to puri gajal shandaar hai, par ye lines to simply superb...
    जलती शब भर आँधी में जो
    लिख उस लौ मद्‍धिम का किस्सा

    ReplyDelete
  44. honth sile hote na to kahta.
    tere julmo_shitum ka kissa.
    purushottam vishavkarma
    LADARAYA NAGOUR RAJ

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !