07 December 2009

वादी में रंगों की लीला...

ड्‍युटी पर वापस लौटे ये ग्यारहवां दिन। ड्‍युटी पर...?? हाँ, कुछ हद-बंदियाँ{रेस्ट्रिकश्‍न} हैं चोट की वजह से, फिर भी ड्युटी तो है ही।

इधर वादी अपना रंग-रूप बदल रही है...बदल चुकी है। हरी-भरी वादी एकदम से लाल, भूरा और सफेद होने की तैयारी में। रंगों की ये अजीब लीला अचानक समीरलाल जी की एक हृदयस्पर्शी लघुकथा की याद दिला गयी। यूँ समीर जी की ये कथा किसी और संदर्भ को इंगित थी{खुशदीप सहगल जी की टिप्पणी इसी कथा पर काबिले-गौर हो}। आज पोस्ट के नाम पर सोचा कि आपलोगों को वादी में मची रंगों की इस अद्‍भुत लीला की कुछ झलकियाँ दिखाऊँ।

...तो पेश है कुछ तस्वीरें मेरे आस-पास की। ये सारी तस्वीरें मेरे सीओ {कमांडिन्ग आफिसर}कर्नल विवेक भट्ट ने अपने कैमरे{निकन डी-60} से खींची हैं इन तस्वीरों पर उनका सर्वाधिकार सुरक्षित है। मेरे सीओ साब बड़े ही जबरदस्त शूटर हैं- कैमरे से भी और राइफल से भी। देखिये ये तस्वीरें और जलिये-भुनिये :-)...








कैसी लगी ये तस्वीरें? ईश्‍वर ने क्या सचमुच अन्याय नहीं किया है जन्नत के इस टुकड़े संग? आखिरकार सब कुछ तो उसी परमपिता परमेश्‍वर के हाथों में होता है। इस जमीन की ये बेइंतहा खूबसूरती उसी सर्वशक्तिमान का तो जलवा है और वो यदि चाहे तो यहाँ का सुलगता माहौल भी एक चुटकी में सामान्य हो जाये...!!!

धरती के इस स्वर्ग में एक बार फिर से प्रेम-सौहार्द-भाईचारे और कश्मीरियत का मौसम लौटे, आइये सब मिलकर दुआ करें!

71 comments:

  1. आमीन! आप की दुआ कबूल हो!
    तस्वीरें वाकई बहुत खूबसूरत हैं। इस में सब्जेक्ट तो खूबसूरत है ही। कैमरे का नियंत्रण भी भरपूर है। आप के सीओ साहब को इन तस्वीरों के लिए बधाई पहुँचाएँ। आप का आभार इन तस्वीरों के माध्यम से ताजा काश्मीर की झलक दिखाने के लिए।

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन तस्वीरें। शानदार!

    ReplyDelete
  3. bahut khubsurat tasveeren hain , shooting ka kamaal bhi hai, dil karta hai kashmir aaun , kashmir nahin dekha hai , dekhen ishwar kab sunte hain.

    ReplyDelete
  4. सच में जल भून गये...काहे प्राण हरने पर जुटे हो प्राण रक्षक...


    सॉलिड पोस्ट...एक ही नाँव तो है..क्या कनाडा और क्या वहाँ कश्मीर...



    आज तो ठंड कुछ ज्यादा डिमांड कर रही है... :)

    ReplyDelete
  5. रंगों की वादियों में मेहरबानियों की बरसात हो
    झील में तैरें कभी , कभी पर्वतों की बात हो
    डर कोई छु न पाए ऐसी भी कोई रात हो
    प्यारी इस धरती पर उम्मीदों की शुरुआत हो

    ईश्वर से हमारी यही प्रार्थना है देश में अमन चैन कायम करें ...आमीन ...
    खूबसूरत तस्वीरों ने दिल लूट लिया

    ReplyDelete
  6. कितनी खूबसूरत ये तस्वीर है,
    अरे मौसम बेमिसाल, बेनज़ीर है,
    ये कश्मीर है...ये कश्मीर है...

    गौतम भाई असली सैल्यूट तो आपको है...आप सीने पर गोली खाते हो कि हम अपने घरों में महफूज़ बैठे रहें...अगर राजनीति न हो तो ये समस्या कब की सुलझ जाए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. ड्यूटी ज्वाईन ...हां भैय्या फ़ौजी को इससे ज्यादा छुट्टी कहां .....यार क्या क्या लिखूं ...आज की पोस्ट के लिए..

    जले नहीं फ़ुंक गए एक दम से.....ऐसी गजब की फ़ोटुएं खींचते हैं तो ...शूटर तो कमाल हैं ही सी ओ साहब ..उन तक हमारी जय हिंद पहुंचाई जाए...॥

    आज भी और पहले भी जब भी कश्मीर की वादियों को देखता हूं तो .....नानी द्वारा कहानियों में स्वर्ग का किया गया वर्णन घूमने लगता है ....पता नहीं किसकी नज़र लगी हुई है .....
    बच्चा लाल ..हम भी आ रहे हैं वादियों में और १३ तक वहीं विचरण करेंगे ....और हां फ़ोटुएं तो खींचेगे ही ....सी ओ साहब की तरह न सही तो रंगरूट की तरह ही सही

    ReplyDelete
  8. चित्रों के बारे में बस इतना ही कहूँगा
    "लाली देखन मैं गई हो गइ मैं भी लाल"
    ये प्रेमवर्ण वृक्ष कौन से हैं?
    ...
    कश्मीर/कश्मीरियत पर अपने लिए बस इतना
    "मौन ही अभिव्यंज़ना है
    जितना तुम्हारा सच है उतना ही कहो।"
    मैं चुप रहूँगा। इन चित्रों के सामने चुप रहना श्रेयस्कर है।
    आभार, उम्दा फोटोग्रॉफी से दीदार कराने के लिए।
    सी ओ साहब हो मेरा सैल्यूट।
    जय हिन्द !

    ReplyDelete
  9. चित्रों के बारे में बस इतना ही कहूँगा
    "लाली देखन मैं गई हो गइ मैं भी लाल"
    ये प्रेमवर्ण वृक्ष कौन से हैं?
    ...
    कश्मीर/कश्मीरियत पर अपने लिए बस इतना
    "मौन ही अभिव्यंज़ना है
    जितना तुम्हारा सच है उतना ही कहो।"
    मैं चुप रहूँगा। इन चित्रों के सामने चुप रहना श्रेयस्कर है।
    आभार, उम्दा फोटोग्रॉफी से दीदार कराने के लिए।
    सी ओ साहब हो मेरा सैल्यूट।
    जय हिन्द !

    ReplyDelete
  10. ek dil ki ichha hai ki kashmir dekhun ,bachpan mein "bemisaal" movie ne jo bhawna bhar di thi ander wo har baar badti jaati hai ...Kashmir aur kashmireyat k liye ..

    Sahi mein aapkey CEO sahab ki photography utni hi khubsoorat hai jitna ki "kashmir" ho sakega to January mein Kashmir jarur aaunga ..

    Darshan

    waisey is baar mainey b Indian army k upar kuch likhney ki koshish ki hai ..ho sake to apdhiyega ..
    http://darshanmehra.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. सुन्दर तस्वीरें ..बहुत ही सुन्दर..शेष बातों पर मैं कुछ नही कहूँगी. :-)

    ReplyDelete
  12. तस्वीरें इतनी मनमोहक हैं कि वास्तव में जल-भुन रहा हूँ :)
    इस सृष्टि को बनाने वेल से दुआ करता हून कि अपना करिश्मा दिखाए और सब कुछ सही सलामत, शांत कर दे, अमन-चैन का माहौल पैदा कर दे.

    ReplyDelete
  13. ...अब पत्ते चिनारों से..... सुन्दर चित्र संकलन

    ReplyDelete
  14. बहुत ही खूबसूरत तस्वीरे हैं!

    काश्मीर में सुलगते माहौल का होना इस देश के दुर्भाग्यों में से एक है।

    ReplyDelete
  15. खूबसूरत तस्वीरों से सजी ऐसी किसी पोस्ट का कब से इंतज़ार था...शुक्रिया,इतने मनमोहक तस्वीरों से रु-ब-रु करवाने का.....मेरा एक मित्र अभी अभी कश्मीर घूम कर आया है...और मेरे पीछे पड़ा है..एक बार जरूर जाओ...अब समझ में आया क्यूँ इतने पुरजोर तरीके से सिफारिश कर रहा है...ये तस्वीरें मुझे फिर से उकसा रही हैं,'की- बोर्ड' की संगत छोड़ एक बार ब्रश और पेंट उठाने के लिए...पर ईश्वर की इस ख़ूबसूरत संरचना को कैमरा भले ही क़ैद कर ले,मेरी तूलिका कहाँ कर पायेगी..

    ReplyDelete
  16. बहुत ही खूबसूरत फोटोग्राफ्स हैं...... सबसे नीचे वाली फोटो को डेस्कटॉप पे लगा लिया है........

    ReplyDelete
  17. विवेक जी को मेरी तरफ से बधाई देना एक बहुत अच्‍छे फोटोग्राफर होने की और जो रंग संयोजन उन्‍होंने कैमरे की आंख से उतारे हैं वे अद्भुत हैं । क्‍या सचमुच ही काश्‍मीर इतनी ही सुंदर है । काश मैं भी काश्‍मीर को देख पाता ।

    ReplyDelete
  18. प्रकृ्ति कितनी खूबसूरत है? क्या इस से खूब सूरत कोई चीज़ दुनिया मे हो सकती है आपकी ये पोस्ट देख कर तो अपना दिल भी इन वादियों को देखने के लिये लालातित हो उठा है। हम भी अपके साथ यही दुआ करते हैं कि धरती का ये स्वर्ग यूँ ही फलता फूलता रहे और किसी की बुरी नज़र से बचा रहे। बहुत बहुत आशीर्वाद

    ReplyDelete
  19. फोटो देखते ही सोचा कि लो वीर जी का एक और नया रूप...फोटोग्राफर का.. मगर आगे बढ़ते ही पता चला कि सर्वाधिकार सुरक्षित किसी और के नाम है....! कर्नल साब को इन फोटोज़ के लिये एक तगड़ा सैल्यूट...!

    मन मुग्ध हो गया...! वाल पेपर बना लिया गया कुछ दिन के लिये...! ये अलग बाद है कि इसके बाद कंप्यूटर आन करते ही कुछ और सर्दी लगने लगेगी...!

    excellent post...!

    ReplyDelete
  20. अमीन !! चिनार के यह पत्ते यूँ ही मुस्कराते रहे ...बहुत बढ़िया पिक्चर्स ली है ..वाकई जन्नत है कश्मीर ..

    ReplyDelete
  21. वाह ! बहुत खूब सूरत तस्वीरें है ।
    मन खुश हो गया इन तस्वीरों को देखकर।
    ईश्वर से प्रार्थना है फिर से इस जन्नत में
    अमन चैन बहल हो !

    ReplyDelete
  22. अपने शहर के कवि कृष्‍ण कबीर की पंक्‍तियां याद आई
    तुम अपना मुंह उधर फेर लो
    यहां वस्‍त्र बदल रही है
    प्रकृति.
    हालांकि ये वसंत का रूपक है पर आपके वहां प्रकृति जाने कितनी बार ऐसा करती है.देखिये न अब वो शुभ्रवसना होने जा रही है.
    अनुपम चित्र.

    ReplyDelete
  23. आपकी दुवा ज़रूर कबूल होगी ........
    और कमाल के चित्र हैं ये ....... बहुत ही खूबसूरती से क़ैद किया है इन लाजवाब दृश्यों को ......... जीवित, बोलते हुवे चित्र हैं .......

    ReplyDelete
  24. बेहद खुबसूरत और मनमोहक.....

    regards

    ReplyDelete
  25. गौतम साब
    पिछले बरस जब मैं कश्मीर गया था तो वही सब कुछ महसूस किया था जो आपने अपनी पोस्ट में लिखा है..........वो भी दिसंबर का ही महीना था...........वही चिनाब का पानी, उदास डल झील, सिसकते कुहसार.....सच मानिये वादी को पहली बार देखा था तब लगा था की वाकई ज़न्नत यही है......... उम्मीद कायम है आप लोग हैं तो अमन चैन ज़रूर लौटेगा.......ओपरेसन सद्भावना में क्या चल रहा है? सी ओ साब के फोटो ग्राफ बहुत जीवंत हैं.......उन्हें भी आपके साथ हमारा सैल्यूट.

    ReplyDelete
  26. काश इन तस्वीरों की तरह हर इंसान खूबसूरत होता...
    मीत

    ReplyDelete
  27. दिल से दुआ है इसकी......धरती का यह स्वर्ग स्वर्ग ही रहे.......
    कर्नल साहब का कमाल तारीफे काबिल है......

    ReplyDelete
  28. wow! kya itnaaaa ...khoobsurat hai kashmir

    naina

    ReplyDelete
  29. गौतम जी लाजवाब फोटोग्राफी है.
    आप खुशनसीब इंसान है हर जगह आपके साथ बेहतरीन लोग. महेश भट्ट साहब ने अपने एक साक्षात्कार में कहा था कि मल्लिका जब पहली बार सेट पर आई थी तो मैं बहुत नर्वस हो गया था आखिर मैंने कह ही दिया कि तुम्हें एक्टिंग करनी नहीं आती है तो मल्लिका ने कहा कि "सुना है कुछ लोग बुतों में जान फूंकते है तो ये काम आप करके दिखाईये" खैर साहब ये काम उन्होंने कर दिखाया. मुझे तो लगता है कि सुन्दरता को और सुंदर कैसे बनाया जाये ये हुनर कुछ ही फनकारों के पास है जिनमे आपके मेजर साहब भी हैं. कर्नल साहब को मेरा सलाम पहुंचे.

    ReplyDelete
  30. adhbhut !! behad khoobsoorat! na jaane kab khud apni nigaahon se dekh paaungi !!

    ReplyDelete
  31. खामोश लेंस
    धरा की तह
    खोलता है ...

    मासूम तस्वीरें
    अनजानों से
    बेबाक बोलती हैं...

    ReplyDelete
  32. बहुत खूब लिखा है आपने
    आभार ...........

    ReplyDelete
  33. वाकई बेहतरीन और सुन्दर तस्वीरें हैं। और हम देखने के शौकिन है। इतनी सुन्दर फोटो खीचने के लिए हमारी तरफ से शुक्रिया कहिऐगा जी विवेक जी को। आज ही नीरज जी ने भी कुछ फोटो लगाए है। आज का दिन सुन्दर फोटो के नाम रहा। और आप डयूटी पर आ गए। ये छट्टियाँ इतनी कम क्यों होती है जी? चलिए कोई बात नही। इस मौसम का भी आनंद लीजिए। और सच इस सुन्दर प्यारी जगह को ना जाने किसकी नजर लग गई है?

    ReplyDelete
  34. Behad khubsurat tasveeren li hain..Col.Vivek Bhatt ji ko bahut bahut bahdayee dijeeyega.
    sabhi tasveeren ek se badh kar ek hain.

    Ishwar kare aap ki duayen kubul ho aur yah swarg hamare desh ka atoot hissa bana rahe aur aman shanti,bhaaye chare ka mahol phir se laute.

    ReplyDelete
  35. हवा जो इतनी सर्द सर्द है
    सांस तो हमारी गर्म गर्म है
    आ मेरे करीब आ
    पिघला दे मेरे तेरे बीच
    ये जो ठहरी हुयी बर्फ है.

    ReplyDelete
  36. ये वादीये कश्मीर है ..जन्नत यहीं पे नसीब है ये वादीये कश्मीर है
    आपके सारे साथियों को ' जै जै ' और हमारी ओर से , मानभरे सलाम
    १९८१ में कश्मीर घुमने गये थे हम लोग -
    वहां की यादें आज भी जहन में बसी हुईं हैं
    आप सब को ईश्वर सुरक्षित रखें ..
    ये हमारे दिल की सच्ची दुआ है
    स स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  37. बेहद खूबसूरत तस्वीरें ! विवेक जी का आभार ।

    ReplyDelete
  38. इस दुआ के बदले सिर्फ आमीन कह सकता हूँ लेकिन इस यकीन के साथ कि एक दिन ऐसा जरूर होगा जब कश्मीरियत और भारतीयता की ही जीत होगी और फिरकापरस्ती मुंह छुपाये न सिर्फ भारत बल्कि कश्मीर समेत चप्पे चप्पे से रुखसत होगी. फोटो बहुत ही दिलकश हैं. सबसे ख़ास चीज़ जो पसंद आई उसका ज़िक्र करता हूँ-- अब तक कश्मीर के नाम पर जो फोटो आते थे उनमें पर्वत/झील/शिकारे/फूल/.....वगैरह वगैरह जरूरी होते थे. ये तस्वीरें कश्मीर का बकिया,छुपा हुआ हुस्न सामने लाईं. सी.ओ. साहिब को मेरी तरफ से shukriya bol dena.

    ReplyDelete
  39. sahi mein.. aapke CO saab to shandaar "shooter" hain... aur han, ab in pics par mera copyright ho gaya!!!

    khwaab mein dekha tha,
    in tasveeron sa hi kuch,

    uffff neend khul kyon gayi...

    ReplyDelete
  40. हमारे सरदार जी कहते थे डॉ साहब आप आठ बजे से पहले आँख नहीं खोल पायोगे कश्मीर में .ओर मेरी आँख सुबह पांच बजे खुल जाती थी ...लगता था सोने में टाइम वेस्ट न करूँ.....आँखों में भर लूँ ये ख़ूबसूरती ......जानते हो मेजर... जब डल झील के पास पाने उस कन्वेंशन सेंटर में मै सुबह पहुंचा .तो मैंने अपने दोस्त से यही कहा था के भगवान् ने एक जगह क्यों सारी ख़ूबसूरती लुटा दी है ......फिर कहा चाहे कुछ हो जाए .ये हिस्सा उनके पास नहीं जाना चाहिए .रोज के बमों ओर लड़ाई झगड़ो से इसे भी मिटा देगे ....कश्मीर में सिर्फ क्लिक्क करने से हर आदमी लाजवाब फोटोग्राफर बन जाता है ...यकीन नहीं आतातो ..मेरी फेस बुक देख लो

    ReplyDelete
  41. गौतम
    विवेक जी और आप को कश्मीर की कश्मीरियत और नयनाभिराम सौन्दर्य के घर बैठे दर्शन करवाने के लिए धन्यवाद .
    आपका ' जलिए भुनिए ' पढ़कर मुझे एक ऑटो रिक्शा पर लिखा यह वाक्य याद आ गया -' राहुल शहर में एक ही है , देखिये और जलिए .'

    ReplyDelete
  42. सब के सब चित्र मनोहारी मंत्रमुग्ध कर देने वाले हैं......सचमुच चित्रकार का फ़न नमन करने योग्य है.....
    बहुत सही कहा आपने,ईश्वर ने तो मनुष्य को स्वर्ग सा धरती दिया,पर मनुष्य ने उसे नरक बनाने में कोई कोर कसार नहीं छोड़ी है...ईश्वर लोगों को सद्बिद्धि दें की वे शांति और अहिंसा के पथ पर चल सकें...

    ReplyDelete
  43. sabhi tasveerein ek se badhkar ek.........aakhir dharti ke swarg ki jo hain...........hongi kyun nhi.
    ishwar aapki kaamna poorna kare ..........hum sabki bhi yahi kamna hai.........aur jo aap mehsoos karte honge uska shanansh bhi hum shayad mehsoos nhi kar pate honge.
    http://redrose-vandana.blogspot.com
    http://vandana-zindagi.blogspot.com
    http://ekprayas-vandana.blogspot.com

    ReplyDelete
  44. आपको स्वस्थ होकर वादियों में घूमते देख मन वैसे ही प्रसन्न हो गया।
    तश्वीरें बेहद खूबसूरत हैं।

    ReplyDelete
  45. अरे बहुते खबसूरत है कश्मीर की तस्वीर.....और क्या लिखते हैं कंचन जी के वीर....
    ऐसा ही कुछ झलक इहाँ भी दीखता है....कनाडा में....का कहते हैं समीर जी ठीक बोले न हम....शायद मौसम बईमान हो जाता है इ समय....
    लाल, नीला, पीला, बैगनी, गुलाबी, सफ़ेद पेड़.....बस फूल ही फूल .... सोच रहे हैं....इहाँ का भी दरसन कराइये देवें...
    बाकि आपके फोटोग्राफर साहिब को बहुत बहुत थैंक्यू कह दीजियेगा ....ब्लाग जगत का पूरा मंडली का तरफ से...
    और जो आप कह रहे हैं....शांति की बात ....उसके लिए हमसब की तरफ से ...आमीन

    ReplyDelete
  46. behtarin tasveere..
    aur bilkul sahi kaha..


    aise swarg ka aananad uthane ka hak sabhi ko hai... :)

    ReplyDelete
  47. हाँ जी गुरु भाई , पहुँच गए ड्यूटी पर, खैरियत है .. क्या खूब छटा बिखेरी है आपके कर्नल साहिब ने ... वाह मजा आगया वेसे पोस्ट तो बहुत पहले ही पढ़ और देख चुका था मर अजब सी मसरूफियत होने के कारन टिपिया नहीं पा रहा था ,... घर में सभी खरियत है अछि बात है ...
    उम्मीद करता हूँ कश्मीरियत का मौसम सौहार्द और ख़ुशी के साथ लौटे...

    बधाई
    अर्श

    ReplyDelete
  48. pahali baar aapke blog dekha. Tasveer bahut hi aakarshak lagi. Aapka blog bhi bahut achha laga.
    Bahut shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  49. फोटोग्राफी आँख का खेल है, जो इंसान आँख से इतनी ख़ूबसूरती पकड़ सकता है वो ही निहायत खूबसूरत इंसान हो सकता है...दिल से भी और दिमाग से भी...वर्ना क्या वहां के बाशिंदे इस ख़ूबसूरती को कभी देख पायें हैं? यदि देख पाते तो इनता खून खराबा होता...कौन है जो इन खूबसूरत मंज़रों को बारूद की गंध और धुएं से बर्बाद करने पर तुला है...मेरा सलाम कर्नल विवेक को...हम तो उनके कायल हो गए...
    नीरज

    ReplyDelete
  50. देरी से आने पर क्षमा...जयपुर से आज ही लौटा हूँ...आँखों पर मिष्टी छाई हुई है ...इन तस्वीरों की तरह मासूम और खूबसूरत...इन तस्वीरों को देख उसकी याद और भी शिद्दत से आने लगी है...सच.
    नीरज

    ReplyDelete
  51. मैं तस्वीर का जानकार नहीं... कुछ तस्वीर सम्बन्धी गीत याद आये...

    तस्वीर बनता हूँ , तस्वीर नहीं बनती
    और
    जो बात तुझमें है तेरी तस्वीर में नहीं...

    वैसे पहली वाली सुन्दर में से सबसे सुन्दर लगी..

    ReplyDelete
  52. wah goutamji, khoobsoorat,
    isiliye to shayad shaahjnha ne kahaa tha..
    jannat agar knhi he to bas ynhi he ynhi he ynhi he..
    tasviro se kashmir ke darshan, haqiqat me kabhi ho to waah..jeevan ka aanand aa jaaye.../ pata nahi kab muraad poori hogi..

    ReplyDelete
  53. ओम जी के ब्लॉग पे आपकी टिप्पणी देखी तो चली आई .....ये खूबसूरत तसवीरें तो पहले देख चुकी थी बस टिप्पणी ही नहीं कर पाई ....सच कहा आपने ये खूबसूरती किसी जन्नत से कम नहीं .... कर्नल विवेक भट्ट जी का बहुत बहुत शुक्रिया इन हसीं नजारों को दिखाने के लिए .....बड़ी करके देखीं तो सच-मुच जलन होने लगी के काश हम भी होते वहाँ .....!!

    ReplyDelete
  54. बहुत् खूबसूरत् तस्बीरें देखीं और् आज् हंस मे आपका पत्र भी देखा

    ReplyDelete
  55. वाह ! खूबसूरती बिखरी पड़ी है. डॉक्टर साब सही कहते हैं क्लीक करने से ही फोटोग्राफर बन जाए कोई यहाँ तो. वैसे आपके सीओ साहब की तारीफ तो करनी ही पड़ेगी.

    ReplyDelete
  56. तो मेजर साहब ड्युटी पर वापस । तसवीरें सचमुच दिलकश हैं ।
    धरती के इस स्वर्ग में एक बार फिर से प्रेम-सौहार्द-भाईचारे और कश्मीरियत का मौसम लौटे, आइये सब मिलकर दुआ करें! आपकी दुआ में हम भी शामिल हैं ।

    ReplyDelete
  57. मैंने भी कभी इन्हीं आँखों से देखे हैं यह रंग. न जाने फिर कब देखने को मिलेंगे. चित्रों के लिए शुक्रिया!

    ReplyDelete
  58. बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    बधाई.............
    :)

    ReplyDelete
  59. अभी अभी आपके दिए दोनों लिंक देखे....
    पोस्ट और तस्वीएरों में उलझकर एक बात कहना भूल गया....

    आपके सी ओ साहिब कोशिश करते हैं के जहां तक हो सके...प्रतिबिम्ब पर विशेष ध्यान देते हैं....
    मुझे फोटोग्राफी की कोई समझ नहीं है...फिर भी ये बात मुझे ख़ास तौर पर पसंद आई...

    आपकी दुआ के साथ साथ हम सब की दुआएं हैं....
    देखें...
    क्या करता है सर्वशक्तिमान........!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  60. बहुत खूब
    बहुत -२ आभार

    ReplyDelete
  61. Meree tabiyat behtar hai...
    Aapki tasveeren to kamal hain..inhen mere fiber art ke miniatures me convert karneka man karta hai!

    ReplyDelete
  62. http://nirmal-itsallaboutlife.blogspot.com/December 16, 2009 at 10:40 AM

    बहुत खूबसूरत तस्वीरें हैं..

    ReplyDelete
  63. waah behad khubsurat tasveerein hai, shayad yahi jannat hai, dua hai ye wadiyaan phir se khuli saans le,amen

    ReplyDelete
  64. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  65. Good pictures. How can I send/attach pictures?

    ReplyDelete
  66. everybody has a plan till he gets a punch on the face...

    ...However there is always a word called 'Fight Back' . So if life throws 'Kings' on you throw 'Aces' on him.

    "कैसे आकाश में सूराख़ हो नहीं सकता
    एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो"
    शायद कॉमेट कुछ दूर तक जलेगा.

    इस ब्लौगाकाश में कोई सूराख बनाने की ख्वाहिश सचमुच ही हिलोर मार रही हो तो उसके लिये यहाँ डटे रहना जरुरी है.
    Agreed that 'One can't win or loose after he is dead.'

    लेकिन तब जब ये राम और रावण का युद्ध हो और केवल युद्ध हो धर्म युद्ध नहीं, महाभारत में भीष्म ने खुद शिखंडी वाली चाल बताई थी, और जब तक वो अमर थे तब तक शायद वो कम अमर थे आज मर के ज़्यादा हैं. विरोध के अनेक रूप हैं और अपने को सिस्टम से अलग करना (अस्थाई या स्थाई रूप से) भी उनमें से एक हो सकता है. और इसमें सफलता की गुंजाईश ज़्यादा होती है और सफलता न भी मिले तो आप उस हारे हुए सिस्टम का हिस्सा नहीं थे ये ख़ुशी भी बहुत मायने रखती है...
    ..Kind of "दिल को खुश रखने को..."


    Kashmir ke 'post cards' dekh kar 10-12 saal pehle ke wo greeting cards yaad ho aaiye jo papa ko office se milte they aur phir kai dino tak baith ke har kisi ko bhejte the. New Year, Christmas & Seasons Greeting Ek 'paravarik utsav' tha unko bhar bahr ke bhejna 15 paise ka stamp. 25 December nazdeek hai isliye wo 'Nostalgia'.
    'Khair SMS bhi to 3 rupiye ke ho gaye hain un khaas dino ke liye, Mano 'Surbhi' ke liye banaiye gaye 'Special Post Cards' hon.

    ReplyDelete
  67. वाह !
    क्या छटा है ! यह कौन चित्रकार है ?...

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !