10 February 2009

हरी है ये जमीं हमसे कि हम तो इश्क बोते हैं

बशीर बद्र साब का एक शेर जो मेरे पसंदीदा शेरों में से रहा है:-
यही अंदाज़ है मेरा समन्दर फत्‍ह करने का
मेरी क़ाग़ज की कश्ती में कई जुगनू भी होते हैं

और बद्र साब के इसी गज़ल का एक मिस्‍रा है "मुहब्बत करने वाले खूबसूरत लोग होते हैं"। इस मिस्‍रे पे एक तरही मुशायरे का आयोजन करवाया था गुरू जी ने। तो पेश है बद्र साब की इस जमीन पर मेरा प्रयास।
बहर है-->बहरे हज़ज मुसमन सालिम
वजन है-->१२२२-१२२२-१२२२-१२२२ {4 X मुफ़ाईलुन}

हरी है ये जमीं हमसे कि हम तो इश्क बोते हैं
हमीं से है हँसी सारी, हमीं पलकें भिगोते हैं

धरा सजती मुहब्बत से, गगन सजता मुहब्बत से
मुहब्बत करने वाले खूबसूरत लोग होते हैं

करें परवाह क्या वो मौसमों के रुख बदलने की
परिंदे जो यहाँ परवाज़ पर तूफ़ान ढ़ोते हैं

अज़ब से कुछ भुलैंयों के बने हैं रास्ते उनके
पलट के फिर कहाँ आये, जो इन गलियों में खोते हैं

जगी हैं रात भर पलकें, ठहर ऐ सुब्‍ह थोड़ा तो
मेरी इन जागी पलकों में अभी कुछ ख्वाब सोते हैं

मिली धरती को सूरज की तपिश से ये खरोंचे जो
सितारे रात में आकर उन्हें शबनम से धोते हैं

लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है
वो कोई और होंगे अपनी किस्मत पे जो रोते हैं

(भोपाल से निकलने वाली द्विमासिक पत्रिका "सुख़नवर" के जनवरी-फरवरी १० अंक में प्रकाशित)

32 comments:

  1. बहुत अच्छा प्रयास है गौतम जी

    बहुत खूबसूरत शेर हैं


    बधाई .

    ReplyDelete
  2. मंज़र साहिब ,नमस्कार,,,,,,,,,किला सा फतह कर लिया आपने तो,,,,,,,,,पढ़ी और मज़ा आ गया,,,आज तो मुझे भी शब्द नही मिल रहे,,,,,,,,

    आपकी इस जबरदस्त सफलता पर जो खुशी मिली है,,,,,बयान से बाहर है,,,

    दोबारा भी आऊँगा इसी ग़ज़ल को पढने......

    ReplyDelete
  3. ankit walaa sher bhi shaandaar hai...unhe bhi badhaai kahnaa,,,,,,,,

    aur dwiz bhaai bhi hamse pahle ,,,,bas do minat pahle aa gaye,,,,,,,,,namaskaar bhaaijaan,,,,,,,

    ReplyDelete
  4. सुबीर साहब और द्विज जी के बाद और कहने को क्या बचता है।

    सबसे पसंद आया-

    जगी है रात भर पलकें....

    और ग़ज़लों के इंतज़ार में-

    मानोशी

    ReplyDelete
  5. "jagi hain raat bhar palken" beautiful

    ReplyDelete
  6. वाह गौतम भाई,हम भी किस्मत पे रोने वालो मे से नही है।बहुत ही शानदार गज़ल है,जितनी तारीफ़ की जाए कम है,और हां अंकित भी बधाई के पात्र हैं।

    ReplyDelete
  7. वाह गौतम भाई,हम भी किस्मत पे रोने वालो मे से नही है।बहुत ही शानदार गज़ल है,जितनी तारीफ़ की जाए कम है,और हां अंकित भी बधाई के पात्र हैं।

    ReplyDelete
  8. निस्संदेह अंकित ने बहुत ही बेहतरीन शेर निकाला है........ पर आप की मेहनत भी मुंह-बोलती है... अच्छे शेर हैं भाई.. शुभकामनाएं........

    ReplyDelete
  9. नमस्कार गौतम जी,
    ये गुरु जी, आपका और बड़े बुजुर्गों का का प्यार और आशीर्वाद है जो मेरा शेर इस जगह तक पहुँच पाया. मैं सभी की शुभकामनाओं को एक प्रेरणा के रूप में लेके आगे अच्छे से अच्छा लिखने की कोशिश करता रहूँगा.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना है. खासकर अन्तिम दो शेर बहुत पसंद आए.

    ReplyDelete
  11. mezar saahib sahit sabhi ko,,,,,,,,
    prem diwas ki badhaai,,,

    ReplyDelete
  12. जगी हैं रात भर पलकें, ठहर ऐ सुबह थोड़ा तो
    मेरी इन जागी पलकों में अभी कुछ खाब सोते हैं ..

    बहुत प्यारा शेर कहा है भाई ....आफरीं......
    पूरी ग़ज़ल चुस्त और रवानी में है ....
    ख्यालात का इज़हार बड़े सलीके से किया गया है
    बधाई स्वीकारें ......

    और...ये आपके लिए .......

    "ख्यालो-लफ्ज़,एहसासात,इल्मो-फन,अदाकारी ,
    क़लम जब तुम उठाते हो,ये सब सिजदेमें होते हैं"

    फिर से मुबारकबाद ..........
    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  13. lakire apne haatho ki banana hamko aata he..
    vo koi aor honge apni kismat par rote he..

    waaaaaaaaah.
    kya kahu..bahut khoob.
    dil karta he bas padhte jaao aour nazm khatm naa ho.

    ReplyDelete
  14. खूबसूरत शेरों का प्यारा कलेक्शन किया है आपने, बधाई।

    ReplyDelete
  15. der si badhai saheb .. do baar padh chuka hoon ..
    baad me kuch sochkar comment doonga . abhi to shabd nahi mil rahe hai

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर !!

    प्रिय गौतम, "क्रियेटिव कामन्स" का मतलब है "हरेक को इसके पुनरुपयोग का अधिकार दिया जाता है"

    जरा जांच लेना

    सस्नेह -- शास्त्री

    ReplyDelete
  17. वाह भाई...दिल खुश हो गया. एक एक शेर लाजवाब...पर हमें तो ये वला सबसे पसंद आया
    करें परवाह क्या वो मौसमों के रुख बदलने के
    परिंदे जो यहाँ परवाज पर तूफ़ान ढोते हैं.
    क्या तेवर हैं, क्या जज्बा...हम तो इसी रुख के कायल हैं. अंकित को भी बधाई दीजियेगा हमारी तरफ़ से.

    ReplyDelete
  18. गौतम भाई

    आपका बहुत बहुत शुक्रिया, आपने अपने व्यस्त कार्यक्रम में मुझसे मिलने का समय निकाला, आपसे मिल कर इतना अच्छा लगा की मैं बयां नही कर सकता, थोड़े से वक़्त में ही आपने मुझे बहुत बहुत सारी यादों से सरोबर कर दिया, आपका व्यक्तित्व आपके अनुरूप ही है, फौज में रहते हुवे भी आपके मन की कोमलता, आपके दिल का विस्तार बहुत ज्यादा है. आपके साथ बिताये कुछ पल हमेशा हमेशा के लिए मेरे स्मृति पटल पर महकते रहेंगे.

    आपकी ग़ज़लों के तो हम दीवाने हैं ही, अब आपके भी दीवाने हो गए.

    आपको दुबई आने का मेरा निमंत्रण है.

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छा और बेहतरीन लिखा है
    बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छा और बेहतरीन
    बधाई

    ReplyDelete
  21. दिनांक 16.02.2009 कें मैथिली मंडनक तत्वावधान में 'मैथिली युवा लेखन दशा आ दिशा' विषय पर शहीद भगत सिंह कॉलेज, नई दिल्ली में एक टा संगोष्ठीक आयोजन कयल गेल. एहि अवसर पर देशक विभिन्न भाग स' आयल टटका पीढीक सक्रिय भागीदारी रहल. बनारस से आयल 'नवतुरिया' केर संपादक अरुणाभ, कटिहार (बिहार) से रोहित झा, दिल्ली से अलोक रंजन, मिथिलेश कुमार राय, फिरदौस, धर्मव्रत चौधरी, देवांशु वत्स, सेतु कुमार वर्मा प्रमुख वक्ता छलाह. ऑडियो कोंफ्रेंसिंग के जरिये गाजियाबाद से मैथिली आ हिंदीक प्रख्यात कथाकार - संपादक अनलकांत ( गौरीनाथ ) आ सहरसा सं चर्चित युवा कथाकार - कवि अखिल आनंद सभा स' जुड़लैथ. संगोष्ठीक संचालन युवतम रचनाकार कुमार सौरभ केलैथ. एहि अवसर पर नवतुरक रचनाकार सबहक क्षोभ एकटा पर्चा पर देखल गेल जे सभा में उपस्थित करीब एक सौ रचनाकार पाठकक बीच वितरित कयल गेल

    ReplyDelete
  22. भाई राजरिशी

    सबसे पहले तो क्षमा माँगता हूँ कि पिछले दिनों से आ न सका और अब आया तो आपकी एक और बेहतरीन गज़ल पढ़ने को मिली वाह वाह वाह

    मज़ा आ गया।

    ReplyDelete
  23. लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है

    वो कोई और होंगे अपनी किस्मत पे जो रोते हैं।


    अहा वाह मज़ा आ गया राजरिशि भाई!

    ReplyDelete
  24. लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है

    वो कोई और होंगे अपनी किस्मत पे जो रोते हैं।


    अहा वाह मज़ा आ गया राजरिशि भाई!

    ReplyDelete
  25. bahut sunder gautam ji sabhi sher bahut pasand aayye, kyun na hon likhe hi bahut achche hain. bahut-2 badhaai.

    ReplyDelete
  26. गौतम जी आप का मेरे ब्लॉग पर आना और तारीफ के दो शब्द कहना ....इस नाचीज़ के लिए बहुत ही खुशगवार रहा,बहुत अच्छा लगता है जब आप सरीखे साहित्य साधक हम जैसे नासमझों को दाद देने आते है ,
    लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है
    वो कोई और होंगे अपनी किस्मत पे जो रोते हैं।
    बहुत सुंदर और प्रभावशाली शेर,अंकित जी का शेर भी काबिले तारीफ है

    ReplyDelete
  27. मोहब्बत करने वाले ख़ूबसूरत लोग होते हैं.

    सौ फ़ीसद इत्तिफ़ाक रखता हूँ मैं आपकी बात से. जो ख़ूबसूरत न हो, भला उससे मोहब्बत करने का कोई मतलब है क्या?

    ReplyDelete
  28. gautam ji
    kya khoob likha hai ye gazal , wah ji wah

    maza aa gaya padhkar

    aapko shivraatri ki shubkaamnaayen ..

    Maine bhi kuch likha hai @ www.poemsofvijay.blogspot.com par, pls padhiyenga aur apne comments ke dwara utsaah badhayen..

    ReplyDelete
  29. गौतम जी , दस फरवरी की पोस्ट और हम अब आ रहे हैं ...? पता नही ये चुक कैसे हो गई .... और इस बार तो आपने कमल कर दिया हर एक शेर उम्दा ....पता नही कहाँ कहाँ से ढूंढ कर लाते हैं इतने गहरे और दिल को छु लेने वाले शेर ....

    हरी है ये ज़मीं हमसे कि हम इश्क बोते हैं
    हमी से है हँसी साडी ,हामी पलकें भिगोते हैं

    और ये देखिये ....

    मिली धरती को सूरज कि तपिश से ये खरोंचे जो
    सितारे रत में आकर उन्हें शबनम से धोते हैं
    सुभान अल्लाह गौतम जी.....
    और फ़िर ये ......

    लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है

    वो कोई और होंगे अपनी किस्मत पे जो रोते हैं।

    ek fouji sher .....naman hai aapko...!!

    ReplyDelete
  30. हरी है ये ज़मीं हमसे कि हम इश्क बोते हैं
    हमी से है हँसी साडी ,हामी पलकें भिगोते हैं

    Bahut gahari aur bhav purn kavita..
    Hamesh ki tarah es bar bhi man ko chho gayi...
    Regards

    ReplyDelete
  31. मिली धरती को सूरज कि तपिश से ये खरोंचे जो
    सितारे रत में आकर उन्हें शबनम से धोते हैं
    बहुत-सुन्दर लगा आपका अन्दाज़ मेजर साहिब
    श्याम सखा ‘श्याम

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !