25 October 2010

जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से

व्यस्तता अपने चरम पर है। कुछ-कुछ ऐसा कि जैसे बोर्ड परिक्षाओं वाले दिन वापस आ गये हों। दिसम्बर मध्य तक यही स्थिति कायम रहने वाली है मेरे संग। जितना कश्मीर को मिस कर रहा हूँ, उतना ही आपसब को भी। भला हो डा० अनुराग की इस अद्‍भुत चर्चा का, जिसे पढ़ने के लिये तनिक समय चुरा कर निकाला तो ख्याल आया कि लगे हाथों एक पोस्ट भी ठेल दूँ। एक पुरानी ग़ज़ल...लगभग दो साल पहले की लिखी हुई, किंतु ब्लौग के लिये नयी। सुनिये:-

उठी इक हूक जो इन मौसमों की आवाजाही से
बना जाये है इक तस्वीर यादों की सियाही से


कि होती जीत सच की बात ये अब तो पुरानी है
दिखे है रोज सर इसका कटा झूठी गवाही से

नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से


किया है जुगनुओं ने काम कुछ आसान यूँ मेरा
बुनूँ मैं चाँद का पल्ला सितारों की उगाही से

जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से

अजब आलम हुआ जब मौत आई देखने मुझको
दिखा तब देखना उनका झरोखे राजशाही से


घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से
{त्रैमासिक अभिनव प्रयास के जुलाई-सितम्बर,2010 अंक में प्रकाशित}



...फिलहाल इतना ही। जल्द ही लौटूँगा आपसब के ब्लौग पर। कुछ बंधुगण मेरे मोबाइल पर मुझसे संपर्क करने की कोशिश कर रहे होंगे, तो दिसम्बर मध्य तक उस नंबर पर उपलब्ध नहीं हूँ मैं। उस नंबर-विशेष की आवश्यकता कुछ अपरिहार्य कारणों से उधर मेरी कर्मभूमि में ज्यादा थी। आपसब को दीपावली की अग्रीम शुभकामनायें...!!!

55 comments:

  1. घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से


    क्या कहने !!
    दीपावली की आपको भी शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  2. उठी इक हूक जो इन मौसमों की आवाजाही से
    बना जाये है इक तस्वीर यादों की सियाही से

    जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से

    अश`आर की कशिश
    अपनी जगह बरकरार है जनाब...
    लेकिन आप की याद की शिद्दत को क्या कहें
    जो बस अपनी ही ज़िद मनवाती है . . .
    खैर ,,,
    समझा जा सकता है,,
    हालात को,,,
    मजबूरियों को,,,
    वक़्त की नज़ाक़त को
    बस यहीं से सलाम कुबूल कीजिये
    हमेशा खुश रहिये,,,,सुखी रहिये,,,,
    और यूं ही अपना पाकीज़ा फ़र्ज़ निभाते रहिये .

    उसे आना है,दिल में,जेहन में,पुर-आब आँखों में
    भला कब'याद'रुक पाती है दुनिया की मनाही से

    ReplyDelete
  3. नींद की उनसे पूछो जिनको नसीब नहीं,
    आप सपनों में घूमने चले आते हो।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर!!

    आपको भी दीपावली शुभ हो...

    भारत पहुँच बात होती है.

    ReplyDelete
  5. जरा सी नींद क्या है , पूछना सिपाही से ...
    इस सिपहियत को नमन ...!

    ReplyDelete
  6. अजब आलम हुआ जब मौत आई देखने मुझको
    दिखा तब देखना उनका झरोखे राजशाही से

    "खुबसूरत ग़ज़ल....."
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये
    regards

    ReplyDelete
  7. दीपावली की शुभकामनाएँ आपको भी..

    ReplyDelete
  8. नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से

    क्या बात है!बहुत ख़ूब!

    घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से

    बिल्कुल सच कहा गौतम,
    अपने घरों में अपने परिवार के साथ सिपाही की मुस्तैदी की वजह से ,चैन से सोने वाले हम लोग
    इस ’ज़रा सी नींद’ की अहमियत को क्या समझेंगे ,
    अल्लाह तुम सब को ख़ुश रखे ,सलामत रखे

    ReplyDelete
  9. गौतम भाई ,

    चलो आपको हमारी याद तो आई .... बस ऐसे ही समय निकाल कर अपना हाल चाल दे दिया करो ... कभी कभी हाल चाल मिलना बहुत जरूरी हो जाता है !

    गजब ग़ज़ल सुनाई है .....खास कर आखरी शेर तो लाजवाब है |

    "घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से"

    लगे रहो भाई .....दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये |

    जय हिंद !

    ReplyDelete
  10. 8/10

    लाजवाब पोस्ट
    कश्मीर को आप ही नहीं पूरा हिन्दुस्तान मिस करता है. फर्क बस इतना कि आप करीब से और हम दूर से.
    बहुत अरसे बाद किसी ग़ज़ल को पढ़कर अजीब सी तृप्ति हासिल हुयी. हर एक शेर कमाल का है. सच ये भी है कि हर एक शेर को पांच बार पढने के बावजूद भी तारीफ़ के लिए कोई उम्दा शब्द नहीं सूझ रहा है. इस शेर से तो कोई भी रश्क करेगा :
    "जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से"

    ReplyDelete
  11. मेजर अरसे बाद आपको देख कर दिल खुश हो गया...अपनी तो दिवाली से पहले दिवाली मन गयी...
    आप जहाँ रहें खुश रहें...हमारी खुशियाँ आपसे जुडी हैं...
    गज़ल का मकता बेमिसाल है...

    दीवाली की अग्रिम बधाई...

    नीरज

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी ग़ज़ल है गौतम जी...वाह
    नहीं दरकार है मुझको किनारों की मेहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से
    बेहतरीन...

    किया है जुगनुओं ने काम कुछ आसान यूँ मेरा
    बुनूँ मैं चाँद का पल्ला सितारों की उगाही से...
    लाजवाब शेर है...पढ़ा और याद हो गया.

    ReplyDelete
  13. सिलवटें बिस्तरों पे रहें कायम,
    नींद को हम गवांये बैठे है!

    ReplyDelete
  14. सुन्दर रचना!
    --
    मंगलवार के साप्ताहिक काव्य मंच पर इसकी चर्चा लगा दी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया ग़ज़ल है गौतम जी। याद‍ दिलाती है कि हमारे चैन से सोने में इन सैनिक भाइयों का कितना अहम योगदान है। जय भारत! जय हिंद!

    ReplyDelete
  16. बहुत दिनो बाद पोस्ट आयी है। देख कर मन को खुशी हुयी अपकी गज़ल पढने की हमेशा ललक सी रहती है
    नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से
    वाह लाजवाब जज़्बा है इसे भी कुछ दिन के लिये सजा लूँगी अपने प्रोफाईल पर ।


    घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से
    सही बात है जब हम सब आराम की नींद सोते हैं वो हमारी सुरक्षा के लिये जागते हैं। बहुत अच्छा शेर।
    "जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से"
    बस निशब्द हूँ। बहुत बहुत बधाई और आशीर्वाद सदा यूँ ही हंसते मुस्कुराते रहो।

    ReplyDelete
  17. :)

    ustaad ji waale comment ko hi hamaaraa maanaa jaaye...

    ReplyDelete
  18. कि होती जीत सच की बात ये अब तो पुरानी है
    दिखे है रोज सर इसका कटा झूठी गवाही से

    नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से


    किया है जुगनुओं ने काम कुछ आसान यूँ मेरा
    बुनूँ मैं चाँद का पल्ला सितारों की उगाही से

    क्या खूब लिखा है……………दिल को छू गया।

    दीपावली की आपको शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  19. .

    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से


    खूबसूरत ग़ज़ल !

    तस्वीरों ने तो आंसू ला दिए आँखों में।

    .

    ReplyDelete
  20. भाई, ईमानदारी से एक बात कहूँ....

    तीन बार पढ़ गयी पर फिर भी आपके लिखे शब्द दिमाग तक नहीं पहुंचे...

    सड़क किनारे जो इस तरह नींद में निढाल पड़े अपने रक्षकों को देखा ,तो मन अजीब सा हो गया...
    हमारे अमन और आजादी के लिए आपलोग जो कीमत चुकाते हैं.......बस क्या कहूँ...

    इसकी कीमत जो न समझे उससे बड़ा कृतघ्न और देशद्रोही और कौन होगा....
    गर्व है आपलोगों पर ...हम आपके कर्जदार रहेंगे सदा ही...

    ब्लोगिंग में आपके पुनः सक्रिय होने की बेसब्री से प्रतीक्षा है...

    ReplyDelete
  21. "जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से"

    ये शेर तो जान लेकर ही मानेगा................

    ReplyDelete
  22. घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से.

    वाकई ..
    निशब्द कर देते हैं आप.
    दिवाली की ढेरों शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  23. घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से

    बहुत भावुक रचना । देश मे और सरहद पर मौज़ूद सभी सिपाहियो को सलाम ।

    ReplyDelete
  24. ग़ज़ल पढ़कर दिल खुश हो गया.

    ReplyDelete
  25. गौतम जी आपकी पोस्ट पर प्रतक्रिया देने के लिए तो शब्द भी नहीं होते मेरे पास. बहुत ख़ूब ....खुबसूरत ग़ज़ल ....
    दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  26. बड़ी ख़ूबसूरत ग़ज़ल है..
    तस्वीरें देख तो सच....अहसास हो गया...जरा सी नींद क्या चीज़ है..सिपाहियों के लिए.

    आपको भी दीपावली की शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  27. दुबारा सिर्फ एक बात कहने पलटा हूँ जो उस वक़्त कहना रह गया था. पोस्ट के साथ गोरों के बजाय हिन्दुस्तानी फौजियों की फोटो होतीं तो दिल को और भी अच्छा लगता. शुक्रिया

    ReplyDelete
  28. आपको भी दिवाली की शुभकामनायें. आपकी गजल हर बार की तरह... सुन्दर !

    ReplyDelete
  29. घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से
    सही कहा !

    अच्छा लगा बहुत दिन बाद आपको वापस यहाँ देख कर। आशा है व्यस्तता के इस दौर से निकल कर आप पुनः ज्यादा सक्रिय हो सकेंगे।

    ReplyDelete
  30. घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से...
    oh nda se dekh chuki hun is neend ki kashmakash

    ReplyDelete
  31. जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से

    ये शेर जबान पे रहेगा अब कई रोज....

    .इन दिनों मूड ऐसा ही है मेजर .जब देखता हूँ अरुंधती को कश्मीर मसले पर भी सपोर्ट करने वाले मिल जाते है ....पता नहीं अगले चालीस सालो में देश जाएगा कहाँ...?

    Missing you Buddy!!!!

    ReplyDelete
  32. काफी अंतराल के बाद ही सही मगर आनंद आ गया ! हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  33. खूब! बिलकुल सही कहा आपने कविता के ज़रिये . आपको ,आपके साथियों को याद करते हुए एक गाना लगाया है 'मयखाना' पर . मैं कोई रचनाकार या कवि नहीं मगर बलिदान की कीमत समझने के लिए ये कोई पूर्व शर्त भी नहीं

    ReplyDelete
  34. bahut achchha laga padh kar ......
    नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से
    prabhavshali panktiyaa

    ReplyDelete
  35. "जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से"

    कित्ती मासूमियत भरी खूबसूरती से आपने तो कह दिया......
    पर सोचेने लगे तो चेहरे पर लकीरें कुछ ज्यादा हो गयीं

    ReplyDelete
  36. जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से
    ...सुंदर गजल का सुंदर शेर।

    ReplyDelete
  37. हरेक पंक्ति कमाल की है। आज़ाद देश में मस्त हम सिविलियन लोग जिन बातों को "for granted" मानकर चलते हैं हमारे लिये जान कुर्बान करने वालों के लिये ही वे सामान्य सुविधायें भी दुर्लभ हैं। सच में प्रणम्य है सैनिकों का जज़्बा। और लानत है उनपर जो सब जानते समझते हुए भी इन सैनिकों की सही-गलत निन्दा का कोई मौका नहीं छोडते और साथ ही देशद्रोहियों को महिमामंडित करते रहते हैं।

    ReplyDelete
  38. किया है जुगनुओं ने काम कुछ आसान यूँ मेरा
    बुनूँ मैं चाँद का पल्ला सितारों की उगाही से

    one of the great couplet!

    ReplyDelete
  39. सब नाप तौल कर सजा कर लिखते हैं आप !‌
    भीतर घुसता हुआ हर शेर !‌ गज़ल का आभार !‌
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !‌

    ReplyDelete
  40. उठी इक हूक जो इन मौसमों की आवाजाही से
    बना जाये है इक तस्वीर यादों की सियाही से

    जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से

    अाप अनोखे अापके अंदाज अनोखे... बहरहाल अापका समाचार तो मिला.
    मै भी अाजकल ब्लोग पर नियमित नही हुं.

    दीपावली की शुभकामनाएं !!‌

    ReplyDelete
  41. आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
    मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

    ReplyDelete
  42. diwali par shubhkamanayen. naya saal aap ke liye achha rahe.

    rajivlochan

    ReplyDelete
  43. बहुत प्यारी अभिव्यक्ति.. और इंटेलिजेंट भी.. "जिबह होता है...."
    इसे पढ़ने के बाद ख़्याल आया, हर दिन जिबह हो रही है तो ज़िंदगी तो बस इसी पल एक बार फिर चख ली जाए ज़िंदगी :)

    ReplyDelete
  44. जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से

    अजब आलम हुआ जब मौत आई देखने मुझको
    दिखा तब देखना उनका झरोखे राजशाही से
    kya kalam kee rwanee hai.

    sipahee kee neend kya hotee hai iska to sirf anuman hee laga sakte hain Major sahab. Bahar hal Khuda hafij.

    ReplyDelete
  45. जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से

    अजब आलम हुआ जब मौत आई देखने मुझको
    दिखा तब देखना उनका झरोखे राजशाही से
    kya kalam kee rwanee hai.

    sipahee kee neend kya hotee hai iska to sirf anuman hee laga sakte hain Major sahab. Bahar hal Khuda hafij.

    ReplyDelete
  46. नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से
    bahut khoob ! my fav !

    जिबह होता है इक हिस्सा उमर का रोज ही मेरा
    सुबह जब मुस्कुराता है ये सूरज बेगुनाही से
    too good!

    घड़ी तुमको सुलाती है घड़ी के साथ जगते हो
    जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से
    wow!

    ReplyDelete
  47. बहुत दिनों से मिस कर रही थी आपको ,आपके ब्लाग को |टटोला तो दिल को छूने वाली गजल पढ़ी |
    आप सबको नमन |

    ReplyDelete
  48. नहीं दरकार है मुझको किनारों की मिहरबानी
    बुझाता प्यास हूँ दरिया की मैं अपने सुराही से
    Kya baat hai!
    Pata nahi wajah kya hai,lekin aapke lekhan kee mujhe ittela milni band ho gayi hai!Ittefaqan maine kholke dekh liya!

    ReplyDelete
  49. गौतम भाई,
    क्या ख़ूब इत्तिफ़ाक है कि मैं आपके ब्लॉग की उसी ग़ज़ल पर ‘लैण्ड’ कर गया जो कि हमारी पत्रिका ‘अभिनव प्रयास’ में छपी थी!

    इस ग़ज़ल को पढ़कर मुझे बार-बार लग रहा था कि कहीं पढ़ा है इसे...जब नीचे देखा, तो पाया कि हमारी ही पत्रिका की हिस्सा रही है यह यह सुन्दर रचना....पुनः पढ़कर अच्छा लगा....बधाई!

    ReplyDelete
  50. अजब आलम हुआ जब मौत आई देखने मुझको
    दिखा तब देखना उनका झरोखे राजशाही से

    i liked this very much

    ReplyDelete
  51. मन के भाव को शब्दों में परिवर्तित करना आसान होता है,
    पर ऐसे गहरे भाव होना.. ख़ास बात है.
    :
    प्रियंक ठाकुर
    www.meri-rachna.blogspot.com

    ReplyDelete
  52. nice post..

    mere blog par bhi kabhi aaiye waqt nikal kar..
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  53. राम करे ऐसा हो जाए,
    मेरी निंदिया तो हे मिल जाए,
    मैं जागूं, तू सो जाए
    स- स्नेह
    - लावण्या

    ReplyDelete
  54. बहुत ही बढ़िया गज़ल..
    "जरा सी नींद क्या है चीज पूछो इक सिपाही से"
    ये मिसरा तो गज़ब है..

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !