23 December 2008

तू जो गया तो अहसासों का,मन अब इक खाली बटुआ है...

...वो कहते हैं न कि पुराने का मोह नहीं छुटता.तो अपनी एक पुरानी रचना को बहर में लाने का प्रयास कुछ यूं बना है:-

जब से मुझको तू ने छुआ है
रातें पूनम दिन गिरुआ है

इक बीज पड़ा है इश्क का तो
नस-नस में पनपा महुआ है

तू जो गया तो अहसासों का
मन अब इक खाली बटुआ है

टूटा है तो दर्द भी होगा
दिल तो शीशम ना सखुआ है

तेरे चेहरे की रंगत से
मेरा हर मौसम फगुआ है

फेरो ना यूं नजरें मुझसे
बहने लगेगी फिर पछुआ है

हँस के तू ने देख लिया तो
जग ये सारा हँसता हुआ है

...कहीं-कहीं कमजोर रह गयी है,जानता हूं.आप सब मशवरा दें और सुधारने का.


(मासिक पत्रिका "वर्तमान साहित्य" के अगस्त 09 अंक में प्रकाशित)

31 comments:

  1. खरगोश बहुत से हैं इस दौड़ में
    जीत गया जो तू वही कछुआ है

    ReplyDelete
  2. तू जो गया तो अहसासों का
    मन अब इक खाली बटुआ है

    रजनीशी भाई अच्छी ग़ज़ल अपने आप में नई।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिखा है। सुधारने लायक योग्यता हममें कहाँ?
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  4. कविता प्रभावशाली है । बहुत अच्छा िलखा है आपने । बधाई । मैने अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है- आत्मविश्वास के सहारे जीतें जिंदगी की जंग-समय हो पढें और कमेंट भी दें-

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. इतनी सुंदर कविता लिखी आप ने, ओर हमे तो ढंग से टिपण्णी भी देनी नही आती मशवरा कहा से दे भाई.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. भाई वाह, बड़े सही काफिये का प्रयोग किया है आपने..

    ReplyDelete
  7. गौतम,

    बहुत अच्छा लिखते हो।

    --मानोशी

    ReplyDelete
  8. Mushkil Kaafiyaa tha (mere hisaab se!). Bakhoobi sambhaalne ki koshish ki hai.
    Use of variety of Kaafiya shows treasure of words the Poet possess. Good job.
    RC

    ReplyDelete
  9. जो बात पहली बार मे निकलती है....वो मुझे लगता है कि अलग ही होती है..।! जैसे जैसे सुबह नहा के आई माँ...! सेंदुर, बिंदी के बाद भी वो बहुत अच्छी लगती है, लेकिन वो सुबह की तांगी अलग ही होती है..पूजा के फूलों जैसी....!

    ऐसी ही है कुछ आपकी गज़ल..कहीं कहीं प्रवाह कम होता है..लेकिन भाव सारी कमी खतम कर देते हैं..!

    ReplyDelete
  10. प्यार की पहली फुहार सी बात है इस रचना में ..कई पंक्तियाँ बिम्ब नए और अच्छे लगे ...

    ReplyDelete
  11. bahut acha likha hai aapne .. badhai ..



    kabhi hamare blog par bhi aayiye.

    vijay
    poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. तू जो गया तो अहसासों का
    मन अब इक खाली बटुआ है


    बस यही शेर सबसे अच्छा लगा .....

    ReplyDelete
  13. bahut mushkil kafiye se bani ek khubsurat gazal bahut badhai

    ReplyDelete
  14. भाई तकनीकी समझ हम मे नही है ! हां पर एक बात है कि आप जो लिख्ते हैं वो पढ कर आनन्द और शुकुन मिलता है ! हमारे लिये तो ये बहुत बडी बात है ! आप तो लिखते रहिये ! बहुत आनन्द आता है आपका लिखा पढ कर !

    रामराम !

    ReplyDelete
  15. बहुत बढिया। अब सुधारने लायक तो हम है नही।

    ReplyDelete
  16. आज तो सोच कर आया था कि चाहे ग़लत ही होऊँ /गलती निकल कर ही आऊंगा बहुत कहते है कि सुधरने का मशवरा दें/ यहाँ आया तो नस नस में महुआ पनप गया =मौसम होली मय हो गया ,हवा पछुआ बहने लगी /अब महुआ के सुरूर में मुझे क्या पता को होली पर पछुआ बहती है या नहीं /हंस के तूने देख लिया इस पर निवेदन है की "" हंस कर देखा या देख कर हँसे ""

    ReplyDelete
  17. Rajnish ji ,
    bahot khub likha hai aapne naye andaj aur kase huye kafiye ke sath umda ghazal.. dhero badhai swikaren bhai sahab....


    arsh

    ReplyDelete
  18. भाव तो जबरद्स्त है गौतम जी। पढ़ते हुये ऐसा लगता है जैसे भीनी-भीनी खूश्बू चारों तरफ फैल गई हो।

    ReplyDelete
  19. कोशिश जानदार, अनुभव सब सिखा देंगे

    ------------------------------------
    http://prajapativinay.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. आप सुधारने की बात कर रहे हैं, मैं तो मंत्रमुग्‍ध रह गया। पूनम, गेरुआ, महुआ, शीशम, सखुआ, फगुआ, पछुआ - ये बिम्‍ब मन में उतर रहे हैं और मन बावरा हुआ जा रहा है।

    ReplyDelete
  21. "...raateiN poonam, din gir`ua hai"
    bahot khoob ! thorhe se shabdo mei
    jane kya kuchh keh diya aapne.
    bahot achhi gazal kahee hai...
    sb aapki mehnat ka hi nateeja hai..
    Badhaaee !!
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  22. Sir pehle to yahee kahoonga ki mujhe khushi hai ki meri nazar is jagah padhee...kamee to dhoondhne waale dhoondhe,mujhe to bada pyaara lagaa...

    aur haan is baat ki alag se tareef karni hogi ki kaafiya sach mein hate tha :)

    ek haasy-vyang ki rachna prastut hai..padhe aur sujhaav de :)
    http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_5104.html

    ReplyDelete
  23. सही कहा गया है "Old Is Gold"
    गौतम जी, आपकी कविता बहुत पसंद आई.. हर एक शब्द भावनाओं की गहराई बयां करता है।
    दूसरी बात ये कि आपने अपने ब्लॉग पर बहुत अच्छा काम किया है। ख़ासतौर पर लेफ्ट हैंड साइड पर जो लिस्ट बनाई गई है.. सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  24. ghazal durust karnaa to waqt ke kaam hote hain...
    achhe khyaaon ko salaah kyaa dena ..
    magar bahte rahe .....

    ek aur cheez jo ghazal se bhi jyaada choo gayee man ko...

    wo hai ek fauzi ke haath me kalam ke alaava guitar dekhnaa..

    prem pujari ki yyad aa gayee...

    yahaan aana kai kaarnon se yaadgaar rahega

    ReplyDelete
  25. chalo waapas aayaa ek baat kahne...

    ke jo puranaa hai na,use naa chhedo..apne time me aapko wahi laajwaab lagaa hogaa..hai naa...

    seekh rahe hain yaa khud ke tazarbe se naye likhe ko theek karen...

    puranaa jaisaa bhi hai pyaaraa hota hai..

    ReplyDelete
  26. hans tumne dekh liya jo
    jag sara hansta hua hai

    ismain sara saar hai kam shabdon main duniya ki itni badi sachhayi kah jana maan gaye
    aaj aapko pahli baar pada

    neeraj ji ke blog par aapke commnets ne aapke naam par click karwaya aur dekha ki ye to khazana hai
    isiliye aapko apne blog se jod liya taki samay milne par aakar samay kuch apnse se khyaalon ke saath bitya jaa sake

    ReplyDelete
  27. गौतम जी आप एक बारगी फ़िर से मेरे ब्लॉग पे आए और जरा जनाब निदा फाजली साहब के काफिये पे गौर करें...

    ReplyDelete
  28. BAHUT KHOOB:
    तू जो गया तो अहसासों का
    मन अब इक खाली बटुआ है

    aur nazam purani hai to kya hua, :
    mujhko ab tak zinda rakhey,
    pichle sal ki budhi dua hai.

    ReplyDelete
  29. टूटा है तो दर्द भी होगा
    दिल तो शीशम ना सखुआ है

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !