21 September 2009

कभी मौत पर गुनगुना कर चले...

ईद का दिन है गले आज तो मिल ले ज़ालिम
रस्मे-दुनिया भी है, मौका भी है, दस्तूर भी है


मुगलिया सल्तनत के आखिरी बादशाह बहादुर शाह ज़फ़र के इस शेर को ईद के पावन मौके पर सुनाने से रोक नहीं पाता खुद को- विशेष कर अपनी चंद महिला-मित्रों को। फिलहाल चलिये एक ग़ज़ल सुनाता हूँ अपनी। ज़मीन अता की सुख़नवरी के पितामह मीर ने। "दिखाई दिये यूँ कि बेखुद किया, हमें आपसे ही जुदा कर चले" - इस एक ग़ज़ल के लिये शायद अब तक की सबसे महानतम जुगलबंदी हुई है। देखिये ना, अब जिस ग़ज़ल को लिखा हो मीर ने, संगीत पे ढ़ाला हो खय्याम ने और स्वर दिया हो लता जी ने...ऐसी बंदिश पे तो कुछ भी कहना हिमाकत ही होगी। ...और इस ग़ज़ल का ये शेर "परस्तिश की याँ तक कि ऐ बुत तुझे / नजर में सभू की खुदा कर चले" मुझे एक जमाने से पसंद रहा है। इसी शेर का मिस्‍रा दिया गया था तरही के लिये आज की ग़ज़ल पे एक बेमिसाल मुशायरे के लिये। तो पेश है मेरी ये ग़ज़ल:-

हुई राह मुश्किल तो क्या कर चले
कदम-दर-कदम हौसला कर चले

उबरते रहे हादसों से सदा
गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
कभी मौत पर गुनगुना कर चले

वो आये जो महफ़िल में मेरी, मुझे
नजर में सभी की खुदा कर चले

बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
वही लोग हमको मिटा कर चले

खड़ा हूँ हमेशा से बन के रदीफ़
वो खुद को मगर काफ़िया कर चले

उन्हें रूठने की है आदत पड़ी
हमारी भी जिद है, मना कर चले

जो कमबख्त होता था अपना कभी
उसी दिल को हम आपका कर चले
{भोपाल से निकलने वाली त्रैमासिक पत्रिका "सुख़नवर" के जुलाई-अगस्त 10 वाले अंक में प्रकाशित}

...इस ज़मीन से परे लेकिन इसी बहर पे एक ग़ज़ल जो याद आती है वो बशीर बद्र साब की लिखी और चंदन दास की गायी "न जी भर के देखा न कुछ बात की / बड़ी आरजू थी मुलाकात की" तो आप सब ने सुनी ही होगी। अरे हाँ, प्रिंस फिल्म में जब शम्मी कपूर महफ़िल में बैजन्ती माला को देखकर एक खास लटक-झटक के साथ गाते हैं बदन पे सितारे लपेटे हुए..., तो इसी बहर पे गाते हैं।

इधर ब्लौग-जगत अपना फिर से व्यर्थ के विवादों में पड़ा है। विवादों से परे हटकर जरा लता दी की "दिखाई दिये यूं..." को रफ़ी साब की मस्ती में "बदन पे सितारे..." की धुन पे गाईये, या उल्टा! बड़ा मजा आयेगा...!

चलते-चलते, मनु जी का ये बेमिसाल शेर सुन लीजिये इसी मुशायरे से:-

खुदाया रहेगी कि जायेगी जां
कसम मेरी जां की वो खा कर चले

89 comments:

  1. बहादुर शाह ज़फ़र के शेर से लुटे हुए थे ही..आपकी गज़ल ने रोक कर लूटा और मनु..फिर लूट लिया...हम तो लुटे पिटे टिपिआ रहे हैं. :)


    बहुत उम्दा!!

    ReplyDelete
  2. वाह आपने माहौल को रूमानी बना दिया -बड़ी जोरदार शायरी है !

    ReplyDelete
  3. बहुत लाजवाब जी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. मेजर साब
    ईद के दिन, बहादुर शाह ज़फर ने जो रास्ता दिखाया है कमबख्त खुद ब खुद पांवों में चला आता है ...
    यार पोस्ट क्या लिखी है और क्या ग़ज़ल कही है बरबाद कर दिया है अब मैं कुछ काम का न रहा मुझे अभी घरवाली ने हिदायत दी है चिपको मत वरना सब काम हवा में डोलते रह जायेंगे. बाखुशी लौटता हूँ अभी. तब तक चाहने वाले और भी मिल जायेंगे यहाँ... जैसे समीर अंकल की हालात है वैसे सच मानो मैं भी लूटा जा चुका हूँ. हाय मेजर हम ना हुए, देखना आज तो बरबादों की लाइन लगेगी ...

    ReplyDelete
  5. जो कमबख्त होता था अपना कभी
    उसी दिल को हम आपका कर चले.nice

    ReplyDelete
  6. गौतम जी आपकी बात ही कुछ और है। क्या नही है आपकी इस पोस्ट में। शुरु से लेकर आखिर तक बहते चले गए। और बात की जाए आपकी गज़ल की तो साहब एक एक शेर पर हम कुर्बान हुए चले।

    हुई राह मुश्किल तो क्या कर चले
    कदम-दर-कदम हौसला कर चले

    उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    ये शेर हमारा हौंसला बढाते हुए चले। वाह .....

    ReplyDelete
  7. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    ReplyDelete
  8. उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले

    खड़ा हूँ हमेशा से बन के रदीफ़
    वो खुद को मगर काफ़िया कर चले
    लाजवाब
    समझ नहीं आता कि पहले गज़ल की तारीफ करूँ या आपकी ज़िन्दादिली की
    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले
    बहुत कमाल की गज़ल है और बाकी शेर भी लाजवाब हैं । मनु जी का शेर तो होता ही लाजवाब है उसके लिये भी धन्यवाद और आशीर्वाद भगवान आपकी ये ज़िन्दादिली यँ ही बनाये रखे परिवार के लिये भी शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. लाजवाब रचना , आपको भी ईद मुबारक हो

    ReplyDelete
  10. गौतम जी,

    बेहद खूबसूरत गज़ल कही है। दिल में उतरे हुये अशआरों के लिये आपको सलाम के सिवाय कुछ और नही कह सकता।

    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    जो कमबख्त होता था अपना कभी
    उसी दिल को हम आपका कर चले

    और अंत में मनु जी का शे’र तो कुछ सोने में सुगंध या पेट भर खाने के बाद पान की गिलौरी की तरह आया।

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  11. हुई राह मुश्किल तो क्या कर चले
    कदम-दर-कदम हौसला कर चले

    वाह.. मतला ही ज़ोरदार...!

    और फिर
    उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले


    क्या खूब फौज़ी शेर...! जो अनुजा को हमेशा पसंद आते हैं।

    वो आये जो महफ़िल में मेरी, मुझे
    नजर में सभी की खुदा कर चले


    ये शेर अकेला सुनने पर उतना नही असर नही डाल रहा था जितना अब पूरी गज़ल के साथ

    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले

    खड़ा हूँ हमेशा से बन के रदीफ़
    वो खुद को मगर काफ़िया कर चले

    उन्हें रूठने की है आदत पड़ी
    हमारी भी जिद है, मना कर चले

    जो कमबख्त होता था अपना कभी
    उसी दिल को हम आपका कर चले


    सभी खूबसूरत... सभी लाजवाब...!

    ReplyDelete
  12. और हाँ आरंभ के ज़िक्र की बात भौजाई तक पहुँचा दी जायेगी...!
    और अंत में लिखा गया मनु जी का शेर बहुत उम्दा..!

    ReplyDelete
  13. आपको ईद की शुभकामनाएं और बहुत ही सुंदर पोस्ट की है एक एक शब्द चुन कर लिखा है आपने...
    मीत

    ReplyDelete
  14. लाजवाब तरीके से पेश किया आपने.. ईद मुबारक

    हैपी ब्लॉगिंग

    ReplyDelete
  15. लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले
    bahut badhiyaa

    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले
    khuub

    ReplyDelete
  16. गौतम जी मेरी हिम्मत वैसे भी आपकी ग़ज़लों पर टिप्पणी करने की नही है
    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले
    बस इस शेर से छलकते हौसले की रवानी को सलाम करना चाहता हूँ.
    ..पता नही क्यों नासिर साहब सुबह से इतना याद आ रहे हैं
    कोई हो फ़स्ल मगर ज़ख़्म खिल ही आते हैं
    सदाबहार दिल-ए-दागदार अपना है
    आभार

    ReplyDelete
  17. मुझे शेरो-शायरी समझने में वक़्त लगता है। वक़्त लगाकर पढ़ा और समझा इन्हें। बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  18. गौतम जि,
    बहुत अच्छी लगी यह गज़ल---।
    पूनम

    ReplyDelete
  19. समीर जी, किशोर जी,
    सिर्फ आप लोग नहीं हैं लुटे-पिटों का लाइन में..हमहूँ ज्वाइन कर रहे हैं आपका क्लब.....
    और टिपिया रहे हैं :-)
    बहुत ही खूबसूरत.... हर एक शेर लाजवाब...

    ReplyDelete
  20. क्या कहूं, इस गज़ल पर । सबने तो कह ही दिया है, मैं तो कुंवर जावेद जी की तरह सोच में पड़ गया हूं-

    कौन सा रखूं नाम, मैं तेरा कौन सा रखूं नाम
    सुबहे-बनारस रखूं या फ़िर रखूं अवध की शाम
    ********************************
    नाम तेरा रख देता रूबाई होता गर खय्याम
    कौन सा रखूं नाम, मैं तेरा कौन सा रखूं नाम

    सच पूछिये तो आपकी गज़ल ने ईद के आनंद को कई गुना बढ़ा दिया है।

    ReplyDelete
  21. पाल लिया इक रोग नादां इस जिंदगी के वास्ते,
    हाय अब तो दुरूस्त होने का जी नहीं करता....

    क्या कहूं गौतम जी...बस सब कुछ दिल को छूने वाला ...और छू गया है..

    ReplyDelete
  22. हम तो एक शेर के सामने ही कुछ भी नहीं...यहाँ तो इतने सारे बड़े बड़े शेरों ने मिलकर छीन झपट पूरा का पूरा ही गड़प लिया.....

    क्या लाजवाब ग़ज़ल है ..... क्या लिखा है आपने......वाह !!!

    ReplyDelete
  23. समीरा किशोरा लुटे है सभी
    सहारे हमें उनके बिठाकर चले

    तुझे लूटने की है आदत पड़ी
    हमारी भी जिद सब लुटा कर चले

    तिने खूब गौतम कही ईद की
    मुझे तुम जफ़र अब बनाकर चले

    गौतम भाई,
    बेहद खूबसूरत अशआर कहे है.मन आनंदित होगया.आदरणीय समीर जी और किशोरजी ने सही कहा है लेखनी की इस सुन्दरता पर सबकुछ लुटाने की इच्छा होती है.
    (@समीर जी,@किशोरजी..टिप्पणी में कही कविता को बहर में कहने के लिए वज्न को सही करने के लिए किशोरा समीरा शब्दों को आप मुझे इसकी इजाजत देंगे इस अधिकार भाव से प्रयोग में लिया है...राजस्थानी कविता में जेठवा राजिया आदि शब्दों का प्रयोग भी इस तरह से किया गया है..आप दोनों मेरे लिए आदरणीय है आशा करता हूँ अन्यथा नहीं लेंगे.)

    ReplyDelete
  24. 'जो कमबख्त होता था अपना कभी
    उसी दिल को हम आपका कर चले'
    - जितनी भी दाद दी जाए कम है.

    ReplyDelete
  25. aapke sheroon main koi comment kar sakoon itna bad bhi nahi hua gautam sir abhi...
    ...haan magar ek baat zarror kehna chahoonga ki aapke following sher par maine aur muflis ji ne itni baar wah wah ki hai phone par ki zayad karte to ke ramayan ban jaati (tulsidaas ji ki yaad hai na)

    उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    ye sher nahi sacchai hai adam jaat ki....
    mukammil !! mukamill !! Zillion times !!!

    treveni ka bukhaar chal raha hai to aapko kaise baksh sakta hoon:

    खड़ा हूँ हमेशा से बन के रदीफ़
    वो खुद को मगर काफ़िया कर चले
    'ruk' kisi mod pe 'rukn' mile to ghazal ho !!

    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले
    ek sheshey ki umr hai apni bus !!

    ReplyDelete
  26. ek aur (sorry but can't stop):

    खुदाया रहेगी कि जायेगी जां
    कसम मेरी जां की वो खा कर चले

    kal 'khuda' ka bhi aise hi qutal hua tha !!

    ReplyDelete
  27. आज जो लूट मचाई थी वो आगे चल कर कत्लो गारत में बदल गयी है समीर अंकल के साथ मैं लूटा गया तो सुशील जी स्वेच्छा से कुर्बान हो गए. हम लुट चुकों को थोडा आसरा तब मिला जब अदा जी भी हमारी ही पंक्ति में आ खड़ी हुई, रंजना जी को को तो शेरों ने घेर कर लूटा और फिर जिंदा ही गड़प कर गए. ओह्ह जालिम तुझ पे और गिरें कुछ हुस्न की बिजलियाँ.... प्रकाश जी अब चाहे समीरा कहो किशोरा कहो हम बर्बादों के पास बचा ही क्या है .बस बची रही कंचन जो खुद शेर पालती है और गौतम जी के शेर इस रिश्तेदारी को जानते हैं, बहन होने का भी फायदा है भाई. मैं फिर लौटूंगा कमेन्ट करने, जैसा बन पडेगा वैसा बदला लूंगा.

    ReplyDelete
  28. उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    इन पंक्तियो पर हम आपना जान लुटाकर चले......

    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले

    वाह क्या बात कही है ........

    खड़ा हूँ हमेशा से बन के रदीफ़
    वो खुद को मगर काफ़िया कर चले


    वाह वाह वाह वाह वाह .......और क्या कहे...............

    ReplyDelete
  29. हुज़ूर सतपाल साहब की महफिल में भी हम आपकी इस ग़ज़ल पर खड़े हो कर तालियाँ बजा आये थे और वो ही कारनामा अब आपकी महफिल में दोहरा रहे हैं...इस ग़ज़ल के शेर ऐसे हैं जो लिखे नहीं जाते ऊपर से खुद लिखे लिखाये दिमाग में आते हैं...बेहतरीन
    नीरज

    ReplyDelete
  30. भाईजान.. यहाँ ईद मन रही है या होली ..??? :)

    उधर भौजाई बड़े गुस्से में हैं ये खबर सुन कर कि आप खुद तो शेर के बहाने लोगो से गले मिल ही रहे हो साथ साथ और लोगो को भी दिग्भ्रमित कर के लुटने, लुटाने, कत्ल होने जैसे कामों मे लगा दिया है।

    मुझे तो जासूसी के लिये डबल सिंवई खिलाई है, मगर आपके लिये कुछ और इंतज़ाम है...! यहाँ ईद मिलने मिलाने से छुट्टी पाना उधर के लिये सावधान हो लेना...!!! :(

    ReplyDelete
  31. क्या कहूं ....ऊपर वालो की तरह तारीफ के दो शब्द कहकर रस्म निभा कर चला जायूं ...खय्याम ने जिस गजल को लिबास दिया ...की वो आज इतने सालो बाद भी दिल में बसी हुई है ....कभी कभी सोचता हूँ की शायरों को क्यों इतना अंडर एस्टीमेट किया जाता है ...क्यों एक खास तबका से उन्हें वो तवज्जो मिलती है ...जो पूरे आवाम से मिलनी चाहिए थी .मसलन देखिये कितने साल पहले कही हुई बात आज भी अपना पुरजोर असर रखती है वैसे ही ....उसी शिद्दत से ....कितना मुश्किल होता है बड़ी बात को दो लाइनों में कहना ....
    फ़िलहाल मूड किसी ओर रस्ते पे है ...ज़माने को देखकर हैरान भी हूँ ओर पशेमां भी....आपका ये शेर अच्छा लगा ......

    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    ओर हाँ मनु जो को भी कहियेगा .....एक गजल भले ही छोटी हो ...लिखे ..इस तरह के शेरो से जी नहीं भरता

    ReplyDelete
  32. उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले
    बहुत सुंदर , वाह वाह ही बची हमारे हिस्से मै,तरीफ़ तो सब ने दिल भर कर कर दी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  33. वाह गौतम जी वाह...
    मुबारकबाद ईद की भी और इस बेहतरीन ग़ज़ल की भी...

    ReplyDelete
  34. लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    huzoor !!
    maine bhi iss tarah misre par ghazal kehne ki jasaarat ki thi ...lekin wo poori gzl iss ek sher se zyada achhee nahi bn paaee
    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    waah-wa !!
    mubarakbaad

    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  35. aabhi abhi pata chala ki nirmala maa bhi aapki usi sher ki kayal hain...


    उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    Time Proof S'her !!

    ReplyDelete
  36. लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले
    .............बहुत सुन्दर लिखा है ...बधाई

    ReplyDelete
  37. परखा है किसी कि निगाहों ने इस कदर हमको
    जो टूटा तारा था , अब चाँद हो गया ......

    मीर कि ग़ज़ल " दिखाई दिए यूँ ...." सुना कर आपने रेशमी यादों में एक सितारा और जड़ दिया ...उस पर आपका शेर ....लिखा जिन्दगी पर फ़साना कभी / कभी मौत पर गुनगुना कर चले ....वो जो आये महफ़िल में मेरी / मुझे नज़र में सभी कि खुदा कर चले .... सुभानाल्लाह ....

    ReplyDelete
  38. कंचन के कमेंट हमारे माने भी माने जायें सिवाय घूस वाली बात छोड़कर। ये वाला सेर सवा सेर लगा हमें तो:
    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    ReplyDelete
  39. नमस्ते भैय्या,
    वाह वाह क्या ग़ज़ल है.............
    मतला ही इतना जानदार है, की आगे आने वाला हर शेर ख़ुद में हौसला लिए हुए है.
    मुझे जो शेर पसंद आये वो हैं. ...."उबरते रहे हादसों .", "लिखा जिंदगी पर फ़साना., और "उन्हें रूठने की है".

    ReplyDelete
  40. लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले
    SALAAM AAPKI JINDADILI KO MEJOR SAAHAB ...... LAJAWAAB

    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले
    YE TO DUNIYA KA DASTOOR HAI .... AAPNE BAAKHOOBI SHER MEIN DHAAL DIYA HAI ...

    उन्हें रूठने की है आदत पड़ी
    हमारी भी जिद है, मना कर चले
    BAHOOT AASHIKANA ANDAAJ ...... KAHEEN YE BHAABHI KE OOPAR TO NAHI ...

    ReplyDelete
  41. ये शायर सियासी मुजरिम होते हैं... इनके आस्तीनों से बगावत की बू आती है... आपको ऐसे लपेटेंगे की ज़माना याद रख्खेगा... अभी हिंदुस्तान में एक इतबार को ज़फर जी पर एक लेख आया था और क्या क़यामत के शेर था उसमें... उस घटना का जिक्र था जब उनके जवान बेटों का सर अंग्रेजों के कलम कर उनके सामने ट्रे में रखा था... वो जाबाज़ (ज़फर) ने कहा - तो यूँ सुर्खुरू है बेटे अपने वालिद के लिए... एक पल के लिए ज़फर बन कर सोचिये... रोंगटे खड़े हो जायेंगे...

    आपको याद हो रफी साहब का वो कलाम...
    "न किसी के आँख का नूर हूँ, ना किसी के दिल का करार हूँ...
    जो किसी के काम ना आ सका, मैं वो मुफ्त गुबार हूँ...
    मेरा रंग-रूप उजड़ गया, मेरा यार मुझसे बिछड़ गया
    जो खिज़ा चमन से गुज़र गया में वो उजड़ी बयार हूँ....

    काश ! यह कमेन्ट पहले किया होता बांकी साथी भी पढ़ते... अब आप पहुचाइए...

    ReplyDelete
  42. ईद पर एक अच्छा शेर बताया आपने. हम भी सुनाया करेंगे अगले साल से. बिना ईद भी सुना दिया करेंगे :)
    ये ख़ास पसंद आया:
    'लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले'
    और विवादों पर आपकी सलाह पर अमल होना चाहिए !

    ReplyDelete
  43. उन्हें रूठने की है आदत पड़ी
    हमारी भी जिद है, मना कर चले
    phir koi kyun n ruthe, bemisaal

    ReplyDelete
  44. हमें तो लूट लिया गौतमजी के शेरो ने
    अच्छे अच्छे शेरो ने ...... मीठी मीठी बातो ने
    क्या कहें -इतने लोगो को लूटा है आपने \इसकी सजा मिलनी चाहिए
    जल्दी से एक गजल और पोस्ट कर दीजिये
    आभार

    ReplyDelete
  45. सागर भाई निराश ना हों कि आप देरी से आये हैं और अब कमेन्ट कौन पढेगा ये गौतम जी जो फूल बिखेर कर चले जाते हैं उनके लिए मेरे जैसे पाठक लौट लौट के आते हैं. मैं अकेला नहीं हूँ, बिस्मिल हज़ार हैं यहाँ ... शोभना जी खुद कितना अच्छा लिखती है उनको भी यहाँ लूटा जा चुका है. रहम रहम रहम ... अब और कोई आवाज़ नहीं उठती है दिल से !

    ReplyDelete
  46. hamne kai baar padh lee hai mejor...
    ab jaldi se nayee post daalo....

    ReplyDelete
  47. अभी अभी ही चिट्ठा चर्चा (http://chitthacharcha.blogspot.com/2009/09/blog-post_23.html) में पता चला कि आपको देश की रक्षा करते गोली लगी है. आपके साथियों में से कुछ शहीद हुए हैं.
    आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना तथा शहीदों को नमन. भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें.

    ReplyDelete
  48. हम आप और आपके साथियों (वीर-जवानों) की सलाहमति की दुआ करते हैं। ईश्वर आपको स्वस्थ और दीर्घायु रखे। शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  49. सलामति की दुआ करते हैं।

    ReplyDelete
  50. आप जल्दी से ठीक हों और ढेर साड़ी खूबसूरत गजले यूँ ही सुनाते रहे यही दुआ करते हैं

    ReplyDelete
  51. जल्दी से ठीक हो जाने की शुभकामनायें तुम्हें गौतम। हम सभी की दुआयें हैं तुम्हारे साथ।

    ReplyDelete
  52. Major Sahab aapki har ghazal apne aap mein nayaab tohfa hai.har sher ek nagina jaise...
    -'dikhaaye diye yun-'-mujhe bhi pasand hai..
    ---------------------

    [All the Very very best and GET WELL SOON!]

    ---------------------
    [Eid vacations were keeping me busy at home..Sorry,could not visit your blog earlier.]

    ReplyDelete
  53. behatareen , khoobsurat gazal .

    wah har sher lajawaab. badhaai sweekaren.

    ReplyDelete
  54. राजरिशी भाई आपके कायलों मे अपना नाम तो है ही ! पिछले काफी दिनों से ब्लॉग जगत से अलग-थलग पड़ गया था अब जुड़ने की कोशिश कर रहा हूँ आपकी गज़ल ने तो मारा ही मारा साथ मनु भाई का शेर भी क़यामत ढा रहा है

    ReplyDelete
  55. कौड़ी के दाम बिके तेरे हाथों गौतम,

    हम भी आज एक सौदा कर चले।


    अगर मीटर से भागा हो तो भागने दीजिएगा

    हा हा हा

    ReplyDelete
  56. भाई हम तो बदन पे सितारे को ओम ज्य जगदीश हरे की धुन पर गाते है आप भी गाकर देखिये

    ReplyDelete
  57. शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिये मंगलकामनायें।

    ReplyDelete
  58. Looking forward to see you 100% healthy soon.

    Thanks for being there for the nation.

    ReplyDelete
  59. गिरे फिर उठे मुस्कराकर चले ,यह होना भी चाहिए ,वरना गिरे को उठाने वाले मिलते नहीं है, तमाशा देखने अलबत्ता लोग जमा हो जाते हैं ,मैं चला था तो मेरे साथ चले थे कितने ,और मैं गिरा था तो मुझे आये उठाने कितने ?जिन्हें बनाया ,सजाया संवारा ,वोमिटा कर चले ठीक तो है , लेकिन उन्होने खुद को भी मिटाया समझो ""अरे ओ जलाने वाले ,वो तेरा ही था नशेमन ,जिसे तूने फूँक डाला मेरा आशियाँ समझ कर"" कदम दर कदम हौसला कर चले ,ज़रूरी भी है ,नशेमन पे नशेमन इस कदर तामीर करता जा कि, बिजली गिरते गिरते आप खुद बेजार हो जाये उन्हें रूठने की आदत और हमें मानाने की जिद ,ठीक तो है ,वो अपनी खूँ न छोडेंगे हम अपनी वजा क्यों बदलें ।जो कमबख्त होता था अपना -मुगले आज़म फिल्म याद आगई ,"अपनी ही औलाद को अपना बनाने के लिए हमें एक कनीज़ का सहारा लेना होगा

    ReplyDelete
  60. आप बहुत जल्द स्वस्थ हो जायेंगे...ईश्वर से यही कामना करते हैं हम

    ReplyDelete
  61. Rashmi ji ke blog se hote hue aap tak pahuchi.......dekhiye poore desh ne dua mein dono haath otha liye..... ab ham logon ko kaun samjhate ki shareer par lage ghaav to sipahi ki bahaduri ki ek dastan bhar hai.....phir bhi....abhi padosi bahut hisaab chukaana hai ... so get set ready.....fit ho jaiye jaldi :-)

    ReplyDelete
  62. खुदाया रहेगी कि जायेगी जां
    कसम मेरी जां की वो खा कर चले

    गौतम जी ये शे'र कितने पास से होकर गुजर गया सोचा आपने ....? जब सुना ज़मीं पैरों तले खिसक गयी थी ... रब्ब आपको सही सलामत रखे .....आज जब आपका एस एम् एस आया कि सकुशल हैं तो राहत की साँस ली ....!!

    ReplyDelete
  63. सर जी अभी किसी ब्लॉग पर आपके इंजर्ड होने की खबर पढी है..उम्मीद करता हूँ कि खबर गलत हो..भगवान से आपकी सलामती और सेहत की दुआ करता हूँ..खैरियत की खबर देते रहा कीजिये..ऊपरवाले को भी ज्यादा परेशान करना ठीक नही!!

    ReplyDelete
  64. प्रिय गौतम जी ! आपके घायल होने की खबर ने तो होश ही उड़ा दिए (रश्मि जी से पता लगा )... अभी कंचन जी के ब्लॉग पर पढ़ी टिप्पणी से कुछ राहत की साँस मिली ! ईश्वर आपको अतिशीघ्र स्वस्थ करे ,यही प्रार्थना है !

    ReplyDelete
  65. abhi abhi rshiji ke blog par aapke g ghayl hone ki khabar padhi man andar tak dhal gya .devi maa aapki rksha kre aur aap jaldi se bilkul theek hokar sbke dilo par raj kre .
    shubhkamnaye

    ReplyDelete
  66. हुई राह मुश्किल तो क्या कर चले
    कदम-दर-कदम हौसला कर चले

    kya baat shuru kar di hai


    उबरते रहे हादसों से सदा
    गिरे, फिर उठे, मुस्कुरा कर चले

    ahaaaaaaaaaaa

    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले

    bahut khoob kaha hai
    jigara chahiye hai



    बनाया, सजाया, सँवारा जिन्हें
    वही लोग हमको मिटा कर चले

    yahi ho raha hai
    khuda bhi mera kaatil bhi hai


    bahut hi achchi lagi gazal

    Aapke ghayal hone ki khabar mili magar samjh nahi paayi ki sahi hai yaa kuch galat fahmi hai

    magar dua yahi hai ki aap chir aayun ho

    khoob khush rahe aur khoob khyaati paayen

    ReplyDelete
  67. रश्मि प्रभा जी के ब्लाग पर चिरंजीव मेजर गौतम के घायल होने की खबर पढ़कर दिल बहुत दुखी हुआ. मेजर गौतम बड़े दृढ़ संकल्प और इच्छा-शक्ति के असाधारण व्यक्ति हैं. ऐसे व्यक्तियों के सामने इस प्रकार के संकट अल्प-सामयिक होते हैं. परम परमेश्वर से यही प्रार्थना है कि हमारे देश के रक्षक नव-युवक गौतम जी को शीघ्र ही स्वास्थ्यलाभ और दीर्घ आयु दें.

    ReplyDelete
  68. vatan kaa haal sach-sach too mujhe kahate n dar hamdam.
    giree hain bijaliyaan jis par vo mera aashiyaan kyon ho.
    ishwar kare saaree khabaren jhooTee hon.

    ReplyDelete
  69. कई दिनों से नहीं देख रहा था ब्लोग्स को । अचानक चिट्ठा चर्चा पर आपके घायल होने की खबर पढ़ी । हतप्रभ हूँ । आपकी सलामती की दुआ माँग रहा हूँ । ईश्वर आपको शीघ्र स्वास्थ्य दे ।

    ReplyDelete
  70. हम सब की दुआएं आप के साथ हैं गौतम जी ! बहुत ही जल्दी स्वस्थ्य हो के आईये हम सब के बीच. माँ शारदा आपकी रक्षा करें हमेशा.
    सादर शार्दुला

    ReplyDelete
  71. दिखाई दिये यूँ कि बेखुद किया... ये तो मेरा bhi पसंदीदा गीत है और आपकी ग़ज़ल भी
    खूब रही.

    ReplyDelete
  72. ईश्वर आपको शीघ्र स्वस्थ्य करे.

    ReplyDelete
  73. This morning I read somewhere that you had an injury on shoulder during action..I hope you r fine now..best wishes from me and Neeraj for a speedy recovery..plz let us all now abt ur well being ASAP..all blogger friends are really worried abt you..plz take care of urself..

    ReplyDelete
  74. बहुत अच्छी ग़ज़ल कही आपने गौतम जी
    साधुवाद!
    लिखा जिंदगी पर फ़साना कभी
    कभी मौत पर गुनगुना कर चले
    वाह!

    ReplyDelete
  75. सलामती की प्रार्थनाऒ के साथ .....

    ReplyDelete
  76. gautam ji, blog se hi jaankari mili ki aap ko desh ki raksha karte hue goli lagi hai,

    main pariwaar sahit bhare hriday se us parampita parmatma se prarthna karta hun ki mere desh ke is bahadur jaanbaaz ko ati sheeghra swasthya laabh pradaan karen. gautam ji hum aapke saath hain. aapke blog par punaraagman ki prateeksha men.

    ReplyDelete
  77. आज सुवीर जी के ब्लॉग से आपके स्वास्थ्य का समाचार मिला और यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आप धीरे धीरे स्वस्थ हो रहे हैं ! सीधे contact न होने से बेचैनी अवश्य रहती है ! ईश्वर आपको जल्दी ही स्वस्थ करे यही प्रार्थना है !

    ReplyDelete
  78. आज दैनिक हिंदुस्तान में रवीश कुमार का ब्लॉग वार्ता हमेशा की तरह पढने के लिए पेज खोला ...पाल ले ....अरे ...पाल ले एक रोग नादाँ ...ये तो गौतम जी के ब्लॉग का जिक्र है ...तुंरत पढना शुरू किया ...क्या लिखते हैं रवीश कुमार जी ...कहते हैं ..मुल्क से मुहबत्त का रोग इस नादाँ को न होता तो इस नादाँ की जान हथेली पे न होती ...हर ब्लोगर का कुछ फलसफा होता है ...गौतम का भी है ..." वो कौन है , जिन्हें तौबा की मिल गयी फुर्सत / हमें तो गुनाह करने को जिन्दगी कम है "
    २१ सितम्बर की पोस्ट में लिखा शेर " ईद का दिन है गले आज तो मिल ले जालिम..., मेजर आकाश दीप की शहादत , ३१ अगस्त की पोस्ट का जिक्र ...जिसमे " वर्तमान साहित्य " में छापी ग़ज़ल " सुबह उतरी है गलियों में ...." और गणतंत्र दिवस के मौके पर लिखी ग़ज़ल " उनका हर एक बयां हुआ / दंगे का सब सामान हुआ ....का जिक्र किया है ....
    रवीश कहते हैं ...एक अच्छा कवी ही अच्छा सिपाही हो सकता है ...सरहदों पर जान देने गए सिपाहियों के जज्बातों को हमने कब समझा है ...हम तो बस उसे किसी को मार कर मर जाने वाला ही समझते रहे ....उनकी शहादतों को पेट्रोल पम्पों और मूर्तियों में दर्ज करते रहे ....गौतम अपनी गज़लों में हमारे लिए दर्ज कर रहे हैं ...सेना को शायर और कवियों की ज़रुरत है ....
    कुल मिला कर रवीश कुमार द्वारा की गयी आपकी तारीफ़ पढना अच्छा लगा ....२१ सितम्बर को की गयी पोस्ट को पहले भी कई बार पढ़ चुकी हूँ पर इस वार्ता ने फिर से एक बार और आने पर मजबूर कर दिया ....
    आपके स्वास्थ्य के लिए ईश्वर से दुआ करते रहेंगे ....

    ReplyDelete
  79. पाल ले इक रोग नादां...
    ...जिंदगी के वास्ते,सिर्फ सेहत के सहारे जिंदगी कटती नहीं

    bahut sundar. bahut bahut bahut sundar... maine age padhne se pahle ye post karna uchit samjha.
    aise ashh aar badi muddat pe milte hain

    satya

    ReplyDelete
  80. sach kahun to laga jaise ek adhoori ghajal poori kar di aapne.. bahut khoob.. "Dainik Hindustaan" ke ek lekh ke maadhyam se aapke blog tak pahuncha.. aabhaari hun us lekh likhne wale sajjan ka (jinka naam mujhe yaad nahi hai, kshama prarthi hun..)...

    aabhaar..
    ambarish ambuj
    http://www.ambarishambuj.blogspot.com

    ReplyDelete
  81. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  82. posting for the first time, i have been your silent admirer for some time. besides, a few people have known you through me. the perfect combination of your noble profession and the literary creativity are coveted traits rarely seen in today's upwardly mobile, 'corporate-culture-corrupt' society. God bless you, son.

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !