24 July 2010

उलझ के ज़ुल्फ़ में उनकी गुमी दिशाएँ हैं

बहुत दिन हो गये थे अपनी कोई ग़ज़ल सुनाये आपलोगों को। ...तो एक ग़ज़ल आपसब की नज्र।  इस बार बारिश को रिझाने की मुहीम में मिस्रा-ए-तरह उछाला गया था "फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं"। जरा देखिये तो मेरा प्रयास कैसा है:-

उलझ के ज़ुल्फ़ में उनकी गुमी दिशाएँ हैं
बटोही रास्ते खो कर भी लें बलाएँ हैं

धड़क उठा जो ये दिल उनके देखने भर से
कहो तो इसमें भला क्या मेरी ख़ताएँ हैं

खुला है भेद सियासत का जब से, तो जाना
गुज़ारिशों में छुपी कैसी इल्तज़ाएँ हैं

उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं

सिखाये है वो हमें तौर कुछ मुहब्बत के
शजर के शाख से लिपटी ये जो लताएँ हैं

उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं

भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं

कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं

उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं


...और हमेशा की तरह जिक्र कुछ गानों का जिनकी धुन पर इस ग़ज़ल को गुनगुनाया जा सकता है। मो० रफी साब के दो गाने याद आते हैं...एक तो "ये वादियाँ ये फ़िज़ाएँ बुला रही हैं तुम्हें " वाला है...और एक "न तू जमीं के लिये है न आस्मां के लिये" वाला है। एक और याद आ रहा है उन्हीं का गाया और जो मुझे बहुत पसंद भी है..."हम इंतजार करेंगे तेरा कयामत तक, खुदा करे कि कयामत हो और तू आये" । अरे हाँ, वो मुकेश साब का गाया "कभी कभी मेरे दिल में खयाल आता है" वाला गीत भी तो इसी धुन पर है।

55 comments:

  1. "भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं"

    बेहद उम्दा मेजर साहब !

    बस युही लिखते रहिये ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. ईश्वर तुम्हे ऐसे ही हँसाता रहे...शुभकामनायें कंचन को !

    ReplyDelete
  3. कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं.
    अच्छी ग़ज़ल, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  4. बदकिस्मत हैं वो लोग जिनकी बहनों का जन्मदिन खास दोस्त के साथ पड़ जाये, बेचारे ना इधर के ना उधर के....! हमारी हमदर्दी आपके साथ है :) गीत सुनाई नही दे रहा। एमपी3 वर्ज़न भेजिये।

    ReplyDelete
  5. हम तो गुरुदेव के ब्लॉग पर इसे पढ़ने के बाद से ही बस लट्टू हुए घूम रहे हैं...क्या गज़ब के शेर निकाले हैं आपने...कितनी बार और कहाँ कहाँ तारीफ़ करें कुछ समझ नहीं आ रहा...अगर आज कंचन और आपके प्रिय मित्र का जन्म दिन एक साथ न आता तो शायद इतनी खूबसूरत ग़ज़ल भी आपके ज़ेहन से बाहर न आती इसकी कामयाबी में उन दोनों का ही हाथ है...मैंने जान बूझ कर उन दोनों का 'भी' नहीं लिखा...उन दोनों का 'ही' लिखा है...:))
    मेरी दिली दाद कबूल करें और जल्दी जल्दी लिखते रहें...अपनों का जन्म दिन जिस दिन न हो, तब भी...
    नीरज

    ReplyDelete
  6. वे कुछ खास शेर सुनने थे
    मगर सुन नहीं पा रहा हूँ तो जिज्ञासा बेलगाम हुई जाती है, शायद उन शेर को सुन कर कोई हसीन सा दृश्य सोचता.
    कंचन जी को इतने गहरे दिल से हुक्म देने के अधिकार का प्रयोग करते हुए देखता हूँ तो बहुत ख़ुशी होती है.
    ग़ज़ल के आप सरताज हैं और उससे भी बड़ी बात की ग़ज़लें हम जैसे आम आदमियों की बनी हुई है अब तक.
    कोई एक शेर नहीं वरन पूरी ग़ज़ल अपने आप में ज़िन्दगी के कई जुड़ा अनुभवों का कोलाज है.
    आप कमाल के हैं,
    इसी पन्ने पर मैं भी कंचन जो जन्म दिन की शुभकामनाएं दे देता हूँ, जन्म दिन असीमित खुशियाँ लाये...

    ReplyDelete
  7. आपके पन्ने पर लगा प्लेयर बिल्कुल ठीक है और आपकी ठोस आवाज़ में जो लरज़िश है, उसी में ये शेर सुन रहा हूँ, बड़ी ही मासूमियत से आपने हाल कह सुनाया है.

    ReplyDelete
  8. खुदा कसम!!! इन दिनों मूड कुछ ऐसा ही है .... कल रात फिर कुछ बजिया सजी.वक़्त ओर दो किरदारों के बीच......तुम्हे देखा ....गोया आज तुम भी वक़्त से लड़ रहे हो...........कुछ तारीखे कम्बखत तारीखे नहीं होती .....


    दिल के उस कोने से उस खीचकर आज फिर उन्हें बीच में डाला है.........के आज के दिन फिर रगों में उन्हें ही बहना है........

    बकोल कंचन जुलाई में पैदा होने वाली लडकिय सेंटी होती है ..हम मान लेते है .क्यूंकि कम्बखत हमारे दो जिगरी दोस्त इसी जुलाई में पैदा हुए है .ओर हम सोच रहे है वो कब कभी सेंटियाने की झलक दिखायेगे .....खैर ...गुरूजी को प्रणाम कहियेगा....ओर हाँ इस रिक्रोडिंग को दुरस्त करो ...सुनाई नहीं देता .....या रूबरू सुनायोगे !!!

    ReplyDelete
  9. उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं

    सिखाये है वो हमें तौर कुछ मुहब्बत के
    शजर के शाख से लिपटी ये जो लताएँ हैं

    उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
    हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं
    Kaun se ashar chune jayen? Sabhi ek se badh ke ek hain!

    ReplyDelete
  10. Aur haan! Kanchan ji ko dheron shubhkaamnayen!

    ReplyDelete
  11. उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
    हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं
    .......bahut khoob...
    kanchan ko sneh shubhkamnayen

    ReplyDelete
  12. कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं

    उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
    जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं

    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  13. धड़क उठा जो ये दिल उनके देखने भर से
    कहो तो इसमें भला क्या मेरी ख़ताएँ हैं

    सही बात है। मुकदमा तो उनपर चले।

    ReplyDelete
  14. bahut hii bhavbhini gazal.
    kanchan ji ko janamdin ki shubhkamnayein.

    ReplyDelete
  15. गौतम जी, हर शेर लाजवाब कर रहा है, समझ में नहीं आरहा कि किसकी तारीफ करूं, किसकी नहीं।
    ………….
    ये साहस के पुतले ब्लॉगर, इनको मेरा प्रणाम
    शारीरिक क्षमता बढ़ाने के 14 आसान उपाय।

    ReplyDelete
  16. खुला है भेद सियासत का जब से, तो जाना
    गुज़ारिशों में छुपी कैसी इल्तज़ाएँ हैं

    भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं"


    सबने अपने-अपने मन के शेर चुने मैंने भी दो शेर चुन लिये हैं। बहुत खूब! मुझे ये देख कर खुशी हुई कि एक शाइर अपने दिलो-दिमाग और अपने भीतर के शाइर को हर तरह के हालात में सजग रखता हैै। बधाई अपने इस शाइर का ख्याल रखियेगा।
    और हां हरजीत जी के विषय में जानकारी के लिए शुक्रिया। कंचन को मेरी भी जन्मदिन की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. कंचन को जन्म दिन की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  18. गौतम जी ग़ज़ल आज दोपहर में ही पढ़ लिया था तरही मुशायरे के नज़र, बढ़िया लगी..अभी आपके ब्लॉग पर नज़र गई तो दुबारा पढ़ना भी सुखद था....सुंदर एहसास लिए बढ़िया ग़ज़ल..बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  19. ग़ज़ल तो गुरु कुल में सुबह ही पढ़ ली थी मगर आज आपके ब्लॉग पर इसे पढ़ने से ज्यादा आपको सुन रोमांचित और आश्चर्यचकित हूँ ! इतनी बड़ी बात कैसे छुपाई हमसे ??? आवाज़ में अजीब सी कशिश है, सादगी है , एक अलग आकर्षण है ... कमाल कर दिया ... उधर से आये हो और आखिरी शे,र ने फिर कुछ सोचने पर मजबूर कर दिया मुझे ....

    ढेरो बधाईयाँ बहन जी को पहले तो उनके इस जन्म विशेष दिन पर ... अल्लाह मियाँ उनको इतनी खुशियों से लाद दे कोई ख़ुशी बचे ही ना पाने के लिए ...


    अर्श

    ReplyDelete
  20. गौतम भाई.... आज की पोस्ट बहुत उम्दा लगी.....

    ReplyDelete
  21. yeh mubaarkbaad or fir ghzl kaa andaaz maashaa allah mzaa aa gyaa . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  22. कंचन जी को शुभकामनाएं तो दूँगा ही..मगर एक अनमोल शायर की लिखी एक खूबसूरत ग़ज़ल के साथ जन्मदिन मनाने की किस्मत कितनो को नसीब होती है..फिर तरही का लुत्फ़े-बरसात भी..लम्बे वक्त के बाद यहाँ पर ग़ज़ल से तार्रुफ करना अच्छा लगा..खासकर यह शेर बहुत सामयिक लगा
    भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं
    तो यह शेर इश्क के पारंपरिक अदाज को और उँचाई देता है
    उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं
    वैसे इसे आपकी सबसे बेहतरीन ग़ज़ल तो नही कहूँगा...मगर मौसम के लिहाज से बहुत अनुकूल लगी..और उजली बारिशें...क्या बात है..हाँ पहले शे’र मे ’लें बलाएँ हैं’ कहीं पर खटकता है...
    कंचन जी को और आपके/आपकी अनाम दोस्त को जनमदिन की मुबारकबाद! ;-)

    ReplyDelete
  23. Achha laga aapko "Bikhare Sitare"pe dekh ke...antim do kadiyan maine edit karne se pahle aapke liye waise hi kuchh din chhod rakhin thin...unhen waise hi chhodna khatre se khali nahi tha...gar aap mere doosre blog,"simte lamhen"pe comment karen to mai aapko jawab me e-mail dwara unhen post kar sakti hun!Warna ye kadiyan be sir pair kee mahsoos hongi...inmese kayi tathy delete kar diye hain.

    ReplyDelete
  24. भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं

    क्या बात है, गौतम जी. सुन्दर गज़ल है. कंचन जी को मेरी भी बधाई. आपकी आवाज़ में गज़ल सुनना आनन्दित कर गया.

    ReplyDelete
  25. उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
    हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं...
    दवा हकीम से ली ही क्यूँ ...:)
    खूबसूरत ग़ज़ल ...
    कंचन जी को शुभकामनायें ...!

    ReplyDelete
  26. मैं ग़ज़ल पढने दोबारा आया.... जब भी किसी चीज़ को सीखने की ललक हो... तो अपने से बेहतर को ढूंढना चाहिए.... आप ग़ज़ल के क़ायदे और उसूल को फौलो करते हुए ...बहुत खूबसूरती से एहसास ले आते हैं.... मुझे लगता है.... मेरे सीखने की ललक को .... बेहतर मिल गया है.... क्या आप मेरी मदद करेंगे... ?

    ReplyDelete
  27. कंचन जी को जन्मदिन की शुभकामनांए।
    मजेदार गज़ल, मधुर आवाज, धन्‍यवाद.

    ReplyDelete
  28. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं!

    ReplyDelete
  29. कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं.
    उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
    हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं
    ,,,बेहतरीन !
    कंचन को जन्म दिन की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  30. :)


    अभी सिर्फ स्माइल..
    यूं नहीं के वक़्त नहीं है कमेन्ट देने का..खूब है जी..

    पर वो मूड नहीं है...जिसमें कमेन्ट दिया करते हैं हम...

    ReplyDelete
  31. गौतम साहब.....
    पूरे फार्म में हैं दिखे इस बार आप.....हमारी इल्तिजा मान ली शुक्रिया...... वाकई एक अरसा हो गया था आपकी ग़ज़ल पढ़े हुए.......!
    उलझ के ज़ुल्फ़ में उनकी गुमी दिशाएँ हैं
    बटोही रास्ते खो कर भी लें बलाएँ हैं
    .....आपकी बलाएँ लेने को जी चाह रहा है फ़िलहाल.....!

    धड़क उठा जो ये दिल उनके देखने भर से
    कहो तो इसमें भला क्या मेरी ख़ताएँ हैं
    ......कुछ पुराने दिन याद आ गए जैसे इस शेर को पढ़ के.....बेहतरीन.!

    उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं
    .......क्या एहसास हैं और क्या उनकी अदायगी....न्योछावर हो गए हुज़ूर हम आप par !

    सिखाये है वो हमें तौर कुछ मुहब्बत के
    शजर के शाख से लिपटी ये जो लताएँ हैं

    मुहब्बत का क्या नया अंदाज़ है......! पोर्टेट सी खिंच गयी सामने...!
    उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
    हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं

    यह शेर हमें उधार दे दें......!

    कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं
    तरही को क्या फलक बख्शा है.......ज़मीं के कराहने का बिलकुल अद्भुत विम्ब.....!
    उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
    जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं
    अब इसके बाद तारीफ़ में लिखने को कुछ नहीं रह जाता......!

    ReplyDelete
  32. "उन्हीं के नाम का अब आसरा है एक मेरा
    हक़ीम ने जो दीं, सब बेअसर दवाएँ हैं"

    "कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं"

    बड़े दिनों बाद दर्शन मिल !!!!! हमेशा की तरह हर एक शेर बेमिसाल

    ReplyDelete
  33. उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं

    सिखाये है वो हमें तौर कुछ मुहब्बत के
    शजर के शाख से लिपटी ये जो लताएँ हैं

    भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं

    उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
    जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं
    .. Beautiful x 4 !!

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब ! बस ऑडियो में आवाज इतनी धीमी है कि फुल वोल्यूम में भी सुने नहीं दे रही.

    ReplyDelete
  35. उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
    जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं

    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  36. उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं
    ..........
    वाह क्या बात है !

    ReplyDelete
  37. मजबूरियाँ क्या ना करायें ? अब क्या करे जब किसी अज़ीज़ के साथ किसी और का जन्मदिन पड़ जाये तो कैसे उसे इग्नोर करें ? :)

    फिर भी भाई हमें शुभकामनाएं मिलने के योग बने थे तो मिल गईं ढेरों ढेर शुभकामनाएं...!

    आप सबका धन्यवाद...! जिन्होने यहाँ से दुआएं भेजीं, हम अपना सामान बटोर के लिये जा रहे हैं।

    ReplyDelete
  38. ............:-)

    ReplyDelete
  39. भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शहर की हवाएँ हैं....
    पूरी ग़ज़ल बेहतरीन है गौतम जी..और ये शेर
    लाजवाब....गहन चिन्तन का आईना बन गया.

    ReplyDelete
  40. धड़क उठा जो ये दिल उनके देखने भर से
    कहो तो इसमें भला क्या मेरी ख़ताएँ हैं

    उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं

    और...
    भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं . . .

    बहुत ही खूबसूरत और दिलचस्प अश`आर कहे हैं जनाब

    ढेरों दुआएं

    ReplyDelete
  41. शेर पढ़ कर सिर्फ मुस्कुराने के अलावा कुछः सूझ नहीं रहा... :-)

    ReplyDelete
  42. भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं

    कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं
    Ab to ghaton ko barasana hee pada hoga.

    ReplyDelete
  43. ऊपर लिखे इतने कमेन्ट को देखा कर लगता है हमने गज़ल की समझ कब आएगी. कुछ लोगों ने बहुत बेहतर तरीके से इसका आनंद लिया है. जैसे सिंह साहब, अपूर्व और संजीव जी ने...

    ReplyDelete
  44. पढ़ लिया, सुन नहीं पाया इसलिए अभी तारीफ़ पूरी नहीं कर रहा क्योंकि अभी हक़दार नहीं हूँ इसका।
    लौट कर, सुन कर आगे बात होगी।

    ReplyDelete
  45. maza aa gaya..imandari se bata raha hun :)

    ReplyDelete
  46. पूरी ग़ज़ल बहुत ही बढ़िया है, बधाई स्वीकारें ...पर आवाज तो मुझे भी नहीं सुनाई दे रही.

    और हाँ, कंचन जी को शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  47. भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं

    कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं


    वाह...वाह...वाह...
    लाजवाब...अद्वितीय !!!

    कमजोर नेट कनेक्शन ने आपकी बेसुरी आवाज नहीं सुनने दी है अभी..अफ़सोस है......

    एक अफ़सोस और कि beemaaree में नेट से दूर rahne के karan kanchan को wish नहीं कर paayi...

    ReplyDelete
  48. उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं

    सिखाये है वो हमें तौर कुछ मुहब्बत के
    शजर के शाख से लिपटी ये जो लताएँ हैं

    भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शह्‍र की हवाएँ हैं

    उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
    जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं

    हर एक शेर सुंदर एहसास लिए



    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  49. भटकती फिरती है पीढ़ी जुलूसों-नारों में
    गुनाहगार हुईं शहर की हवाएँ हैं....

    बहुत ख़ूब !
    गौतम ,देर से आई हूं सब कुछ तो लिखा जा चुका शायद
    नेक ख़्वाहिशात क़ुबूल कर लो

    ReplyDelete
  50. बेहद उमदा गज़ल। कंचन को फिर से ढेरों आशीर्वाद। जल्दी मे हूँ। शुभकामनायें दोनो भाई बहन का प्यार यूँ ही बना रहे।

    ReplyDelete
  51. 'कराहती है ज़मीं उजली बारिशों के लिये
    फ़लक पे झूम रहीं साँवली घटाएँ हैं'

    - सुन्दर.

    ReplyDelete
  52. bada meetha sa kah gaye

    उधर से आये हो, कुछ जिक्र उनका भी तो कहो
    सुना है, उनके ही दम से वहाँ फ़िज़ाएँ हैं

    Kanchan ke janmdin ka der se pata chala ... Kanchan janamdin par meri hardik shubhkamnaa

    tum isi tarah aage badti raho yahi dua hai

    ReplyDelete
  53. उठी थी हूक कोई, उठ के इक ग़ज़ल जो बनी
    जुनूँ है कुछ मेरा तो उनकी कुछ अदाएँ हैं
    ..वाह!

    ReplyDelete
  54. aap ke blog par aakar bahut anand bhi aya peeda bhi hui ,sneh ,viyog,balidan ,sambandh sabhi kuch to hai aapke blog per.Swagat ,badhaiyan,aabhar.
    sasneh,
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    ReplyDelete

ईमानदार और बेबाक टिप्पणी दें...शुक्रिया !